CAF जवान की खाने के लिए जंग:बोला- मछली के 3 पीस के साथ सब्जी में पानी, क्या मेस कमांडर घर में ऐसा खाना खाते हैं; वीडियो वायरल

​​​​​​​कांकेर2 महीने पहले
छत्तीसगढ़ के कांकेर में पदस्थ CAF (छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स) जवान ने खाने की क्वालिटी पर सवाल उठाए हैं।

जवानों को मिलने वाला भोजन एक बार फिर विवादों में है। इस बार छत्तीसगढ़ के कांकेर में पदस्थ CAF (छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स) के जवान ने इस पर सवाल उठाए हैं। जवान का आरोप है कि खाने में मछली के 3 पीस के साथ दी गई सब्जी में सिर्फ पानी है। उसमें रंग मिलाया गया है। साथ ही उसने सवाल भी किया है कि क्या मेस कमांडर अपने घर में ऐसा ही खाना खाते हैं। जवान का यह वीडियो वायरल हो गया है। वहीं, अफसर इस बारे में फिलहाल कुछ नहीं बोल रहे हैं।

वीडियो में जवान बता रहा है कि वह CAF की 11वीं बटालियन सी कंपनी में है। वीडियो की शुरुआत में ही जवान कह रहा है कि 'आज बड़ा खाना बना है। मछली दिए हैं तीन पीस। इसकी तरी (सब्जी) को देखो, यह दिए हैं पानी। ऐसा बनता है कंपनी का खाना। क्या मेस कमांडर अपने घर में ऐसा खाना खाता है। या उसके घर में ऐसा ही खाना खिलाते हैं।'

अफसरों से शिकायत की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं
जवान वीडियो में आगे कहता है, 'यहां के अधिकारी लोग कुछ नहीं बोल रहे हैं। मैं कई बार शिकायत कर चुका हूं। सर, ऐसा खाना बनता है क्या? जैसा घर में बनता है, वैसा खिलाओ। इस खाने में गरम पानी के सिवाय कुछ नहीं है। कलर डाल दिए हैं, पानी लेकर आ गए हैं। जानवर हैं क्या, देश सेवा कर रहे हैं। यहां सब मिलीभगत कर रहे हैं। घर छोड़कर, परिवार छोड़कर यहां नौकरी करने आए हैं। कटिंग भेज रहे हैं 74 रुपए- 75 रुपए।'

जवान बोला- इसके खिलाफ लड़ूंगा, जो भी करना है कर लें
वीडियो में जवान बता रहा है कि वह हवलदार है, लेकिन बाकी जवानों के साथ ऐसा नहीं करता है। जवान कहता है, 'यह कौन से तरीके से खिला रहे हैं। मैं भी एक हवलदार हूं, लेकिन ऐसे नहीं खिलाता हूं। जवान के हित में काम करता हूं। यह सब गलत है। मैं तो बोलूंगा और लड़ूंगा। इसके खिलाफ मैं कहीं भी बोलने के लिए तैयार हूं। जो भी करना है, अधिकरी कर लें। जय हिंद, जय छत्तीसगढ़।'

कांकेर जिला जेल में पदस्थ है जवान
बताया जा रहा है कि जिस जवान का वीडियो वायरल हुआ है, वह पिछले करीब दो साल से कांकेर जिला जेल में पदस्थ है। उसका नाम बुट्‌टू सांडे है और जांजगीर का रहने वाला है। वहीं, इस संबंध में कांकेर SP ने साफ तौर पर पल्ला झाड़ लिया है। उनका कहना है कि इन जवानों की जिम्मेदारी आर्म्ड फोर्स के पास है। वही ज्यादा बेहतर बता सकेंगे। वहीं, दूसरे अफसर इस बारे में कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं।