भालू को आइसक्रीम पसंद है:आइसक्रीम के लिए सपरिवार ठेले पर रात में पहुंचते हैं भालू

कांकेर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ठेले पर आइसक्रीम खोजते हुए भालू। - Dainik Bhaskar
ठेले पर आइसक्रीम खोजते हुए भालू।

आइसक्रीम किसे अच्छी नहीं लगती। नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। लेकिन यह कहा जाए की भालू भी आईस्क्रीम का दीवाना है तो जरूर हैरानी होगी। लेेकिन यह सच है। शहर में पिछले एक माह से भालू व उसके दो शावक ठेले में आईस्क्रीम बेचने वालों के लिए सिरदर्द बन चुके हैं। भालुओं की आईस्क्रीम की इस लत से अबतक ठेले वालों का 50 हजार रूपए से अधिक का नुकसान हो चुका है। इससे बचने अब वे तरह तरह के जुगाड़ लगा रहे हैं।

राजस्थान से आकर शीतलापारा में तालाब किराने किराए के मकान में रह रहे आईस्क्रीम बेचने वाले अंकित कुमावत तथा रामलाल ने बताया वे रात में अपना ठेला घर के बाहर खड़ा करते हैं। आईस्क्रीम के लिए अलग से घर में फ्रीजर नहीं होने के कारण उसे वाहन में बने ठेले के सिस्टम में रखा जाता है जिससे वह ठंडी रहती है। एक महीने पूर्व इलाके के तीन भालू ठेले पर पहुंचे। आशंका है वे आईस्क्रीम की गंध पाकर यहां पहुंचे होंगे। इसके बाद ठेले में चढ़ तोड़ फोड़ कर पूरी आईस्क्रीम खा गए।

इसके बाद यह सिलसिला रोज का हो गया। आइस्क्रीम के बाक्स को बंद करने जंजीर, राड, ताले सबकुछ लगा के देख चुके हैं लेकिन भालू रोज उसे तोड़ आईस्क्रीम निकाल खा जाते हैं। एलमुनियम व टीन के मोटे चादर भी उसमें लगाए उसे भी भालुओं ने फाड़ दिया। पिछले एक माह से ऐसा ही हो रहा है। भालू यहां रात दो से तीन बजे आते हैं और ठेले में तोड़ फोड़ कर आईस्क्रीम खाकर कर चले जाते हैं। अबतक 50 हजार से अधिक का नुकसान हो चुका है। इसलिए वन विभाग से क्षतिपूर्ति दिलाने की मांग की गई है।

खबरें और भी हैं...