लापरवाही से गई जान / मंजूरी के इंतजार में 1 साल पहले खोदा कुआं, डूबने से दादी व नातिन की मौत

Dug well 1 year ago waiting for approval, drowning and grandmother died
X
Dug well 1 year ago waiting for approval, drowning and grandmother died

  • पीएम के लिए सफाईकर्मी ने 1500 रुपये रिश्वत मांगी, भेड़ागढ़ का मामला

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

कवर्धा/पंडरिया. पंडरिया ब्लॉक के ग्राम भेड़ागढ़ में मनरेगा के तहत स्वीकृति के इंतजार में निर्माणाधीन कुएं में डूबने से दो लोगों की मौत हो गई। दोनों मृतक एक ही परिवार के हैं। घटना सोमवार दोपहर 1.30 बजे की है। कुकदुर थाना से प्राप्त जानकारी अनुसार मृतक दादी गीता बाई (54)अपने चार वर्षीय नतनिन प्रीति धुर्वे को नहलाने गांव के तालाब की ओर निकली हुई थी। लेकिन वे निर्माणाधीन कुएं के किनारे नहा रहे थे। तभी नतनिन प्रीति धुर्वे कुएं के गहराई वाले क्षेत्र में जा पहुंची, ऐसे में नतनिन को बचाने के लिए दादी गीता बाई भी कुएं में उतर गई। इस दौरान दोनों की मौत हो गई। 
सोमवार देर शाम पुलिस ने दोनों शव को कब्जे में लेकर कुकदुर के सरकारी अस्पताल में पीएम कराने पहुंची। जहां शाम होने के कारण पीएम नहीं हो सका। दूसरे दिन मंगलवार की सुबह करीब 10 बजे पीएम शुरू की जा रही थी तो पीएम करने वाले सफाई कर्मचारी ने परिजन से 1500 रुपए रिश्वत मांगी। तब अस्पताल में परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। 
कुएं में 8 से 10 फीट पानी भरा: निर्माण कार्य बंद होने के कारण कुआं अब डबरी का रुप ले चुका है। ऐसे में कुआं का पानी उपर जमीन के सतह तक आ गया है। यह करीब 8 से 10 फीट गहरा है। जमीन के किनारे क्षेत्र में गहराई कम है। वहीं एक मीटर बाद गहराई 8 से 10 फीट है। यही कारण है कि बच्ची कम गहराई के क्षेत्र से होते हुए सीधे 8 से 10 फीट गहरे पानी वाले क्षेत्र में चली गई। बचाने के चक्कर में दादी की भी मौके पर मौत हो गई। कुकदुर थाना प्रभारी सुमीत नेताम ने बताया कि आसपास सुरक्षा के कोई उपाय भी नहीं है। मामले को लेकर विवेचना शुरू कर दिया है। 
भेड़ागढ़ में एक कुआं निर्माण स्वीकृत हुआ है: ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा के तहत विभिन्न निर्माण कार्य कराए जाते है। इसमें कुआं निर्माण भी शामिल है। ग्राम भेड़ागढ़ में वर्ष 2019 में कुआं निर्माण के लिए एक प्रकरण स्वीकृत हुआ है। लेकिन जिस कुएं में डूबने से दो लोगों की मौत हुई है, वह मनरेगा के तहत नहीं है। दरअसल गांव के हीरा कुमार ने स्वीकृति से पहले से वर्ष 2018-19 में अपने ही मन से कुआं निर्माण शुरू कर दिया था। लेकिन जिपं से उसे स्वीकृति नहीं मिली। ऐसे में स्वीकृति नहीं मिलने के कारण काम को अधूरा छोड़ दिया। कुएं में अब बारिश का पानी भर गया है। 

निर्माण कार्य को लेकर जांच करेंगे: एसडीएम 
इस संबंध में पड़रिया एसडीएम प्रकाश टंडन ने बताया कि ग्राम भेड़ागढ़ में निर्माणाधीन कुएं में दो लोगों की मौत को लेकर जांच करेंगे। निर्माण कार्य क्यों बंद था, किसकी लापरवाही है, यह जांच का विषय है। इसके साथ ही पीड़ित के परिजन को आरबीसी के तहत मुआवजा देने प्रकरण बनाया जाएगा, पीएम रिपोर्ट आने के बाद फाईल कलेक्टोरेट भेजी जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना