खाता किसान का, 40 हजार कैशियर ने निकाले:​​​​​​​विड्रॉल फार्म से लेने गया था, दूसरी ब्रांच में खाता बोल देने से मना किया, फिर खुद हड़पे

कांकेर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पासबुक की एंट्री में गड़बड़ी पकड़ी गई। - Dainik Bhaskar
पासबुक की एंट्री में गड़बड़ी पकड़ी गई।

छत्तीसगढ़ के कांकेर में ग्रामीण बैंक के कैशियर ने धोखाधड़ी कर एक किसान के खाते से 40 हजार रुपए निकाल लिए। किसान विड्रॉल फॉर्म लेकर रुपए निकालने के लिए गया था, लेकिन कैशियर ने दूसरी ब्रांच में खाता होने की बात कहकर उसे लौटा दिया। बाद में जब खाते से रुपए निकाले जाने की जानकारी किसान को लगी तो उसने बैंक पहुंचकर हंगामा कर दिया। इसके बाद कैशियर ने उसके खाते में रकम जमा की।

जानकारी के मुताबिक, ग्राम गोडरी निवासी भावसिंह मुंदारे का खाता छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक की कोरर शाखा में है। वह अपने रिश्तेदार के इलाज के लिए 7 जनवरी को 40 हजार रुपए निकालने अंतागढ़ स्थित ब्रांच में गया था। वहां उसे विड्रॉल फार्म भरकर कैशियर को दे दिया। इस पर कैशियर ने पासबुक देखकर भावसिंह से खाते के बारे में जानकारी मांगी और कहा कि दूसरे ब्रांच के खाते से यहां रुपए नहीं निकलते हैं।

बैंक के च्वॉइस सेंटर पहुंचा तो पता चला रकम निकल गई
आरोप है कि कैशियर ने भावसिंह को पासबुक तो लौटा दी, लेकिन विड्रॉल फार्म अपने पास रख लिया। इसके बाद भावसिंह लौट आया और आधार कार्ड के जरिए रकम निकालने के लिए बैंक के च्वॉइस सेंटर पहुंचा। वहां उसने भावसिंह को रुपए निकाल कर दिए और बताया कि 40 हजार रुपए उसके खाते से निकाले गए हैं। इस पर वह घबराकर फिर बैंक पहुंचा। उसने कैशियर से रुपए निकालने को लेकर जानकारी मांगी और हंगामा कर दिया।

छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, अंतागढ़ शाखा।
छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, अंतागढ़ शाखा।

चक्कर लगवाता रहा, पर पासबुक में एंट्री नहीं की
भावसिंह को बैंक में हंगामा करते देख कैशियर ने उसके खाते में रकम फिर से डाल दी। इसके बाद कहा कि रुपए उसके खाते में है। इस पर भावसिंह ने उससे पासबुक में एंट्री करने को कहा तो अगले दिन बुलाया। 8 जनवरी को भावसिंह फिर पहुंचा, लेकिन उसे लौटा दिया। इसके बाद से 3 दिन तक वह बैंक के चक्कर लगाता रहा, लेकिन कैशियर ने एंट्री नहीं की। इस पर परेशान होकर भावसिंह दैनिक भास्कर रिपोर्टर से मिला।

खाते से रुपए निकले और फिर थोड़ी देर बाद एंट्री
रिपोर्टर को उसने सारी बात बताई तो वह भावसिंह के साथ बैंक पहुंचा और पासबुक में एंट्री नहीं करने का कारण पूछा। इस पर भावसिंह ने पासबुक में एंट्री कर दी। उसमें 7 जनवरी को 40 हजार रुपए निकालने और फिर कुछ देर बाद फिर से गलत डेबिट बताते हुए खाते में जमा करना दर्शाया गया है। कैशियर से उनका नाम और ऐसा होने का कारण पूछा तो कोई जवाब न देकर ब्रांच मैनेजर से जानकारी लेने के लिए कहा।

पूर्व कैशियर पर चला मामला
इसी ग्रामीण बैंक में पूर्व कैशियर के जरिए भी कई खाता धारकों के खातों से लाखों निकाले जाने की घटना हो चुकी है। इस मामले में मैनेजर की ओर से FIR भी दर्ज कराई गई है। इसका कोर्ट में मामला विचारधीन है।

गलती से निकल गई थी रकम
छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक के मैनेजर अतुल कुमार ने कहा गलती से पैसा निकल गया था। लेकिन कैशियर द्वारा पैसा वापस डाल दिया गया। सौ रुपये चार्जेस कटा था, उसे भी वापस भावसिंह के खाते में बुधवार को डाल दिया गया है।

खबरें और भी हैं...