पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अनदेखी:धार्मिक आस्था से जुड़े शहर के कंकालीन तालाब में पानी कम और कीचड़ ज्यादा

कांकेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धार्मिक आस्था से जुड़े शहर के कंकालीन तालाब में पानी बहुत कम है जबकि कीचड़ बहुत ज्यादा है। - Dainik Bhaskar
धार्मिक आस्था से जुड़े शहर के कंकालीन तालाब में पानी बहुत कम है जबकि कीचड़ बहुत ज्यादा है।
  • पहाड़ से बहकर आने वाली रेत से पट चुका है तालाब का आधे से ज्यादा भाग

जनकपुर तथा अघन नगर के लोगों ने मेलाभाठा स्थित कंकालिन तालाब के गहरीकरण, पिचिंग व सौंदर्यीकरण की मांग को इस वर्ष जनवरी माह में जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा था। अभी तक इस दिशा में कोई पहल नहीं हुई है। रियासतकालीन कंकालिन तालाब गर्मी के चलते लगभग सूख चुका है। तालाब में पानी कम और कीचड़ ज्यादा हो गया है।

शहर के जनकपुर वार्ड मेलाभाठा स्थित कंकालिन तालाब में गर्मी के मौसम में निस्तारी के लिए बिल्कुल भी पानी नहीं है। कंकालिन तालाब का कुल रकबा 4 एकड़ है जिसमें से आधे भाग में भी पानी नहीं है। तालाब सूखा नजर आ रहा है। पहाड़ से आने वाली रेत के कारण भी तालाब का काफी भाग पट चुका है। तालाब में जो थोड़ा पानी है वह निस्तारी लायक नहीं है क्योंकि वहां कीचड़ ज्यादा है। तालाब में गंदगी भी बहुत ज्यादा है। गत वर्ष नवरात्रि में हुए विसर्जन के समय की प्रतिमाएं अभी तक तालाब में है। तालाब का 12 वर्ष पहले गहरीकण किया गया था।

इसके बाद कई बार मांग के बावजूद गहरीकरण नहीं किया जा रहा है। तालाब में पानी नहीं होने का एक बड़ा कारण है तालाब की मेड़ 2016 में भारी बारिश के दौरान बह गई थी। मेड़ की मरम्मत की गई है लेकिन वहां से लगातार पानी का रिसाव होता रहता है। यही कारण है तालाब में पानी रूक नहीं पाता और बह जाता है। तालाब के मेड़ की मरम्मत के साथ पिचिंग की भी जरूरत है। तालाब का उपयोग जनकपुर वार्ड के साथ अघन नगर, कंकालिन पारा, झुनियापारा वार्डवासी करते हैं। वार्ड पार्षद नरेश बिछिया ने कहा तालाब के गहरीकरण, पिचिंग के साथ सौंदर्यीकरण की मांग लगतार की जा रही है। फिर से कलेक्टर से भेंटकर ध्यानाकर्षण किया जाएगा। तालाब से लोगों की आस्थाएं जुड़ी हुई है।

जनवरी में दिया था ज्ञापन
इस वर्ष जरवरी माह में जनकपुर, अघन नगर के लोगों ने जिला कार्यालय पहुंच कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा तालाब सौंदर्यीकरण, गहरीकरण की मांग की थी। नगरपालिका चुनाव के दौरान कांकेर विधायक से भी वार्डवासियों ने मांग की थी। वार्ड के अभय सिंह ठाकुर, रंजीत रजक, हरीश शांडिल्य ने कहा तालाब सौंदर्यीकरण के साथ गहरीकरण की जरूरत है। तालाब से पानी का रिसाव होता है। तालाब पहाड़ से आने वाली रेत से पट चुका है। अभी निस्तारी के लायक भी पानी नहीं बचा है। तालाब में पानी से ज्यादा कीचड़ है।

खबरें और भी हैं...