नवरात्र:सालभर बाद देवी मंदिरों में जगमगाए ज्योत दूसरे राज्यों के भक्तों ने भी की मनोकामना

कांकेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजापारा स्थित सिंहवाहिनी मंदिर में ज्योति कलश प्रज्वलित करते श्रद्धालु। - Dainik Bhaskar
राजापारा स्थित सिंहवाहिनी मंदिर में ज्योति कलश प्रज्वलित करते श्रद्धालु।
  • शीतलापारा शीतला मंदिर में सर्वाधिक 501 मनोकामना ज्योतिकलश प्रज्ज्वलित किए गए

पिछले साल कोरोना की वजह से देवी मंदिरों में मनोकामना ज्योति कलश प्रज्ज्वलित नहीं किए गए थे। इस साल कोरोना संक्रमण घटने की वजह से देवी मंदिरों में मनोकामना ज्योति कलशों से मंदिर जगमगा रहे हैं। हर बार की तरह इस वर्ष मंदिरों में धार्मिक आयोजन होंगे। कांकेर के देवी मंदिरों में विभिन्न राज्यों के अलावा विदेशों में रहने वाले श्रद्धालु भक्तों ने भी मनोकामना ज्योति कलश प्रज्ज्वलित कराए हैं।

7 अक्टूबर को नवरात्र के पहले ही दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु देवी मंदिरों में पूजा अर्चना करने तथा माता के दर्शन करने पहुंचे। इस वर्ष सबसे ज्यादा 501 ज्योति कलश शीतलापारा स्थित शीतला मंदिर में प्रज्ज्वलित हुए हैं। यहां यूएसए में रहने वाले एक परिवार के अलावा देश के कर्नाटक, झारखंड, महाराष्ट्र राज्यों में रहने वाले श्रद्धालुओं ने भी ज्योति कलश प्रज्ज्वलित करवाए हैं।

राजापारा सिंहवाहिनी मंदिर में 364 ज्योति कलश प्रज्ज्वलित कराए गए जिसमें 251 तेल के और 113 ज्योति कलश घी के हैं। मनोकामना ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए जाने के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे थे। शांतिनगर वार्ड स्थित बड़े कंकालिन मंदिर में 222 ज्योति कलश प्रज्जवलित कराए गए जिसमें तेल के 201 और घी के 21 ज्योति कलश हैं। यहां शाम चार बजे ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए गए। सिविललाइन शीतला मंदिर में शाम 5 बजे ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए गए। यहां रायपुर, भिलाई, धमतरी, में भी रहने वाले श्रद्धालुओं ने ज्योति कलश प्रज्ज्वलित कराए हैं। अन्नपूर्णापारा वार्ड के मोखला मांझी मंदिर में 96 ज्योति कलश प्रज्जवलित किए गए जो सभी तेल के हैं। कलेक्ट्रेट मार्ग के बड़े शीतला मंदिर में 83 ज्योति कलश प्रज्जवलित किए गए। इसमें 64 तेल के हैं और घी के 19 ज्योति कलश हैं।

नेशनल हाइवे स्थित संतोषी मंदिर में 44 ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए गए जिसमे तेल के 30 और घी के 14 हैं। शहर के गढ़िया पहाड़ स्थित कांकेश्वरी देवी मंदिर में 103 ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए गए। मंदिर में पूजा के दौरान पुजारी राजू दुबे के साथ नवीश चतुर्वेदी, राजकुमार पंजाबी, ओमप्रकाश गिडलानी, सुरेश मोटवानी उपस्थित थे। शीतलापारा वार्ड में दीवान तालाब से लगे प्राचीन भवानी मंदिर में 20 मनोकामना ज्योति कलश प्रज्जवलित किए गए। बरदेभाठा वार्ड के शीतला मंदिर में 72 ज्योति कलश प्रज्जवलित किए गए। श्रीरामनगर के वैष्णो मंदिर में 21 ज्योति कलश प्रज्जवलित किए गए है।

मंदिरों में पूरे नौ दिन होंगे धार्मिक आयोजन
नवरात्र के दौरान पूरे 9 दिन तक देवी मंदिरों में धार्मिक आयोजन होंगे। शांतिनगर वार्ड के बड़े कंकालिन मंदिर में हरवेल, चिपरैल, साल्हेभाठ, व्यासकोंगेरा से देवी देवता व आंगा पहुंचे हैं। नवरात्रि पर रात में सेवा गीत का आयोजन होगा। शीतला पारा के शीतला मंदिर में भी शाम के दौरान सेवागीत का आयोजन होगा। पंचमी में देवी देवता देवी मंदिरों में माता के दर्शन करने बाजे गाजे के साथ जाएंगे।

खबरें और भी हैं...