पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुर्सी का किस्सा:मलाईदार पद छोड़ने का नोटिस, नशे में बाबू का डीईओ की जगह सीएमएचओ बंगले में हंगामा

कांकेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जुगाड़ के दम पर 3 साल से एसडीएम दफ्तर में अटैच है डीईओ ऑफिस का स्टाफ

शिक्षा विभाग में पदस्थ बाबू पिछले तीन साल से एसडीएम कांकेर कार्यालय में अटैच है। यहां जब से उसे मलाईदार पद मिला है तब से वह इसे छोड़ वापस अपने मूल विभाग जाने तैयार नहीं है। आलम यह है कि जब उसे वापसी का नोटिस मिला तो वह एक बार फिर रद्द कराने डीईओ के बंगले जाने निकला। वह नशे में इतना धुत था कि बगल में रहने वाले सीएमएचओ बंगले पहुंच गया। तीन साल से विभाग से दूर बाबू अपने अफसर को भी नहीं पहचान सका और सीएमएचओ बंगले पहुंच हंगामा खड़ा कर दिया।

सीएमएचओ बंगले से सूचना एसडीएम व अन्य को दी गई लेकिन अब तक इस बाबू के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इससे एसडीएम कार्यालय की बदनामी हो रही है। शिक्षाविभाग में पदस्थ सहायक ग्रेड तीन रवि प्रकाश चतुर्वेदी की मूल पदस्थापना शासकीय उच्चतर माध्यमिक िवद्यालय मोदे में है। अपनी जुगाड़ जमा पिछले तीन साल से कांकेर एसडीएम कार्यालय में अटैच है। उसे वापस मूल संस्था आने 5 जून को जिला शिक्षा अधिकारी ने नाेटिस भेजा। पत्र मिलने के बाद बुधवार रात इस मामले को लेकर बाबू जिला शिक्षा अधिकारी राकेश पांडे से मिलने सिविल लाइन कालाेनी निवास पहुंचा।

नशे में धुत होने के कारण वह मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के बंगले पहुंच गया। यहां बाहर खडे़ सीएमएचओ के चालक से डीईओ साहब से मिलने जिद करने लगा। उसने बताया कि बंगला डीईओ का नहीं है तो वहां हंगामा करने लगा। वहां खड़े वाहन के सामने पेशाब करने लगा। तत्काल इसकी सूचना पेट्रोलिंग पार्टी व बाबू के अफसरों को दी गई। इसके बाद बाबू भागते हुए घड़ी चौक से अलबेलापारा की ओर भाग गया। पेट्रोलिंग पार्टी ने उसे पकड़ा लेकिन बिना कार्रवाई किए छोड़ भी दिया। हालांकि उसके विभाग के अधिकारियों से भी उसकी शिकायत की गई है।

इस बार के नोटिस में लिखा-सर्वोच्च प्राथमिकता दें
बाबू को वापस शिक्षा विभाग बुलाने डीईओ ऑफिस से कई बार पत्र जारी हो चुका है। हर बार अपने जुगाड़ के चलते वापसी का पत्र रद्द करवा लेता है जबकि वेतन उसे शिक्षा विभाग से ही जारी हो रहा है। लंबे समय से अटैच होने के कारण मोदे स्कूल में छात्रवृत्ति, महतारी दुलार योजना एवं अन्य शासकीय कार्यो को संपूर्ण करने में विभाग व स्कूल को परेशानी हो रही है। जिला शिक्षाा अधिकारी ने बाबू रवि प्रकाश को 5 जून को पत्र जारी कर वापस अपने मूल संस्था में कार्यभार संभालने कहा। साथ ही पत्र में लिखा कि इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए। इधर रामनगर निवासी एक व्यापारी ने रवि प्रकाश पर पट्‌टे के लिए उससे वसूली करने का आरोप लगाया है। हालांकि पट्‌टा नहीं बना, पैसे वापस हो गए।

नोटिस रूटीन में जारी हुआ
जिला शिक्षाधिकारी राकेश पांडे ने कहा विभाग के कई बाबू दूसरे विभाग में अटैच हैं। इससे कार्य में कठिनाई हो रही है। कई काम रुक जाता हैं। रूटीन में सभी को वापस आने नोटिस जारी होती रहती है। इसी के तहत उक्त सहायक ग्रेड तीन को भी नोटिस जारी किया गया है। यह रूटीन में जारी किया गया नोटिस है।

अधिकारियों से की है शिकायत: सीएमएचओ
इस मामले में सीएमएचओ जेएल उईके ने कहा कि मेरे निवास पर रात में आकर हंगामा खड़ा कर मुझे अपशब्द कहने वाला सरकारी कर्मचारी बताया जा रहा है। वह नशे में धुत था। हंगामा कर रहा था। उसके विभाग के अधिकारियों से उसकी शिकायत की गई है।

खबरें और भी हैं...