पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्वामी ने पूरे पश्चिम में सनातन धर्म का लोहा मनवाया:भाजयुमो ने स्वामी विवेकानंद द्वारा शिकागो धर्म सम्मेलन में दिए प्रसिद्ध उद्बोधन की वर्षगांठ मनाई

कवर्धा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय जनता युवा मोर्चा कवर्धा द्वारा 11 सितंबर को स्वामी विवेकानंद द्वारा शिकागो धर्म सम्मेलन में दिए प्रसिद्ध उद्बोधन के वर्षगांठ को विश्व दिग्विजय दिवस के रूप में मनाते हुए युवा संगोष्ठी का आयोजन भाजपा कार्यालय में किया। इसमें मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित जसविंदर बग्गा ने युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं को विस्तृत रूप से स्वामी विवेकानंद की शिकागो धर्म सम्मेलन यात्रा एवं उनके उद्बोधन पर जानकारी प्रदान की।

उन्होंने बताया कि किस प्रकार से एक युवा सन्यासी ने धर्म सम्मेलन में उपस्थित लोगों को अपने संबोधन के पांच शब्द से मंत्रमुग्ध कर दिया और पूरे पश्चिम में सनातन धर्म और भारत के संस्कृति का लोहा मनवाया। भाजयुमो जिलाध्यक्ष ठाकुर पीयूष सिंह मौर्य ने कहा कि स्वामी विवेकानंद एक ऐसे युग पुरुष थे जिनका रोम-रोम राष्ट्रभक्ति और भारतीयता से सराबोर था। उनके सारे चिंतन का केंद्र बिंदु राष्ट्र और राष्ट्रवाद था। स्वामी विवेकानंद हम सभी युवाओं एवं सनातनियों के प्रेरणा स्रोत हैं। भारत की संस्कृति को विश्व के सामने श्रेष्ठ साबित किया : चंद्रप्रकाश: संगोष्ठी को संबोधित करते हुए भाजपा कवर्धा शहर मंडल अध्यक्ष चंद्रप्रकाश चंद्रवंशी ने स्वामी विवेकानंद की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए वर्ष 1893 के स्वामी विवेकानंद के धर्म सम्मेलन के उद्बोधन को युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं को बताते हुए कहा कि हिंदू धर्म व भारत की सनातन संस्कृति को विश्व पटल पर उतारने वाले स्वामी विवेकानंद की वह अमृतवाणी थी, जिसने भारत की संस्कृति को विश्व के सामने श्रेष्ठ साबित कर दिया। कार्यक्रम का संचालन जिला महामंत्री विक्की अग्रवाल ने किया एवं आभार प्रदर्शन जिला उपाध्यक्ष मयंक गुप्ता ने किया। इस अवसर पर जिला मंत्री सौरभ सिंह, ईश्वरी धुर्वे, अनिल साहू, दीपक ठाकुर, भेषज साहू, टोप सिंह आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...