नाबालिग से दुष्कर्म का मामला:अजा संयुक्त मोर्चा ने कहा- न्याय तभी जब फांसी

कांकेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • होली के दिन भानुप्रतापपुर में एसआई ने किया नाबालिग से दुष्कर्म

भानुप्रतापपुर में दलित समाज की नाबालिग युवती के साथ बलात्कार की घटना घटित किए जाने मुख्य आरोपी उप निरीक्षक किशोर तिवारी थाना कांकेर को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। निलंबित उप निरीक्षक किशोर तिवारी कांकेर थाना हाल-रक्षित केंद्र कांकेर के द्वारा की गई गंभीर कदाचरण एवं अनुशासनहीनता के संबंध में पुलिस उप महानिरीक्षक कांकेर रेंज कांकेर की ओर से निम्नानुसार अग्रिम कार्यवाही के लिए प्रतिवेदन प्रेषित किया गया था।

प्रकरण की गंभीरता एवं पीडि़ता के गरिमा को ध्यान में रखते हुए पुलिस उप महानिरीक्षक कांकेर रेंज कांकेर के संवैधानिक प्रावधानों के अनुरूप नियमानुसार निलंबित उप निरीक्षक किशोर तिवारी थाना कांकेर हाल-रक्षित केंद्र कांकेर को विभागीय सेवा से पदच्युत किया गया है।

छत्तीसगढ में इस तरह का पहला घटना होगा जिसमें ऐसे गंभीर प्रकरण में आरोपी के विरूद्ध तत्काल विभागीय कार्यवाही किया गया है। सर्व आदिवासी समाज एवं अनुसूचित जाति संयुक्त मोर्चा की ओर से प्रशासन के द्वारा की गई कार्यवाही के लिए प्रशासन को आभार जताया गया।

सर्व आदिवासी समाज के प्रदेशाध्यक्ष सोहन पोटाई एवं अनुसूचित जाति संयुक्त मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष रतन टांडिया एवं छत्तीसगढ़िया सर्व गांड़ा समाज के द्वारा पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए भरसक प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा केवल किशोर तिवारी को विभागीय सेवा से पदच्युत कर देना ही पर्याप्त नहीं है, न्याय तो तब होगा जब उसे गिरफ्तार कर फांसी की सजा होगी। जितने सहअभियुक्त कारावास में है उन्हें न्यायालय द्वारा फांसी की सजा दी जाएगी। समाज अपनी बेटी के लिए तब तक लड़ता रहेगा, जब तक न्याय नहीं मिलेगा।

खबरें और भी हैं...