व्यापारी बोले-अब नहीं टूटने देंगे मकान और दुकान:सड़क चौड़ीकरण के विरोध में डेढ़ घंटे तक जगदलपुर-रायपुर मुख्यमार्ग में किया चक्काजाम, जमकर की नारेबाजी

जगदलपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
NH-30 के चौड़ीकरण को लेकर एक बार फिर व्यापारियों ने चक्काजाम किया है। - Dainik Bhaskar
NH-30 के चौड़ीकरण को लेकर एक बार फिर व्यापारियों ने चक्काजाम किया है।

छत्तीसगढ़ के जगदलपुर शहर में NH-30 के चौड़ीकरण को लेकर एक बार फिर व्यापारियों ने विरोध शुरू कर दिया है। रविवार को 60 से ज्यादा दुकानों के व्यापारी और इलाके के रहवासियों ने NH-30 जगदलपुर-रायपुर मुख्यमार्ग में चक्काजाम किया। करीब डेढ़ घंटे तक दर्जनों लोग सड़क पर ही बैठे रहे और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। हालांकि प्रशासन कि समझाइश के बाद जाम खोल दिया गया। लोगों का कहना है कि यदि एक बार फिर से सड़क चौड़ी करने का काम किया जाता है तो उन्हें नुकसान झेलना पड़ेगा।

दरअसल, कोर्ट से लेकर बोधघाट तक सड़क चौड़ीकरण करने के लिए कुछ माह पहले ही सड़क के किनारे लगभग 9 मीटर तक दुकान और मकानों की तोड़-फोड़ की गई थी। लेकिन, सड़क के मापदंड के हिसाब से इसे कम बताया जा रहा है। इसलिए 1 मीटर और चौड़ा करने का आदेश जारी किया गया है। जिसकी खबर मिलते ही व्यापारियों और रहवासियों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। व्यापारियों का आरोप है कि, कुछ महीने पहले ही कोर्ट से लेकर बोधगाट थाना तक सड़क चौड़ीकरण के लिए सड़क किनारे स्थित मकान और दुकान दोनों को तोड़ा गया था।

प्रशासन की समझाइश के बाद जाम खोला गया
प्रशासन की समझाइश के बाद जाम खोला गया

बड़ी मुश्किल से उन्होंने फिर से अपनी दुकानें बनाईं। टूटे मकानों की मरम्मत करवाई। शुभम अग्रवाल, सैराभ अग्रवाल, गोविंद ईनाणी, धरम कश्यप समेत अन्य व्यापारियों और लोगों ने बताया कि दोनों तरफ लगभग 9 मीटर तक दुकानें टूटने से बड़ी परेशानी हुई थी। कोरोना की वजह से दुकानदारी भी चौपट हो गई थी। दुकान और मकान को फिर से बनाया गया और अब 1 मीटर सड़क और चौड़ीकरण करने की बात कही जा रही है। प्रशासन गरीबों के साथ ये कैसा खेल, खेल रहा है। व्यापारियों ने कहा कि, यदि फिर से दुकान और मकान तोड़े जाते हैं तो हम सड़क पर आ जाएंगे। कोरोना महामारी में सब की आर्थिक स्थित वैसे भी खराब हो गई है।

धूल से परेशान हो रहे लोग
बोधगाट इलाके की रहने वाली मितलेश ईनाणी ने कहा कि पिछली बार भी यहां सड़क चौड़ीकरण करने के लिए दुकानें तोड़ी गई थी। चौड़ीकरण का काम भी शुरू किया गया था। लेकिन ठेकेदार बहुत धीमी गति से काम करवा रहे हैं। धूल के गुब्बारे उड़ने और सड़क पर मलवा पड़े रहने से परेशानी बढ़ रही है। इलाके के लोग परेशान हो रहे हैं। धूल के उड़ते गुब्बारों से सांस लेने में तकलीफ हो रही है। बच्चों पर इसका ज्यादा असर पड़ रहा है। लेकिन फिर भी जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...