ओलावृष्टि के बाद छलका किसान का दर्द:बोले- ब्याज पर पैसा लेकर फसल लगाई थी, बर्बाद हो गई; भरपाई नहीं हुई तो, आत्महत्या ही विकल्प

कांकेर4 महीने पहले
किसान प्रेमानंद मंडल की वीडियो सामने आई है।

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में महज सप्ताह भर पहले मौसम ने करवट ली थी और पखांजुर- परलकोट इलाके में जमकर बर्फबारी हुई थी। आसमान से गिरी इस आफत ने किसानों की फसलों को जबरदस्त नुकसान पहुंचा। ऐसे में किसानों के सामने अब बड़ा संकट खड़ा हो गया है। इसी इलाके के एक किसान प्रेमानंद मंडल का वीडियो सामने आया है। जो कहते दिख रहे हैं कि मैंने अपने जीवन के 65 सालों में मौसम की ऐसी मार पहली बार देखी है। फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई है। यदि इसकी भरपाई नहीं हुई तो आत्महत्या ही एक मात्र विकल्प होगा।

ओलावृष्टि होने से किसानों की फसल बर्बाद हो गई।
ओलावृष्टि होने से किसानों की फसल बर्बाद हो गई।

किसान ने कहा कि, उन्होंने ब्याज में पैसे लेकर फसल लगाई थी। सोचा था इस साल कुछ आमदनी हो जाएगी, लेकिन आसमान से गिरे ओले ने पूरी मेहनत चौपट कर दी। किसानों का घर भी गया और सफल भी गई। उन्होंने शासन-प्रशासन से मांग की है कि मौसम की वजह से किसानों को जो भी नुकसान हुआ है उसकी जल्द से जल्द भरपाई की जाए। ताकि आगे की जिंदगी किसान चला सके। किसानों की बहुत ही दयनीय स्थित हो गई है।

इधर, पखांजुर के तहसीलदार शशि शेखर मिश्रा ने बताया कि ओलावृष्टि से जिन किसानों के मकानों का नुकसान हुआ था उन्हें मुआवजा दे दिया गया है। साथ ही जिन किसानों का फसल नुकसान हुआ है, उन किसानों को भी चिन्हित किया गया है। लेकिन फसल नुकसान का मुआवजा अभी नहीं दिया गया है। प्रक्रिया में है।

पखांजुर- परलकोट इलाके में जमकर बर्फबारी हुई थी।
पखांजुर- परलकोट इलाके में जमकर बर्फबारी हुई थी।

मौसम विभाग ने प्रदेश में बारिश की दी थी चेतावनी
छत्तीसगढ़ मौसम विभाग ने दिसंबर माह के अंतिम दिनों में प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश होने की चेतावनी दी थी। साथ ही कई जगह ओलावृष्टि होने की बात भी कही थी। मौसम विभाग के इसी पुर्वानुमान के अनुसार ही बस्तर के कांकेर जिले समेत, राजधानी रायपुर और कुछ शहरों में बारिश हुई थी। मौसम के अचानक करवट लेने की वजह से कई जगहों पर किसानों को इसका बड़ा नुकसान झेलना पड़ा है।

खबरें और भी हैं...