पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अफवाहों का असर:ग्रामीण नहीं लगवा रहे वैक्सीन, मितानिनें घर-घर जाकर जागरूक कर रहीं

कांकेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीणों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करने का बीड़ा 454 ग्राम पंचायतों के 1068 गांवों में तैनात 3396 मितानिनों ने उठाया है

अफवाहाें के चलते ग्रामीण वैक्सीन लगवाने तैयार नहीं हो रहे हैं। अब उन्हें वैक्सीन लगवाने प्रेरित करने तथा अफवाहों को दूर करने का बीड़ा जिले की 3396 मितानिनों ने उठाया है। वे लोगों के घर घर पहुंच ग्रामीणों को जागरूक कर रही हैं। जरूरत पड़ने पर उन्हें स्वयं सेंटर तक लाकर वैक्सीन लगवा रही है।

प्रेरित करने के बावजूद जो ग्रामीण वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं उनका डाटा भी मितानिन तैयार कर रही हैं ताकी इस संबंध में कार्ययोजना बनाई जा सके। कोरोना को पूरी तरह से हराने वैक्सीनेशन बेहद जरूरी है। जिले के अंदरूनी गांव में वैक्सीन को लेकर तरह तरह की अफवाहें फैल गई है जिसके चलते वहां के लोग वैक्सीन लगवाने सामने नहीं आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की पहल पर अब ग्रामीणों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करने का बीड़ा जिले के 454 ग्राम पंचायतों के 1068 गांवों में तैनात 3396 मितानिनों ने उठाया है। मितानिन अब लोगों के घरों तक पहुंच रही हैं तथा उनके मन में वैक्सीन को लेकर व्याप्त भ्रांतियों को दूर कर रही हैं।

जरूरत पड़ने पर मितानिनें ग्रामीणों को स्वयं लेकर वैक्सीनेशन सेंटर पहुंच रही हैं। मितानिनों को भी कोरोना वारियर्स का दर्जा दिया गया है। प्रथम चरण में जब 16 जनवरी से वैक्सीनेशन शुरू हुआ तब से जिले भर की मितानिनों को भी वैक्सीन लगवाया गया था। ग्रामीणों को समझाने में मितानिनों का सबसे बड़ा हथियार मितानिनों का स्वयं वैक्सीन लगवाना है। मितानिन बताती हैं कि वे स्वयं दोनो वैक्सीन डोज लगवा चुकी हैं तथा पुरी तरह स्वस्थ्य हैं। मितानिन अपने साथ वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र भी लेकर चलती हैं जिसे सबूत के तौर पर दिखाया जाता है।

समझाइश का पड़ रहा सकारात्मक असर
कांकेर शहर में भी 36 मितानिन हैं जो वैक्सीनेशन को लोगों को जागरूक करने काम कर कर रही हैं। अघननगर मितानिन सुषमा यादव ने कहा वे घर घर जाकर जानकारी ले रही हैं की किसने वैक्सीन नहीं लगवाया है। जिनके मन में कुछ शंकाएं हैं उन्हें दूर किया जा रहा है। इसका काफी सकारात्मक असर पड़ रहा है। कांकेर विकासखंड ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक अशोक नाग ने कहा वैक्सीनेशन को लेकर मितानिन काफी अच्छा काम कर रही हैं। कई बार तो एक ही घर में दो से तीन बार तक समझाने जाना पड़ रहा है।

मितानिनों की समझाइश का हो रहा असर
सीएमएचओ डा जेएल उइके ने कहा स्वास्थ्य विभाग के स्टाफ के साथ मितानिन भी वैक्सीनेशन के प्रति लाेगों को जागरूक करने अच्छा काम कर रही हैं। मितानिनें लोगों के बीच ही रहती हैं जिनकी समझाईश का वहां के लोगों पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।

खबरें और भी हैं...