पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ओटी की संख्या बढ़ी तो हुआ ऑपरेशन:कोंडागांव जिला अस्पताल में एक दिन में मोतियाबिंद के 9 मरीजों का किया गया सफल ऑपरेशन, सप्ताह में दो दिन ही होगी सर्जरी

जगदलपुर/कोंडागांव24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोंडागांव के जिला अस्पताल में मंगलवार को मोतियाबिंद के 9 मरीजों का सफल ऑपरेशन किया गया। - Dainik Bhaskar
कोंडागांव के जिला अस्पताल में मंगलवार को मोतियाबिंद के 9 मरीजों का सफल ऑपरेशन किया गया।

छत्तीसगढ़ के कोंडागांव के जिला अस्पताल में मंगलवार को मोतियाबिंद के 9 मरीजों का सफल ऑपरेशन किया गया। ये सभी मरीज कोंडागांव जिले के ही हैं। प्रशासन ने शिविर लगाकर मोतियाबिंद के मरीजों की पहचान की , फिर उन्हें जिला अस्पताल में भर्री किया कराया। जिसके बाद मंगलवार को नेत्र सर्जन डाॅ कल्पना मीणा एवं जिला अंधत्व निवारण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डाॅ हरेन्द्र बघेल ने मोतियाबिंद के 9 मरीजों का सफल ऑपरेशन किया है। कोरोना संक्रमण की वजह से अप्रैल से ऑपरेशन करना बंद कर दिया गया था, लेकिन मंगलवार से फिर से शुरुआत हो गई है।

मोतियाबिंद का ऑपरेशन करने के बाद मरीजों को वार्ड में भर्ती किय गया है।
मोतियाबिंद का ऑपरेशन करने के बाद मरीजों को वार्ड में भर्ती किय गया है।

बढ़ी ओटी की संख्या तो एक साथ हुआ ऑपरेशन

कोंडागांव CMHO टीआर कुंवर व जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ संजय बसाख ने बताया कि पहले जिला अस्पताल में ऑपरेशन थियेटर की संख्या काफी कम थी। ऐसे में एक दिन में एक या दो ही ऑपरेशन हो पाते थे। लेकिन हाल ही में यहां ऑपरेशन थियेटर की संख्या बढ़ाई गई है। जिसका परिणाम है कि एक ही दिन में एक साथ मोतियाबिंद के 9 मरीजों का ऑपरेशन किया गया है। वहीं जिला अस्पताल में नेत्र रोगियों के उपचार में तेजी आई है। जिससे जिले के नेत्र रोगियों को लाभ भी मिल रहा है।

कोंडागांव स्वास्थ्य विभाग के द्वारा इन दिनों मोतियाबिंद मुक्त विकासखंड अभियान चलाया जा रहा है।
कोंडागांव स्वास्थ्य विभाग के द्वारा इन दिनों मोतियाबिंद मुक्त विकासखंड अभियान चलाया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग चला रहा मोतियाबिंद मुक्त विकासखंड अभियान

कोंडागांव स्वास्थ्य विभाग के द्वारा इन दिनों मोतियाबिंद मुक्त विकासखंड अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जिले के हर ब्लॉक में मोतियाबिंद के मरीजों की पहचान करने के लिए शिविर लगाया जा रहा है। इस शिविर के माध्यम से मोतियाबिंद के मरीजों की पहचान कर उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। वहीं ऑपरेशन के लिए सप्ताह में दो दिन निर्धारित किए जाएंगे। बाकी के दिनों में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा ब्लॉक स्तर पर जाकर रोस्टर के अनुसार शिविर लगाकर इलाज किया जाएगा। वहीं दोनों आंखों में मोतियाबिंद वाले मरीजों को प्राथमिकता देते हुए उनकी सर्जरी पहले की जाएगी।

खबरें और भी हैं...