कार्यक्रम आयोजित:रायपुर में 28 से शुरू होगी आदिवासी समाज की दशा और दिशा पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी

कवर्धा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सिविल लाइन रायपुर स्थित न्यू सर्किट हाउस में 28 से 30 अक्टूबर को आदिवासी समाज: दशा और दिशा (सभ्यता, संस्कृति, इतिहास, शिक्षा, कला, साहित्य, संघर्ष और वर्तमान चुनौतियां) पर 3 दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम छग शासन संस्कृति विभाग व आदिवासी विकास विभाग द्वारा प्रायोजित है।

कार्यक्रम के मुख्य संयोजक रमेश ठाकुर ने बताया कि संगोष्ठी 2019 में भी की गई थी, जिसमें देशभर से बुद्धिजीवियों ने आदिवासी समाज के विभिन्न पहलुओं जैसे सभ्यता, संस्कृति, शिक्षा, कला पर विश्लेषण किया था। इस संगोष्ठी के संयोजक डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में देशभर के बुद्धिजीवी भाग लेंगे। छत्तीसगढ़ सहित देशभर के मूलनिवासी समाज की समस्याओं के बारे में मंथन करेंगे। खासतौर पर उनकी दशा और दिशा पर। कार्यक्रम में शिक्षाविद, शोधार्थी, नामी लेखक, पत्रकार, नीति-निर्माता और समाजिक कार्यकर्ता जुटेंगे। राष्ट्रीय संगोष्ठी के उपविषय पर शोधपत्र मंगाए गए हैं। प्रतिभागियों से शोध पत्र हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषा में 20 अक्टूबर तक मांगे गए हैं।

खबरें और भी हैं...