पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

छात्रों को बंटनी है पाठ्य पुस्तकें:3 से 12 जून तक स्कूलों में निशुल्क बंटने वाली किताबें अभी कांकेर पहुंची ही नहीं

​​​​​​​कांकेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रथम चरण में जिले के 1 लाख 35 हजार छात्रों को बंटनी है पाठ्य पुस्तकें

शासकीय स्कूलों के छात्रों को 3 से 12 जून तक पुस्तक वितरण किया जाना है लेकिन अभी तक जिले में बच्चों के लिए पुस्तकें पहुंची ही नहीं है। वहीं दूसरी ओर निजि स्कूलोें को पुस्तकें एक माह विलंब से यानी जुलाई माह में प्रदान करने का आदेश है जिसे लेकर प्राईवेट स्कूल संघ में नाराजगी बनी हुई है।

प्राईवेट स्कूलों को पुस्तकें लेने रायपुर जाना पड़ेगा। इस शिक्षा सत्र में जिले में 1,35,935 बच्चों को पुस्तकें वितरण किया जाा है। प्रथम चरण में शासकीय स्कूलों के पहली से दसवीं तक के छात्रों को निशुल्क पुस्तक वितरण किया जाना है। जिले में 3 से 12 जून तक छात्रों को पुस्तकों का वितरण किया जाना था लेकिन अभी तक पुस्तकें पहुंची ही नहीं है। संबधित अफसरों का कहना है शीघ्र पुस्तकें पहुंचेगी। पहली से आठवीं तक के 86,350 छात्रों तथा 9वीं व 10वीं के 24,363 छात्रों को पुस्तक वितरण होना है। स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी स्कूल के 832 छात्रों के अलावा प्रत्येक विकासखंड में अंग्रेजी संचालित एनसीईआरटी स्कूलों के 1154 छात्रों को पुस्तर वितरण होना है। मान्यता प्राप्त मदरसा में 1ली से 8वीं तक के 57 बच्चों को भी पुस्तक मिलना है।

दूसरे चरण में निजि स्कूलों को दी जाएगी पुस्तकें
दूसरे चरण में निजि स्कूलों के कक्षा 1ली से 10वीं तक हिंदी माध्यम के 13,639 तथा अंग्रेजी माध्यम के 9490 छात्रों को पुस्तकों का वितरण किया जाना है। निजी स्कूलों को जुलाई माह में पुस्तकें दी जाएगी। प्राईवेट स्कूल वेलफेयर एसोसिएशन ने विलंब से पुस्तक मिलने को लेकर नाराजगी जताते कहा इससे स्कूली बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होगी। जिले में 158 निजी स्कूलें हैं। निजी स्कूलों के संचालकों और उनके कर्मचारियो को वाहन लेकर भंडारण केंद्र रायपुर में जाना होगा जहां से उन्हें पुस्तकें प्रदान की जाएगी।

खबरें और भी हैं...