अंतागढ़ को जिला बनाने की मांग:अपर कलेक्टर, एएसपी की नियुक्ति पर बनी सहमति 15 दिन में यह काम नहीं हुआ तो करेंगे उग्र आंदोलन

कांकेर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अंतागढ़ में प्रशासन व आंदोलनकारी के बीच प्रदर्शन स्थल पर हुई चर्चा। - Dainik Bhaskar
अंतागढ़ में प्रशासन व आंदोलनकारी के बीच प्रदर्शन स्थल पर हुई चर्चा।
  • आंदोलनकारियों और प्रशासन के अफसरों के बीच तीन चरणों की बैठक में हुई सुलह

अंतागढ़ को जिला बनाने की मांग को लेकर बुधवार को 20 घंटे चक्काजाम के बाद रात 8 बजे प्रशासन के आश्वासन पर आंदोलनकारियों ने इसमें ढील दे दी लेकिन आंदोलन जारी है। आंदोलन खत्म कराने गुरुवार को सुबह से प्रशासन तथा आंदोलनकारियों के बीच बैठकें होती रही। तीन चरणों में हुई बैठक के बाद सहमति बनी कि अंतागढ़ में अपर कलेक्टर व एएसपी की 15 दिन में नियुक्ति की जाएगी।

जिला प्रशासन ने इसका आश्वासन दिया। आंदोलनकारियों ने स्पष्ट कर दिया 15 दिनों तक उनका शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रहेगा। 16वें दिन 23 अक्टूबर तक अपर कलेक्टर तथा एएसपी की पदस्थापाना नहीं की जाती है तो उग्र आंदोलन करेंगे। किसी की नहीं सुनेंगे। इस सहमति के बाद मामला शांत होता दिख रहा है। आंदोलनकारी भी मान रहे हैं कि दोनांे अधिकारी की िनयुक्ति के बाद आगे अंतागढ़ के जिला बनने का रास्ता साफ हो जाएगा। अंतागढ़ को जिला बनाने 49 दिनों से चल रहे प्रदर्शन ने बुधवार को उग्र रूप ले लिया था। प्रदर्शनकारियों ने भानुप्रतापपुर-अंतागढ़-नारायणपुर स्टेट हाईवे को 20 घंटे जाम रखा। यह जाम अगले दिन गुरुवार को भी जारी रखने की तैयारी थी।

गुरुवार 7 अक्टूबर को भी बड़ी संख्या में इलाके के ग्रामीण जमा हो गए थे। इसी दौरान उन्हें मनाने जिला प्रशासन की टीम एक बार फिर पहुंची। सबसे पहले एडिशनल कलेक्टर, एसडीएम, एसडीओपी व तहसीलदार ने रेस्ट हाउस में जिला निर्माण समिति के प्रतिनिधि मंडल के साथ बैठक की। यहां जिला प्रशासन ने सीएम हाउस से आए मैसेज को प्रतिनिधि मंडल को बताया जिसमें कहा गया है अंतागढ़ में अपर कलेक्टर व एएसपी की नियुक्ति 15 दिन में कर दी जाएगी। इस मैसेज को अन्य लोगों को बताने बैठक खत्म कर प्रतिनिधि मंडल वापस प्रदर्शन स्थल पहुंचा जहां प्रदर्शन समाप्त नहीं करना तय हुआ।

न रैली निकालेंगे और न ही ज्ञापन सौंपेंगे
दोपहर 2 बजे रेस्ट हाउस में दूसरे दौर की बैठक शुरू हुई। प्रशासन ने कहा वे लिखित में देते हैं कि 15 दिन में अपर कलेक्टर व एएसपी की नियुक्ति हो जाएगी। प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि 15 दिन तक धरना आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान न रैली होगी न ज्ञापन सौंपेंगे।

लिखित में आश्वासन देने तैयार था प्रशासन
तीसरी दौर की बैठक 3.30 बजे प्रशासन ने कहा कि 15 दिन में अफसरों की नियुक्ति हो जाएगी। प्रदर्शन बंद करें। अपर कलेक्टर देवनारायण कश्यप लिखित में आश्वासन देने तैयार थे लेकिन आंदोलनकारी शांतिपूर्ण प्रदर्शन को लेकर अड़ गए। फिर प्रशासन ने लिखित आश्वासन नहीं दिया।

ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने मांगी माफी
ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा कोलर में दिए गए समर्थन की रिकॉर्डिंग सभी को सुनाई गई। इसमें कोलर के समर्थन की बात कही थी। ब्लॉक अध्यक्ष अखिलेश चंदेल ने कहा यदि आपको यह गलत लगता है तो मैं माफी मांगता हूं। अंतागढ़ को जिला बनाने शुरू से मेरा समर्थन रहा है और रहेगा।

अब आगे ये होगा
प्रशासन ने अंतागढ़ को जिला बनाने का आंदोलन खत्म करने कुछ दिनों के लिए बीच का रास्ता निकाल लिया है। दोनों अधिकारियों की िनयुक्ति कर आंदोलन खत्म कराया जा सकता है। साथ ही आंदोलनकारी भी इसे लड़ाई की पहली जीत मान शांत हाे सकते हैं।

नियुक्ति नहीं तो करेंगे उग्र आंदोलन: समिति
जिला निर्माण समिति अध्यक्ष बद्रीनाथ गावड़े ने कहा कि प्रशासन से 15 दिन के अंदर अपर कलेक्टर व एएसपी अंतागढ़ मंे िनयुक्त करने सहमति बनी है। इस दौरान शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रहेगा। यदि 15 दिन में नियुक्ति नहीं हुई तो उग्र आंदोलन होगा और फिर किसी की बात नहीं सुनी जाएगी।

खबरें और भी हैं...