चुनौती बढ़ी / संक्रमितों के संपर्क में आए 40 लोग सैंपल लेने के बाद किया क्वारेंटाइन

ग्राम पोलमी में पेड़ की टहनियों को गिराकर रास्ता बंद करते ग्रामीण। ग्राम पोलमी में पेड़ की टहनियों को गिराकर रास्ता बंद करते ग्रामीण।
X
ग्राम पोलमी में पेड़ की टहनियों को गिराकर रास्ता बंद करते ग्रामीण।ग्राम पोलमी में पेड़ की टहनियों को गिराकर रास्ता बंद करते ग्रामीण।

  • मुंबई से लौटा युवक बना कोविड सोर्स, जिले में अब कोरोना के 7 एक्टिव केस

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

कवर्धा. ग्राम पोलमी में सरपंच पति, रसोइया समेत 5 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। मुंबई से लौटे युवक के जरिए ये सभी संक्रमित हुए। इन संक्रमितों के संपर्क में 40 लोग आए थे। सभी को ट्रेस कर सैंपल लिए गए और क्वारेंटाइन किया गया है। एक साथ 5 संक्रमित मिलने पर ग्राम पोलमी समेत 4 गांवों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है।  
अब कबीरधाम जिले में कोरोना वायरस के 7 एक्टिव केस हो गए हैं। इसके साथ ही संक्रमण को रोकने की चुनौती बढ़ गई है। क्योंकि यहां संक्रमितों की संख्या बढ़ने की आशंका है। पोलमी क्वारेंटाइन सेंटर में मुंबई से आए 20 वर्षीय युवक की 17 मई को कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट मिली थी। उसके साथ सेंटर में 16 अन्य प्रवासी श्रमिक क्वारेंटाइन में थे। उनमें से अधिकांश की जांच रिपोर्ट अभी आई नहीं है। सरपंच पति, रसोइया व किराना व्यवसायी, जो बाहर रहकर क्वारेंटाइन में रुके श्रमिकों की सेवा में लगे थे, उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। प्रशासन सिर्फ एहतियातन कदम उठा रही है। 
छात्रावास अधीक्षक मुंगेली में सेल्फ क्वारेंटाइन में
पोलमी क्वारेंटाइन सेंटर से लगा हुआ विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा आवासीय विद्यालय है, जहां के दोनों रसोइया कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उस आवासीय विद्यालय का अधीक्षक ग्राम दशरंगपुर (मुंगेली) चला गया है। एक साथ 5 पॉजिटिव केस मिलने के बाद शुक्रवार रात ग्राम पोलमी पहुंचे कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने लापरवाही पर एसडीएम प्रकाश टंडन को खूब फटकार लगाई। छात्रावास अधीक्षक को भी कॉल कर डांटा। उसने बताया कि पहला पॉजिटिव केस मिलने के बाद वह मुंगेली स्थित अपने गांव में होम क्वारेंटाइन पर है। इसे लेकर उसने अवकाश पत्र विभाग को सौंपा है। 
संक्रमित के हाथ का बना खाना खाए थे
संक्रमित मिले रसोइया का बनाया भोजन करने वालों को भी क्वारेंटाइन किए गए हैं। इनमें नेऊर के संकुल प्रभारी, कन्या आश्रम के 3 रसोइया, मिडिल स्कूल के 3 स्वीपर और पोलमी व डालामौहा के 10 ग्रामीण शामिल हैं। सभी को कन्या आश्रम नेऊर में क्वारेंंटाइन किया गया है। क्योंकि इन लोगों ने संक्रमित रसोइया के हाथ का बना खाना खाया था। 
गांवों में पुलिस तैनात रास्तों की निगरानी 
ग्राम पोलमी और पुटपुटा पहले ही कंटेनमेंट जोन में थे। अब एक साथ 5 पॉजिटिव केस मिलने के बाद ग्राम नेऊर और माठपुर को भी कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। चारों गांव की सीमाएं सील कर दी गई है। लोगों को घरों से बाहर न निकलने की हिदायत दी गई है। एहतियात के लिए गांवों में पुलिस जवानों की तैनाती गई है, जो हर रास्ते की निगरानी कर रहे हैं। गांव में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है। लोग सहमे हुए हैं। 
टहनियों को रख बंद किया गांव का रास्ता 
कोरोना संक्रमण को लेकर कंटेनमेंट जोन के ग्राम पोलमी के लोगों ने पुलिस व प्रशासन की ओर से बेरिकेड लगवाने का इंतजाम नहीं किया बल्कि खुद ही गांव की मुख्य सड़क पर सूखे पेड़ की टहनियों को रखकर सड़क को पूरी तरह से बंद कर दिया है। ताकि बाहर से न कोई व्यक्ति गांव में आ सके और न ही कोई गांव से बाहर जा सके। गांवों में गैर जरूरी दुकानें बंद करा दी गई है। कोरोना के डर से लोग खुद ही घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। गांव में पूरा एहतियात बरता जा रहा है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना