पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खाद की किल्लत:दुधावा में टूटा सब्र का बांध, खाद के लिए 15 दिन में किसानों का 9वीं जगह प्रदर्शन

कांकेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लैंपस के पंजीकृत 700 किसानों में से सिर्फ 200 को मिली खाद

जिले में खाद की किल्लत अब गहराती जा रही है। पिछले 15 दिनों में 9 जगह किसान हंगामा कर प्रदर्शन कर चुके है। लेकिन किसानों को खाद नहीं मिल पा रही है। बुधवार काे दुधावा लैम्पस के किसानों ने खाद को लेकर जमकर हंगामा किया। यहां 700 किसान पंजीकृत हैं और अब तक इनमें से सिर्फ 200 किसानों को ही खाद मिल पाई है। लैम्पस ने किसानों को खाद की आपूर्ति करने हाथ खड़े किए तो किसानों का सब्र टूट गया और उन्होंने जमकर हंगामा कर दिया।

दुधावा लैम्पस यहां 700 किसान पंजीकृत हैं। इनमें से 614 किसानों ने खाद के लिए पहले ही परमिट कटवा लिया था लेकिन अब तक इनमें से 414 को खाद नहीं मिली है। पहली खेप में आई खाद की एक हजार बोरी 125 किसानों को बांट दी गई। अब किसान खाद के लिए चक्कर लगा रहे थे।

किसानों को जानकारी हुई कि लेम्पस में खाद पहुंची है जिसे बुधवार 14 जुलाई को बांटी जाएगी। खबर जैसे ही किसानों को लगी बड़ी संख्या में किसान खाद के लिए सुबह 7 बजे से लाइन लगा खड़े हो गए। अपना परमिट भी स्वयं एक जगह जमा करा दिया। 10 बजे लैम्पस कर्मचारी पहुंचे तो इतने किसानों को खाद नहीं दे पाने की बात कही। इसके बाद यहां हंगामा शुरू हो गया। किसान नारेबाजी करने लगे। तीन घंटे तक हंगामा चलता रहा।

75 किसानों में ही बंट गई 500 बोरी खाद

दूसरी खेप में मिली पांच सौ बोरी खाद को पिछले बार जिस परमिट नंबर तक वितरण किया गया था उसके अगले नंबर 764102 से वितरण शुरू किया गया। बीच के नंबर वाले कुछ किसान लैम्पस नहीं पहुंचे तो अगले नंबर के किसानों को खाद दी गई। परमिट नंबर 764225 तक 155 किसान होते हैं इनमें से 75 किसानों को ही खाद वितरण किया गया। दोपहर तीन बजे 500 बोरी खत्म हो गई। इसके बाद अन्य किसान मायूस होकर लौटे।

यदि यही हाल रहा तो हो सकता है बड़ा प्रदर्शन

दोपहर 3 बजे जैसे ही खाद खत्म हुई अपनी बारी का इंतजार कर रहे किसान मायूस हो गए। किसानों ने अगली खेप की लैम्पस प्रबंधक से जानकारी ली तो संतोषजनक जवाब नहीं मिला। किसानों ने जल्द ही खाद नहीं मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी। विदित हो लगातार खाद की किल्लत होने से किसानों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। कभी भी खाद को लेकर किसानों के बड़े आंदोलन व प्रदर्शन की स्थिति निर्मित हो रही है।

देखिए, कब-कब किया गया प्रदर्शन

  • 30 जून- बड़गांव व दुर्गूकोंदल में किसानों ने रैली निकाल प्रदर्शन किया।
  • 1 जुलाई- पखांजूर में किसानों ने एसडीएम कार्यालय घेराव किया।
  • 7 जुलाई- आमाबेड़ा में किसानों ने रैली निकाल प्रदर्शन किया।
  • 8 जुलाई- बोंदानार में किसानों ने अंतागढ़ नारायणपुर मार्ग में 8 घंटे चक्काजाम किया।
  • 11 जुलाई- भाजपा ने किसानों के साथ कापसी लेम्प्स में धरना प्रदर्शन किया।
  • 12 जुलाई- अंतागढ़-भानुप्रतापपुर मार्ग में केवटी में किसानों ने तीन घंटे स्टेट हाईवे जाम किया।
  • 13 जुलाई- नवीन लैम्पस घोटियावाही में किसानों ने प्रदर्शन किया।
  • 14 जुलाई - दुधावा लैम्पस में किसानों ने हंगामा किया।

ऊपर से ही नहीं आ रही खाद, हम कहां से दें: प्रबंधक गंगाधर यादव ने कहा कि खाद की 45 सौ बोरी की मांग की गई थी। 15 सौ बोरी ही खाद मिली है। ऊपर से ही खाद नहीं आ रही है।

खबरें और भी हैं...