पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुलासा:ब्वॉयफ्रेंड ने ही किया था दुष्कर्म, घरवालों के डर से झूठी कहानी बनाकर पुलिस को गुमराह करते रहे दोनों

कवर्धा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आदिवासी लड़की से सामूहिक दुष्कर्म का मामला }मेडिकल जांच और पीड़ित लड़की व उसके ब्वॉयफ्रेंड के बयान में विरोधाभास के चलते हुआ शक

कवर्धा में 14 साल की आदिवासी लड़की से दुष्कर्म मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। लड़की से उसके ब्वॉयफ्रेंड ने ही गंदा काम किया था। घरवालों के डर से दोनों ने सामूहिक दुष्कर्म की झूठी कहानी बनाई और पुलिस को गुमराह करते रहे। मेडिकल जांच में सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि न होने और पीड़ित लड़की व उसके ब्वॉयफ्रेंड के बार- बार बदलते बयान व विरोधाभास के चलते पुलिस को शक हुआ। शक को दूर करने के लिए पुलिस ने क्राइम सीन रीक्रिएट किया। पहले पीड़ित लड़की को घटनास्थल पर ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म की उसकी थ्योरी को समझने कोशिश की गई। उसके बाद लड़की के ब्वॉयफ्रेंड को मौके पर ले जाया गया। लेकिन दोनों के बयान में विरोधाभास होना पाया। आखिरकार लड़की और उसके ब्वॉयफ्रेंड ने सारी सच्चाई खुलकर बता दी। ब्वॉयफ्रेंड ने बताया कि लड़की से पुरानी पहचान है। प्रेम संबंधों के चलते घटना वाली रात पीजी कॉलेज मैदान में ब्वॉयफ्रेंड ने लड़की से जबरन शारीरिक संबंध बनाया। रात अधिक होने और घरवालों के डर से लड़की अपने घर नहीं जाने की जिद कर रही थी। इस पर दोनों ने मिलकर सामूहिक दुष्कर्म का झूठा नाटक किया।

सामूहिक दुष्कर्म का आइडिया ब्वॉयफ्रेंड ने दिया
लड़की का ब्वॉयफ्रेंड भी नाबालिग है। शारीरिक संबंध बनने के बाद लड़की काफी डर गई थी। वह अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ जाने की जिद कर रही थी। लड़के को भी उसी का बात का डर था, इसलिए दोनों ने मिलकर साजिश रची। लड़की के ब्वॉयफ्रेंड ने ही सामूहिक दुष्कर्म का आइडिया दिया और लड़की से वही सबकुछ करने को कहकर अपने घर चला गया।

रात को लड़की के घर न लौटने पर ढूंढ रहे थे परिजन
एसपी शलभ कुमार सिन्हा ने बताया कि वारदात वाले दिन पीडि़त लड़की शाम करीब साढ़े 7 बजे घर से निकली थी। पीजी कॉलेज मैदान में ब्वॉयफ्रेंड के साथ मिली, जहां का पूरा मामला है। रात 11 बजे तक जब लड़की घर नहीं लौटी, तो परिजन को उसकी चिंता हुई। वे आसपास पूछताछ कर रहे थे। नहीं मिलने पर रात साढ़े 11 बजे परिजन गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने थाने आए, उस वक्त लड़की को थाने ला चुके थे।

जांच में जुटे थे 7 थानों के टीआई, एसपी कर रहे थे लीड, 48 घंटे चली जांच के बाद अहसास हुआ कि बेवकूफ बन गए...
आदिवासी लड़की से सामूहिक दुष्कर्म की बात सामने आने पर पुलिस के अधिकारी सकते में आ गए थे। आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के लिए पुलिस पर चौतरफा दबाव था। वहीं सुरक्षा को लेकर पुलिस की किरकिरी भी हो रही थी। इस बीच पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती उन आरोपियों को पकड़ने की थी, जो असल में है ही नहीं। बहरहाल, एसपी शलभ कुमार सिन्हा ने मामले की जांच के लिए कवर्धा टीआई मुकेश यादव, पंडरिया टीआई कौशल किशोर वासनिक, सहसपुर लोहारा टीआई अनिल शर्मा, पिपरिया टीआई कपिलदेव चंद्रा, बोड़ला टीआई संतराम सोनी और तरेगांव जंगल टीआई आनंद शुक्ला के नेतृत्व में 7 अलग- अलग टीम बनाई। सभी टीम का नेतृत्व एएसपी अनिल कुमार कर रहे थे। सभी टीम अलग- अलग एंगल पर जांच कर रही थी। एक टीम पीड़ित लड़की द्वारा आरोपियों के बताए हुलिया अनुसार पतासाजी में जुटी थी। वहीं दूसरी टीम मोबाइल टॉवर डंप से मिले 25 हजार से अधिक डाटा नंबरों की जांच कर रही थी। बताए गए ट्रैक पर लगे सीसी कैमरे की फुटेज जांच, अज्ञात आरोपियों की स्कैचिंग, पुराने बदमाशों और संदिग्धों से पूछताछ की गई। पीड़ित लड़की और उसके ब्वॉयफ्रेंड के बताए अनुसार करीब 48 घंटे जांच के बाद पुलिस को अहसास हुआ कि वे बेवकूफ बन गए। क्योंकि हर एंगल की जांच कर चुके थे। इस बीच मेडिकल रिपोर्ट में भी सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई।

पुलिस जांच पर भरोसा नहीं मामले में न्यायिक जांच कराने भाजपा ने की मांग
दुष्कर्म मामले के खुलासे के बाद भाजपा को पुलिस जांच पर भरोसा नहीं है। वे मामले की न्यायिक जांच कराने की मांग रहे हैं। इसे लेकर सांसद संतोष पाण्डेय, भाजपा जिलाध्यक्ष अनिल सिंह, मंडल अध्यक्ष चंद्रप्रकाश चंद्रवंशी के नेतृत्व में बुधवार शाम 4 बजे बड़ी संख्या में कार्यकर्ता पैदल मार्च करते हुए एसपी ऑफिस पहुंचे। उन्होंने मामले की न्यायिक जांच के लिए राज्यपाल के नाम एसपी को ज्ञापन सौंपा है। भाजपा की मानें, तो पुलिस की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। सांसद संतोष पांडे ने इस गंभीर मामले में सरकार व कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों की चुप्पी पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि क्या सरकार दूसरे राज्य के आपराधिक मामले में ज्यादा संवेदनशील है, जो अपने राज्य के बढ़ते अपराध दिखाई नहीं दे रहे। मामले में सांसद पाण्डेय ने घटना के संबंध में कई सवाल उठाए हैं। जैसे घटना रात 11 बजे की है, तो पुलिस ने मेडिकल जांच में देरी क्यों की। पीड़ित लड़की को ही लगातार पुलिस ने अपनी अघोषित कस्टडी में रखा। पुलिस अधिकारी पहले इसे सामूहिक दुष्कर्म बता रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser