नक्सल गढ़ के गांवों में बनेंगे बस स्टैंड:बस्तर में पहली बार CRPF ने बनावाया यात्री प्रतीक्षालय, गमावाड़ा से हुई शुरुआत; सोलर लाइट्स लगाई गईं

जगदलपुर/दंतेवाड़ा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दंतेवाड़ा जिले के गमावाड़ा में CRPF की ओर से बनाया गया बस स्टैंड। - Dainik Bhaskar
दंतेवाड़ा जिले के गमावाड़ा में CRPF की ओर से बनाया गया बस स्टैंड।

छत्तीसगढ़ के बस्तर में तैनात CRPF 230 बटालियन ने ग्रामीणों को राहत पहुंचाने के लिए अब बस स्टैंड और यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण करवा रही है। जिसकी शुरुआत दंतेवाड़ा जिले के गमावाड़ा से की गई है। बस्तर में ऐसा पहली बार है कि CRPF सिविक एक्शन कार्यक्रम में इस तरह की नई पहल कर रही है। इसका सीधा फायदा ग्रामीणों को मिलेगा। क्योंकि, जिले के हर नक्सलगढ़ गांव में यात्री प्रतीक्षालय और बस स्टैंड नहीं है। जिससे वाहन का इंतजार करने ग्रामीणों को धूप हो या फिर बारिश पेड़ के नीचे ही खड़ा होना पड़ता है।

यह पहला मौका है जब CRPF सिविक एक्शन कार्यक्रम के तहत बस स्टैंड निर्माण करवा रही है। इसका उद्घाटन करने नेरली CRPF 230 बटालियन के कमांडेंट दिनेश सिंह चंदेल गमावाड़ा पहुंचे। यहां ग्रामीणों के साथ मिलकर बस स्टैंड का उद्घाटन किया। इस सुविधा के मिलने से ग्रामीण बेहद खुश हैं। ग्रामीणों ने कहा कि यह CRPF की बहुत ही अच्छी पहल है। इसका लाभ हम सभी को मिलेगा। कमांडेंट दिनेश सिंह चंदेल ने बताया कि नागरिक सहायता कार्यक्रम के तहत गांवों में बस स्टैंड बनवा रहे हैं। ताकि इसका उपयोग ग्रामीण कर सकें।

CRPF 230 बटालियन के कमांडेंट दिनेश सिंह चंदेल ने उद्घाटन किया है।
CRPF 230 बटालियन के कमांडेंट दिनेश सिंह चंदेल ने उद्घाटन किया है।

उन्होंने कहा कि हमने यह पाया गांवों में बस स्टैंड, यात्री प्रतीक्षालय का अभाव है। जिससे ग्रामीणों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में हमने तय किया कि इस कार्यक्रम के तहत गांवों में यही बनवाएं। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि CRPF आप सभी की सुरक्षा और सहयोग के लिए हमेशा तैयार है। आगे और भी काम होंगे। जिन गांवों में बटालियन का कैंप है और इसके आस-पास ने जिन इलाकों का चयन किया है वहां बस स्टैंड बनाए जाएंगे। ये सभी धुर नक्सल प्रभावित गांव हैं। अफसरों ने बताया कि ग्रामीणों को बारिश, धूप से बचाव होगा।

सोलर लाइट से फैलाएंगे उजाला
बटालियन के कमांडेंट ने बताया कि, सिर्फ बस स्टैंड निर्माण ही नहीं बल्कि गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट भी लगवाएंगे। इसके लिए उन गांवों का सर्वे हो रहा है जहां अब तक बिजली नहीं पहुंची है। सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने का काम भी जल्द होगा। ताकि इसका भी फायदा लोगों को मिल सके। जिन गांवों की गलियों में अंधेरा पसरा रहता है वहां भी उजाला हो।