ईद मिलादुन्नबी पर जुलूस बैन:अस्त्र-शस्त्र का नहीं कर सकेंगे प्रयोग, सांस्कृतिक कार्यक्रम की भी अनुमति नहीं; गाइडलाइन जारी

कवर्धा/ बेमेतरा/कोरबा/ गरियाबंद7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कवर्धा के पोंडी स्थित मस्जिद को इस तरह से सजाया गया है। - Dainik Bhaskar
कवर्धा के पोंडी स्थित मस्जिद को इस तरह से सजाया गया है।

कोरोना का असर त्योहारों पर भी पड़ रहा है। यही वजह है कि अब ईद मिलादुन्नबी भी प्रशासनिक प्रतिबंधों के साए में मनेगा। इसके लिए प्रदेश के अलग-अलग जिलों के कलेक्टर अपने जिलों के लिए गाइडलाइन जारी कर रहे हैं। इसके मुताबिक इन जिलों में भी ईद मिलादुन्नबी के मौके पर जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई है। वहीं, अस्त्र-शस्त्र के प्रयोग पर भी रोक लगाई गई है।

जुलूस पर बैन का आदेश रविवार शाम रायपुर कलेक्टर ने जारी किया था। अब कोरबा, गरियाबंद, बेमेतरा और कवर्धा जिलों के लिए भी इसी तरह का आदेश जारी किया गया है। इन आदेशों में ईद मिलादुन्नबी के मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करने की भी अनुमति नहीं दी गई है।

ये है गाइडलाइन

  • ईद मिलादुन्नबी त्योहार के दौरान किसी प्रकार का जुलूस सभा, रैली, प्रभात फेरी या बाइक रैली निकालने की अनुमति नहीं होगी।
  • मस्जिद में तकरीर, परचम, कुशाई की अनुमति होगी।
  • कार्यक्रम का आयोजन ऐसे स्थान में किया जाए जिससे सार्वजनिक जगह बाधित ना हो।
  • ईद मिलादुन्नबी त्योहार के दौरान किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति नहीं होगी।
  • ईद मिलादुन्नबी त्योहार की समस्त कार्रवाई सुबह 9 बजे तक संपन्न कर ली जाए।
  • शासकीय संपत्ति जैसे बिजली का खंभा, कार्यालय तथा रोड क्रॉस करते हुए झंडा तोरण लगाने की अनुमति नहीं होगी।
  • मस्जिद में आने वालों को मास्क पहनना, समय-समय पर हाथ सैनिटाइज करना, सोशल डिस्टेंसिंग रखना जरूरी होगा।
  • त्योहार के दौरान किसी भी प्रकार के अस्त्र-शस्त्र का प्रयोग प्रतिबंधित होगा।
  • इन नियमों का उल्लंघन किए जाने पर एपिडेमिक डिजीज एक्ट, आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
कवर्धा में मस्जिदों को इस तरह से सजाया गया है।
कवर्धा में मस्जिदों को इस तरह से सजाया गया है।

घर में रहकर नमाज पढ़ने की अपील

कवर्धा में गाइडलाइन के बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने कहा है कि जिला प्रशासन के दिशा निर्देश का पूर्णतः पालन करते हुए ही ईद मिलादुन्नबी मनाया जाएगा। समाज के लोगों ने कहा है कि हमने सभी से घर में ही रहकर नमाज पढ़ने की अपील की है। वहीं, 19 अक्टूबर को ईद मिलादुन्नबी के मद्देनजर जिले की अलग-अलग मस्जिदों को सजाया भी गया है।

ईद पर जुलूस बैन, फैसला सुरक्षित:हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी, आज ही आएगा फैसला; 'उसकी देन कमेटी' ने आयोजन रोकने पर लगाई है याचिका

खबरें और भी हैं...