युवा बोले- वैक्सीन लगवाएंगे तो नपुंसक हो जाएंगे:युवतियों का तर्क- सुई लगवाई तो मां नहीं बन पाएंगी; बुजुर्गों ने कहा- इससे हम 3 साल में मर जाएंगे, फिर घर कौन चलाएगा

जगदलपुर/दंतेवाड़ाएक वर्ष पहले
दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय के बेहद करीब के पनेड़ा गांव में वैक्सीनेशन को लेकर जबरदस्त अफवाह उड़ी हुई है।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले का नक्सल प्रभावित गांव रेंगानार कोरोना काल में 100 फीसदी वैक्सीनेशन होने से मिसाल बन गया है। वहीं जिला मुख्यालय से बेहद करीब के पनेड़ा गांव में जागरुकता की कमी ने प्रशासन के लिए मुसीबत बन गई है। यहां युवक-युवतियों को वैक्सीन लगवाने से नपुंसक होने का भ्रम है। वहीं, बुजुर्गों को मौत का डर है। यहां तक कि इनको जागरूक करना भी खतरे से खाली नहीं है। ग्रामीण या तो खुद भाग जाते हैं या वैक्सीनेशन टीम को डंडों से खदेड़ देते हैं।

गांव में बैठे युवाओं से जब हमने बात की तो उन्होंने कहा कि यदि वैक्सीन लगवा लेते हैं तो हम नपुंसक हो जाएंगे।
गांव में बैठे युवाओं से जब हमने बात की तो उन्होंने कहा कि यदि वैक्सीन लगवा लेते हैं तो हम नपुंसक हो जाएंगे।

18 प्लस वाले बोले - वैक्सीन लगा ली तो नहीं बन पाएंगे माता-पिता
गीदम ब्लॉक मुख्यालय से महज 3 किमी दूर पनेड़ा गांव। जब दैनिक भास्कर की टीम गांव में पहुंची तो सड़क किनारे एक कच्चे मकान के सामने कुछ युवा बैठे हुए थे। उनसे कोरोना संक्रमण और वैक्सीनेशन को लेकर बात की। पहले तो कुछ बोलने को तैयार नहीं हुए, फिर कहा वैक्सीन लगवाएंगे तो नपुंसक हो जाएंगे। पिता बनने का सुख नहीं मिलेगा। वहीं युवतियां भी ऐसा ही सोचती हैं। उन्हें भी लगता है कि वैक्सीनेशन कराने के बाद वे मां नहीं बन पाएंगी।

बुजुर्गों ने कहा- सुई लगवाई तो मर जाएंगे, घर कौन चलाएगा
ऐसी ही स्थिति बुजुर्गों की भी है। अफवाह और गलतफहमी के कारण गांव के बुजुर्गों को लगता है कि वैक्सीनेशन के बाद वे मर जाएंगे। इस संबंध में जब उनसे बात की तो सब एक साथ बोले कि वैक्सीन लगवाने के तीन साल के अंदर वे मर जाएंगे। अगर मर गए तो हमारा घर कौन चलाएगा। हमें अभी जीना है।

जागरुकता की यही कमी प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती बन गई है। हालांकि ग्रामीणों को बार-बार जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है।

ग्राम पंचायत भवन में सचिव व जागरूकता दल के सदस्य बैठे हुए हैं। जो ग्रामीणों को टीकाकरण केंद्र तक कैसे लाएं इसकी योजना बना रहे।
ग्राम पंचायत भवन में सचिव व जागरूकता दल के सदस्य बैठे हुए हैं। जो ग्रामीणों को टीकाकरण केंद्र तक कैसे लाएं इसकी योजना बना रहे।

जागरुकता दल बुलाने जाता है तो भाग जाते हैं या लाठी लेकर दौड़ाते हैं
ग्रामीणों को कोरोना की वैक्सीन लगाने जागरूक करने के लिए जागरुकता दल का गठन किया गया है। पनेड़ा के जागरुकता दल के सदस्य बसंत यादव ने बताया कि अप्रैल से दल बनाया गया है। वे ग्रामीणों को उनके घर बुलाने जाते हैं तो लड़ना शुरू कर देते हैं। बुजुर्ग न खुद केंद्र पहुंचते हैं और न घर के युवाओं को जाने दे रहे हैं। ज्यादा दबाव बनाओ तो कई बार ग्रामीणों ने लाठी लेकर भी दौड़ा लिया है। कई हमें देखकर भाग भी जाते हैं।

अब तक 639 लोगों को लगा टीका
पनेड़ा ग्राम पंचायत के सचिव ने बताया कि करीब 1836 की आबादी वाले इस गांव में बड़ी मुश्किल से 18 व 45 प्लस वाले कुल 639 लोगों को ही टीका लग पाया है। इनमें 383 बुजुर्ग शामिल हैं। इन्हें भी बड़ी मुश्किल से वैक्सीनेशन केंद्र लाया गया। अन्य लोगों को टीकाकरण केंद्र तक भी लेकर जाना प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती है। फिलहाल प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ग्रामीणों को जागरूक करने का प्रयास कर रही है।

टीकाकरण को लेकर गांव के बुजुर्गों ने कहा यदि हम सुई लगवा लेते हैं तो मर जाएंगे।
टीकाकरण को लेकर गांव के बुजुर्गों ने कहा यदि हम सुई लगवा लेते हैं तो मर जाएंगे।

रेंगानार ग्राम पंचायत बनी मॉडल
दंतेवाड़ा जिले की नक्सल प्रभावित ग्राम पंचायत रेंगानार की आधी आबादी अशिक्षित है। इसके बाद भी 100% वैक्सीनेशन कर प्रदेश की पहली मॉडल ग्राम पंचायत बन गई है। यहां भी वैक्सीनेशन का काम पूरा करना आसान नहीं था। नपुंसकता, बीमार पड़ने, अपंगता जैसी कई अफवाहों ने भी यहां के ग्रामीणों को खूब डराया। ग्रामीण एक कदम पीछे भी हटे, लेकिन जब स्वास्थ्य विभाग की टीम, ग्राम पंचायत ने उदाहरणों के साथ ग्रामीणों को टीकाकरण का महत्व समझाया।

खबरें और भी हैं...