मौत का बढ़ता ग्राफ:पहली लहर के 365 दिनों में 76 की मौत, दूसरी लहर के 21 दिनों में ही 18 की मौत

कांकेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक दिन में 3 की मौत, 5 दिनों में 12 मौतों के साथ आंकड़ा 94 पर

जिले में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ अब मौतें भी तेजी से बढ़ रही है। अब एक दिन में औसतन दो से तीन मौतें हो रही है। कोरोना की पहली लहर में एक साल में 76 कोरोना पॉजिटिव की मौत हुई थी जबकि दूसरी लहर में 21 दिनों में ही 18 मरीजों की मौत हो चुकी है। इन 18 मौतों में भी 12 की पिछले पांच दिन में मौतें हुई है। अब भी कई कोरोना पॉजिटिव मरीजों की हालत चिंताजनक बनी हुई है।

गुरुवार 15 अप्रैल को कांकेर कोविड अस्पताल में भर्ती तीन गंभीर मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई। मरीजों में वन विभाग में पदस्थ पखांजूर के ग्राम कापसी निवासी 30 साल के वनरक्षक की गुरूवार सुबह सबसे पहले मौत हुई। इसके कुछ देर बाद चारामा की 78 साल की महिला की भी इलाज के दौरान मौत हो गई।

महिला को सांस लेने में तकलीफ थी। दोपहर में कांकेर के ही एक 60 साल के बुजुर्ग पुरूष की मौत हो गई। इसके लावा कई गंभीर मरीज वेंटीलेटर पर हैं जिनका इलाज कोविड अस्पताल स्टाफ कर रहा है। जिले में पिछले साल 21 मार्च 2020 से जनता कर्फ्यू व इसके बाद से लॉकडाउन शुरू हुआ था।

जिले में पहले कोराेना पॉजिटिव मरीज की मौत 9 अगस्त को हुई थी। कोरोना संक्रमण के साल भर में 21 मार्च 2021 तक कुल 76 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हुई थी। इस साल मार्च के अंतिम सप्ताह से फिर से मरीजों की संख्या बढ़ने लगी। इसे देखते 25 मार्च से एक बार फिर जिले में धारा 144 लागू कर कोविड नियमों का कड़ाई से पालन कराना शुरू किया गया। इसके बाद भी मरीजों की संख्या व मौत के आंकड़े थम नहीं रहे हंै।

शहर के मांझापारा में एक ही दिन 14 कोरोना पॉजिटिव मरीज िमले

ये भी जानिए, पिछले पांच दिनों में ऐसे हुई 12 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत

  • 11 अप्रैल: चारामा जैसाकर्रा की 53 वर्षीय महिला की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 12 अप्रैल: दुर्गूकोंदल में सड़क हादसे में घायल 21 वर्षीय पॉजिटिव युवक की कांकेर में मौत।
  • 12 अप्रैल: कांकेर ब्लाक की 60 वर्षीय महिला की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 12 अप्रैल: पखांजूर पीवी 13 की महिला की जगदलपुर में इलाज के दौरान मौत।
  • 12 अप्रैल: चारामा ब्लाक के 73 साल के पुरूष की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 13 अप्रैल: नरहरपुर के ग्राम बादल के 43 वर्षीय युवक की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 14 अप्रैल: कांकेर साकेत नगर की 68 वर्षीय महिला की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 14 अप्रैल: चारामा के नवागांव के 32 साल के युवक की कांकेर कोविड अस्पताल में मौत।
  • 14 अप्रैल: इरपानार की 35 वर्षीय पॉजिटिव महिला की पंखाजूर अस्पताल मेंं मौत।
  • 15 अप्रैल: पखांजूर कापसी के 30 साल के युवक की कांकेर में मौत।
  • 15 अप्रैल: चारामा के 69 साल की महिला की कांकेर में इलाज के दौरान मौत।
  • 15 अप्रैल: कांकेर के 60 साल के पुरूष की इलाज के दौरान मौत।

अब बुजुर्ग ही नहीं युवाओं को भी लील रहा कोरोना

पिछले साल कोरोना से जो मौतें हुई उनमें अधिकांश बुजुर्ग होने के साथ हाई ब्लडप्रेशर व शुगर जैसे बिमारी से ग्रसित पॉजिटिव मरीज थे। दूसरे लहर में पूरी तरह स्वस्थ्य लोग भी इसके चपेट में आ रहे हैं। मरने वालों में सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं युवा भी शामिल हैं। पिछले पांच दिन में मरने वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को देखे तो इनमें पांच ऐसे की उम्र 21 से 43 के बीच है।

मांझापारा में मरीज बढ़े लेकिन कंटेनमेंट जोन नहीं बना

शहर के बीच मांझापारा में 14 अप्रैल को एक ही दिन 14 पॉजिटिव मरीज िमले। इसके पहले भी मांझापारा में लगातार मरीज मिलते रहे हैं। घनी बस्ती व बाजार का हिस्सा होने के कारण तेजी से संक्रमण फैल रहा है। इसके बाद भी मांझापारा को अबतक कंटेनमेंट जोन घाेषित नहीं किया गया है।

खबरें और भी हैं...