ब्लास्ट में 2 जवान घायल:बीजापुर में सर्चिंग पर निकला था बम निरोधक दस्ता, अचानक IED पर पैर आने से चपेट में आए 2 जवान; अस्पताल में इलाज जारी

जगदलपुर2 महीने पहले

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में गुरुवार की सुबह प्रेशर IED की चपेट में आने से CRPF के 2 जवान जख्मी हो गए हैं। घायल जवानों को बीजापुर के जिला अस्पताल लाया गया है, जहां उनका इलाज जारी है। बताया जा रहा है कि दोनों जवानों को मामूली चोटें आई हैं। दोनों जवान CRPF 170BN के बम निरोधक दस्ता (BDS) टीम के सदस्य हैं।

जानकारी के अनुसार, जिले के मुरकीनार CRPF कैंप के जवान सुबह सर्चिंग के लिए मोदकपाल थाना क्षेत्र के हल्बापारा की टेकरी पर निकले थे। वहीं माओवादियों ने इलाके में प्रेशर IED प्लांट किया हुआ था। CRPF की BDS टीम के सदस्य शनिदुल इस्लाम और बालकिशन अपने डॉग और मेटल डिटेक्टर को लेकर सर्चिंग करते हुए आगे बढ़ रहे थे। इतने में एक जवान का पैर प्रेशर IED के ऊपर आ गया। इससे IED ब्लास्ट हुआ और आगे जा रहा जवान भी उसकी चपेट में आ गया और दोनों घायल हो गए हैं।

घायल जवान का इलाज अस्पताल में जारी।
घायल जवान का इलाज अस्पताल में जारी।

इलाके में सर्चिंग जारी
इधर, इस घटना के बाद CRPF जवान लगातार इलाके की सर्चिंग कर रहे हैं। यह पूरा इलाका नक्सलियों का गढ़ है। अक्सर जवान इन्हीं इलाकों से होते हुए ऑपरेशन पर निकलते हैं। नक्सली इस इलाके में IED प्लांट करते हैं। इस बार इसकी चपेट में 2 जवान आ गए हैं। इससे पहले भी जवानों ने इसी इलाके से कई IED बरामद किए हैं।

बम निरोधक दस्ता क्या है
बम निरोधक दस्ता मुख्य तौर पर बम और IED को डिफ्यूज करने का काम करता है। यह बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है। यही वजह है कि इस दस्ते में खास तौर पर ट्रेंड जवानों को शामिल किया जाता है। खासकर बस्तर जैसे इलाकों में इस दस्ते की भूमिका महत्वपूर्ण है। बस्तर के कई इलाकों में नक्सली इस तरह से IED प्लांट कर जवानों को फंसाने की फिराक में रहते हैं। नक्सली ज्यादातर रोड,जंगल के क्षेत्र में IED प्लांट कर जवानों को निशाना बनाते हैं। कई बार यह भी देखा गया है कि जवानों की चौकसी के कारण IED प्लांट होने की बात पहले की सामने आ जाती है, तब यही बम निरोधक दस्ता मौके पर जाकर उसे डिफ्यूज करता है। 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की हत्या नक्सलियों ने रोड में IED ब्लास्ट कर की थी।

खबरें और भी हैं...