बचाव कर रहे या खतरे में डाल रहे जान:वैक्सीनेशन की गति बढ़ाने बुजुर्गों की दुर्गति टीका लगवाने के लिए मालवाहकों से भेज रहीं पंचायतें

कांकेर/भानुप्रतापपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मालवाहकों की ऊंचाई अधिक होने से बुजुर्गों को चढ़ने-उतरने में हो रही परेशानी
  • अब रविवार को भी वैक्सीनेशन हुआ शुरू पहले रविवार को 9 केंद्रों में लगाया गया टीका

कोरोना पर जल्दी नियंत्रण पानी शासन प्रशासन कोरोना वैक्सीनेशन गति बढ़ाने प्रयास कर रहा है। जिले में 8 नए वैक्सीनेशन केंद्र बनाने के अलावा रविवार को भी अब वैक्सीनेशन कार्य होगा। गांव के बुजुर्गों को भी वैक्सीन लगे इसके लिए पंचायत सचिवों को बुजुर्गों को गांव से वैक्सीनेशन सेंटर भेजने जिम्मा दिया गया है। पंचायत सचिव यहां लापरवाही करते बुजुर्गों को पिकअप जैसी मालवाहकों में भर भर कर गांव से वैक्सीनेशन सेंटर भेज रहे हैं, जबकि मालवाहकों में सवारी बैठाकर यात्रा करना पुरी तरह प्रतिबंधित है।

यही नहीं बुजुर्ग बिना मास्क के ही सेंटर तक पहुंच रहे हैं जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। प्रशासन के आदेश के बाद जिले में रविवार को भी वैक्सीनेशन शुरू हुआ। पहले रविवार को जिले के सभी सेंटरों में वैक्सीनेशन शुरू नहीं हो पाया है। भानुप्रतापपुर, कांकेर के अलावा चारामा के नौ केंद्रों में इस रविवार से ही वैक्सीनेशन शुरू हो गया। शेष केंद्रों में भी अगले रविवार से वैक्सीनेशन शुरू हो जाएगा।

भास्कर ने जिले के भानुप्रतापपुर वैक्सीनेशन सेंटर का जायजा लिया जहां इस रविवार को नगर पंचायत भानुप्रतापपुर, ग्राम पंचायत संबलपुर, टेढईकंाेदल, मुल्ला, भैंसाकन्हार के बुजुर्गों को लाया गया था। यहां का नजारा चौंकाने वाला था क्योंकि बुजुर्गों को गांव से लाने पंचायतों ने मालवाहकों की व्यवस्था कर दी थी। इसमें भी बुजुर्गों को ठूंस ठूंस कर भर दिया गया था।

बुजुर्गों ने कहा पिकअप में चढ़ने उतरने में बहुत परेशानी हुई। पंचायत ने जो व्यवस्था की मजबूरी में उसी में आना पड़ा। चौंकाने वाली बात तो ये थी की गांव से जो बुजुर्ग पहुंच रहे थे उन्होंने मास्क तक नहीं लगाए थे। वैक्सीनेशन सेंटर में भीड़भाड़ रहती है।

गांव से वैक्सीनेशन सेंटर भीड़भाड़ वाले जगह में बिना मास्क पहुंचने से बुजुर्गों के संक्रमित होने का भी खतरा है। सीईओ जनपद पंचायत जीएस ध्रुवे ने कहा ग्राम पंचायत सचिवों को बुजुर्गों को टीकाकरण केंद्र तक पहुंचाने जिम्मेदारी दी गई है। बुजुर्गों को पिकअप में लाने की जानकारी मिली है। यह गलत है। सचिवों को व्यवस्था सुधारते बुजुर्गों के लिए मालवाहकों के बजाए यात्री वाहनों की व्यवस्था करने कहा जाएगा।

ये भी जानिए, 8 नए में से 7 सेंटर में वैक्सीनेशन शुरू
जिले में मात्र 25 सेंटरों में वैक्सीनेशन कार्य हो रहा था। सेंटर कम होने तथा पंजीयन के लिए औपचारिकता में ज्यादा समय लगने के चलते गति धीमी थी। वैक्सीनेशन की गति बढ़ाने जिले में 8 नए चारामा में पीएससी पुरी व हराडुला, कांकेर में यूपीएससी श्रीराम नगर, नरहरपुर में पीएससी सरोना तथा देवरी, भानुप्रतापपुर में पीएससी भानबेड़ा, कोयलीबेड़ा में पीएससी बडगांव तथा अंतागढ में हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर मासबरस खोले गए थे। इनमें से कांकेर के यूपीएससी श्रीरामनगर को छोड़ शेष सभी सातों सेंटरों में वैक्सीनेशन शुरू हाे चुका है। श्रीरामनगर में भी शीघ्र वैक्सीनेशन शुरू कराने प्रयास किए जा रहे हैं।

102 साल की बुजुर्ग ने लगवाई वैक्सीन
भैंसाकन्हार की सुकारो बाई भी पिकअप में बैठकर भानुप्रतापपुर स्वास्थ्य केंद्र पहुंची। इस महिला की उम्र 102 वर्ष है। सुकारो ने भी वैक्सीन लगवाई। सीईओ जिला पंचायत डा संजय कन्नौजे ने कहा सचिवों को मालवाहकों के बजाए यात्री वाहनों में बुजुर्गों को वैक्सीनेशन सेंटर भेजने कहा जाएगा। इसके अलावा वैक्सीनेशन के लिए पहुंचने वाले बुजुर्गों को मास्क पहनाकर ही भेजने कहा जाएगा।



खबरें और भी हैं...