फिर मुठभेड़:महाराष्ट्र सीमा पर झारेगुड़ा के जंगल में दो नक्सली किए गए ढेर, एक की हुई पहचान

कांकेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली भागे, कुछ नक्सलियों के घायल होने की भी खबर

अप्रैल माह में नक्सलियों द्वारा उत्पात मचाते कांकेर जिला व उससे सटे महाराष्ट्र सीमा में लगतार वारदातों को अंजाम दिया जा रहा है। बुधवार को एक बार फिर जिले के बार्डर से कुछ दूर महाराष्ट्र के गट्‌टा थानांतर्गत झारेगुड़ा में नक्सलियों ने पुलिस पार्टी पर हमला कर दिया।

दोनों ओर से करीब एक घंटे तक फायरिंग हुई। मुठभेड़ में पुलिस ने दो नक्सलियों को मार गिराया। पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली वहां से भाग निकले। कुछ नक्सलियों के घायल होने की भी खबर है। महाराष्ट्र के जांबिया गट्‌टा थाना से पुलिस पार्टी 27 अप्रैल की रात को गश्त पर निकली थी।

दो दिन पहले गट्‌टा थानांतर्गत ग्राम पर्सलगोडी इलाके में वाहनों में नक्सलियों द्वारा आगजनी की जांच करने भी पुलिस पार्टी को वहां जाना था। ईधर नक्सलियों को भी जानकारी थी कि पुलिस आगजनी मामले की जांच करने आएगी। 28 अप्रैल की सुबह 6 बजे टीम जैसे ही कांकेर जिले के बार्डर से 20 किमी दूर महाराष्ट्र के गट्‌टा थाना से 6 किमी झारेगुडा़ जंगल पहुंची, घात लगाए नक्सलियों ने पुलिस पर हमला कर दिया। पुलिस ने मोर्चा लेकर जवाबी कार्रवाई करते फायरिंग की।

दोनों ओर से करीब एक घंटे गोलियां चलती रही। पुलिस कार्रवाई से दो नक्स्ली ढे़र हो गए और कुछ को गोलियां लगने से घायल हुए हैं। पुलिस को भारी पड़ते देख नक्सली जंगल की आड़ लेकर भागने लगे। कुछ दक्षिण की ओर तथा कुछ पूर्व की ओर कांकेर सीमा की ओर भागे। पीछा करते पुलिस टीम भी उस ओर गई है। हमले में गट्‌टा दलम के साथ स्थानीय दलम के नक्सलियों के होने की आशंका है।

दूसरे की पहचान की जा रही

जांबिया गट्‌टा थाना प्रभारी कार्तिक राम ने कहा नक्सलियों की उपस्थिति की सूचना पर पार्टी थाना से निकली थी। सुबह मुठभेड़ में पुलिस ने दो नक्सलियों को मार गिराया। एक की पहचान कर ली गई है। दूसरे की पहचान करने कोशिश की जा रही है।

देखिए, 22 दिन में जिला व महाराष्ट्र सीमा में हुई नक्सली घटनाएं

  • 6 अप्रैल- कोयलीबेड़ा के कतरू कुरूषबोड़ी व मांझी कुरूषबोड़ी में पर्चे फेंक ठेेकेदार राहुल को दी धमकी।
  • 16 अप्रैल- बेलगाल व पीवी 78 में बैनर टांग गढ़चिरौली जिले के खोबरामेढ़ा में हुए मुठभेड़ का विरोध व 26 अप्रैल को भारत बंद का आव्हान।
  • 17 अप्रैल- बेचाघाट में पर्चे फेंक मुठभेड़ का विरोध व बंद का आव्हान।
  • 21 अप्रैल- ताड़ोकी थाना के माहुरपाठ व मलमेटा में पुलिस पार्टी पर जानलेवा हमला।
  • 22 अप्रैल- महाराष्ट्र के गट्‌टा थाना में नक्सली हमला, फायरिंग के साथ राकेट लांचर भी दागा।
  • 24 अप्रैल- कामतेड़ा बीएसएफ कैंप में नक्सली हमला। फायरिंग के साथ 9 राकेट लांचर दागे।
  • 25 अप्रैल- छोटेबेठिया थाना के आलदंड में विस्फोट में मारे गए नक्सली की प्रतिमा का अनावरण।
  • 25 अप्रैल- महाराष्ट्र के गट़टा थानांतर्गत पर्सलगोडी में 7 वाहनों में लगाई आग।
  • 26 अप्रैल- कांकेर आमाबेड़ा मार्ग में मलांजकुड़ुम घाट में पेड़ काटकर मार्ग किया अवरूद्ध।
  • 26 अप्रैल- पीढ़ापाल मंे मोबाईल टावर में तोड़फोड़ कर लगाई आग।

ये भी जानिए, एक नक्सली गट्‌टा दलम का है सदस्य

मुठभेड़ के बाद पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर तलाशी ली। घना जंगल होने के कारण तलाशी अभियान दोपहर 1 बजे तक चलता रहा। घटनास्थल से दो नक्सली शव बरामद किए गए। एक वर्दी में तथा दूसरा सिविल ड्रेस में है। वर्दीधारी नक्सली की पहचान विनय नरोटी के रूप में की गई जाे गट्‌टा दलम का सदस्य है। दूसरे नक्सली की पहचान की जा रही है। घटनास्थल पर कई जगह खून के निशान मिले हैं। दावा किया जा रहा है और भी नक्सलियों को गोली लगी है।

झारेगुड़ा में रात में नक्सलियों ने की थी पार्टी: महाराष्ट्र पुलिस

महाराष्ट्र पुलिस के अनुसार झारेगुड़ा गांव धुर नक्सल संवेदनशील है। यहां आए दिन नक्सलियों का जमावड़ा रहता है। मुठभेड़ में मारा गया नक्सली विनय नरोटी का भी यही गांव है। पुलिस को पुख्ता सूचना मिली थी कि यहां बड़ी संख्या में नक्सली जमा हुए हैं। नक्सलियों का यहां मंगलवार रात खाने पीने का कार्यक्रम था। नक्सलियों ने रात में पार्टी की थी। आशंका है इस पार्टी में कांकेर इलाके के भी नक्सली शामिल हुए होंगे।

खबरें और भी हैं...