पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

वट सावित्री पूजा:पूजा में ‘सावित्री’ ने रखी सावधानी, हाथ धोने साबुन और पानी भी रखा था

कांकेर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सार्वजनिक स्थानों पर पूजा करने इक्का दुक्का महिलाएं पहुंचती रहीं, पति की दीर्घायु के लिए कई ने घर पर ही की आराधना

कोरोना का असर वट सावित्री पर्व पर दिखा। हर बार महिलाएं सामूहिक रूप से एकत्रित होकर पूजन करती थी, लेकिन इस बार कई महिलाओं ने घरों पर ही रहकर पूजन कर पति की दीर्घायु की कामना की। सार्वजनिक स्थानों पर इक्का दुक्का महिलाएं ही वट वृक्षों की पूजा करने पहुंचती रही।  पैलेस में सबसे अधिक संख्या में महिलाएं पूजन करने पहुंचती थी, जहां इस बार लाॅकडाउन के चलते प्रवेश प्रतिबंधित की सूचना लगा दी गई थी। कोरोना के चलते अलबेलापारा में पार्षद ने हाथ धोने की व्यवस्था कराई थी। शीतलापारा स्थित शीतला मंदिर में महिलाओं ने वट वृक्ष का पूजन किया। अन्नपूर्णपारा, अलबेलापारा, एमजी वार्ड, बैजनाथ तालाब के पास भी महिलाओं ने वट वृक्ष का पूजन किया। महिलाओं ने सुबह से निर्जला उपवास रखा तथा वट वृक्ष में सुहाग के सामान के साथ नारियल, फल, फूल, पकवान चढ़ाकर पूजन कर सत्यवान सावित्री की कथा पढ़ी। संजय नगर वार्ड की रूपा रजक, दीपा यादव, पुष्पांजली ठाकुर ने कहा कोरोना के चलते घर पर ही पूजा करती, लेकिन इस पर्व में वट वृक्ष की पूजा करने की परंपरा है। इस कारण घर से बाहर निकल महिलाओं को पूजा करना पड़ रहा है।  अलबेलापारा में पार्षद उगेश्वरी उइके ने पूजन करने पहुंची महिलाओं के लिए हाथ धोने वटवृक्ष के पास साबुन व बाल्टी में पानी रखवाया था। वार्ड की श्यामा भदौरिया, वंदना भदौरिया, उषा भदौरिया व माधुरी ने कहा कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस बार सामूहिक पूजा में भाग न लेकर अपने परिवार के साथ ही पूजन किया। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें