पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

लापरवाही:5 दिन से कांजी हाउस में बंद थे मवेशी, अंदर गाय और बछड़े की भूख से हो गई मौत

कांकेर/ पखांजूर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पखांजूर। नगर पंचायत पखांंजूर में वार्ड 14 के कांजी हाउस में 5 दिन से भूखे गाय-बछड़े की मौत हो गई।
  • कांकेर जिले के पखांजूर नगर पंचायत का मामला

छत्तीसगढ़ शासन एक ओर गोठान और रोका-छेका जैसी योजना चलाकर ये दावा करता है कि प्रदेश में आवारा मवेशियों को उचित तरीके से रखा जा सके। वहीं कांकेर के पखांजूर में एक कांजी हाउस में भूख से दो मवेशियों की मौत हो गई। नगर पंचायत की ओर से संचालित कांजी हाउस में शनिवार को एक गाय और एक बछड़ा मृत हालत में पाया गया।

इसकी जानकारी तब सामने आई जब ग्रामीण अपने मवेशी को तलाश करते हुए कांजी हाउस पहुंचे। गाय व बछड़े के मरे हुए पड़े होने की सूचना वार्ड पार्षद को दी गई तब इसकी जानकारी नगर पंचायत को हुई। पड़ताल में पता चला यहां कई दिन से मवेशी बंद हैं। जिन्हें चारा तो दूर पानी तक नसीब नहीं हो रहा था। मामला सामने आने के बाद जिम्मेदार इससे अपना पल्ला झाड़ने लगे।

नगर पंचायत पखांजूर के वार्ड क्रमांक 14 में संचालित कांजी हाउस में 20 से अधिक पशुओं को बंद रखा गया है। पशुओं के लिए यहां कोई व्यवस्था नहीं है। चारा व पानी देनेे वाला तक नहीं है। पिछले पांच दिन से जानवरों को भोजन नहीं दिया गया था।

शनिवार को ग्रामीण पहुंचे अपने मवेशियों को खोजते हुए

कांजी हाउस के बगल में रहने वाले ने बताया कि पीयूष मंडल पांच दिन पहले आया था। मजदूर की व्यवस्था होने तक एक दो दिन में कांजी हाउस की देखरेख करने तथा पशुओं को पानी पिलाने कहा। लेकिन पांच दिन हो गए न कोई मजदूर आया और न ही पीयूष मंडल। संभावना है कि पांच दिन से बिना भोजन पानी के बंद मवेशियों में दो की मौत शुक्रवार रात में ही हो गई थी। 17 अक्टूबर के दोपहर 3 बजे जब पीवी 55 के ग्रामीण अपनेे मवेशी खोजते कांजी हाउस पहुंचे। तो वहां दो पशुओं को मरा हुआ पाया।

कांजी हाउस का संचालक कौन यह भी नहीं पता

पशुओं की मौत घटना के साथ ही नगर पंचायत की एक और लापरवाही भी उजागर हो गई। पांच दिनों से इस कांजी हाउस का कौन संचालन कर रहा है यह भी तय नहीं है। नगर पंचायत का कहना है कि कांजी हाउस का संचालन पीयूष मंडल कर रहा है। जबकि पीयूष मंडल इससे साफ इंकार कर रहा है। दोनों विरोधाभाषी बयान से ही स्पष्ट है कि पांच दिनों से पशुओं को कोई खाना पानी नहीं मिल रहा था। और मवेशी भूखे प्यासे ही वहां तड़पते रहे।

वार्ड के पार्षद ने सीएमओ को ठहराया मौत का जिम्मेदार

नगर पंचायत में नेता प्रतिपक्ष मोनिका साहा तथा वार्ड क्रमांक 14 के पार्षद नारायण साहा ने बताया लंबे अर्से से कांजी हाउस में अव्यवस्था का आलम है। इसकी वे कई बार नगर पंचायत सीएमओ से शिकायत कर चुके है। गाय-बैल को ले आया जाता है पर न उनके खाने की कोई व्यवस्था की जाती और न ही साफ सफाई की।

बारिश होने पर पशुओं के सुरक्षित सूखे में खड़े होने तक की कोई व्यवस्था नहीं है। सीएमओ कभी यहां झांकने तक नहीं आते। इन पशुओं की मौत के लिए नगर पंचायत पखांजूर और सीएमओ जिम्मेदार है। क्याेंकि अगर पशुओं को खाना पानी नहीं मिल रहा तो इसके लिए नगर पंचायत और उसके अधिकारी जिम्मेदार है।

...और ये देखिए जिम्मेदारों के बयान

मंडल चला रहा कांजी हाउस: सीएमओ

पखांजूर के नगर पंचायत सीएमओ अरविंद योगी ने बताया कि कांजी हाउस का संचालन पीयूष मंडल के द्वारा किया जा रहा है। पशुओं की मौत कैसे हुई इसकी जानकारी ली जा रही है।

नगर पंचायत ही कर रहा संचालन : मंडल

पीयूष मंडल ने कहा कि वे कांजी हाउस का संचालन का जिम्मा जरूर लेने वाले थे। लेकिन कांजी हाउस में अव्यवस्था देख उन्होंने इससे हाथ खड़े कर दिए। वर्तमान में कांजी हाउस का संचालन नगर पंचायत ही कर ही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें