घपले के अंकुर फूटे / सोयाबीन बीज लैब में पास, बोआई में फेल‌‌; 7.20 करोड़ रुपये के बीज खरीदकर मुसीबत में पड़े किसान

Farmers in trouble by purchasing seeds worth Rs. 7.20 crores, failed in sowing, passed in soybean seed lab
X
Farmers in trouble by purchasing seeds worth Rs. 7.20 crores, failed in sowing, passed in soybean seed lab

  • 22 हजार किसानों को बेचे गए 9305 वैरायटी वाले सोयाबीन बीज में 15 से 20 दिन बाद भी अंकुरण नहीं

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

कवर्धा. केंद्रों में 1.02 करोड़ रुपए के धान घोटाले के बाद अब सोयाबीन बीजों में गड़बड़ी सामने आ रही है। कबीरधाम जिले में किसानों को बांटे गए 9305 वैरायटी वाले सोयाबीन बीज प्रयोगशाला (लैब) से तो पास हो गया, लेकिन बोआई में फेल हो गया है। किसानों का तर्क है कि इस वैरायटी के सोयाबीन बीज की गुणवत्ता ठीक नहीं है। यही कारण है कि बोआई के 15 से 20 दिन बाद भी खेतों में सोयाबीन पौधे के अंकुर नहीं आए हैं । 
सीधे-सीधे बीज निगम ने किसानों के साथ छल किया है। 7.20 करोड़ रुपए में बीज खरीदी कर किसान मुसीबत में फंस गए हैं। इसे लेकर कृषि विभाग में लगातार शिकायतें पहुंच रही है। 
मिली जानकारी के मुताबिक 9305 वैरायटी वाले सोयाबीन बीज की कीमत 6 हजार रुपए प्रति क्विंटल है। चालू खरीफ सीजन में समितियों के माध्यम से जिले के करीब 22 हजार किसानों ने 12 हजार क्विंटल सोयाबीन बीज खरीदा है। ज्यादातर किसान पखवाड़ेभर पूर्व खेतों में इसकी बोआई कर चुके हैं, लेकिन अब तक अंकुर नहीं फूटे हैं। जबकि बोआई के 5 से 6 दिन में ही बीजों से पौधे निकलना शुरु हो जाता है। कुल मिलाकर अब संबंधित किसानों की मुसीबत बढ़ गई है। 

शिकायत के बाद भी बिक्री पर नहीं लगाई रोक 
कृषि विभाग में लगातार बीज की गुणवत्ता खराब होने की शिकायतें आ रही है। लापरवाही का आलम यह है कि इसकी बिक्री पर रोक नहीं लगाए हैं । कृषि विभाग के उपसंचालक मोरध्वज डड़सेना बताते हैं कि शिकायत पर सोयाबीन बीज के सैंपल रायपुर के प्रयोगशाला भेजी गई थी। जांच रिपोर्ट पास हो गई। अब जिन किसानों ने इसकी बोआई कर दी है, उसकी जांच करा रहे हैं। 

किसानों के पंजीयन शुल्क के ‌685 रुपये भी फंसे 
योजना के तहत सोयाबीन बोआई करने वाले किसानों से कृषि विभाग बीज भी खरीदती है। ऐसे लगभग 5 हजार किसान हैं, जिन्होंने बीज देने पंजीयन कराया है। प्रति हेक्टेयर 685 रुपए पंजीयन शुल्क भी जमा किया है। ऐसे में पंजीयन शुल्क के नाम पर भी किसानों के लाखों रुपए फंस गए हैं। अगर बोआई के बाद फसल नहीं हुई तो नुकसान होगा।

घटिया बीज; निगम इसका जिम्मेदार, प्रबंधक सस्पेंड 
शहर से लगे घोठिया रोड पर बीज निगम संचालित है। निगम से बीजों को समितियों में भेजा जाता है, जिसके माध्यम से किसान खरीदी करते हैं। किसानों को गुणवत्ताहीन बीज बांटने को लेकर निगम ही जिम्मेदार है। बीज घटिया था तो इसे नहीं बांटना था। हाल ही में बीज निगम के प्रबंधक को सस्पेंड किया गया है। उन पर पिछले साल गुणवत्ताहीन धान व सोयाबीन बीज की सप्लाई करने का भी आरोप है। 
जिले में 31 हजार हेक्टेयर में सोयाबीन बोआई
चालू खरीफ सीजन में कबीरधाम जिले में 37 हजार हेक्टेयर में सोयाबीन फसल लगाने का लक्ष्य है। अब तक 31 हजार हेक्टेयर रकबे में सोयाबीन की बोआई हो चुकी है। जिले में 50 हजार से अधिक सोयाबीन लगाने वाले किसान हैं। आमतौर पर जून महीने में सोयाबीन बोआई का सही समय माना गया है। यही कारण है कि लक्ष्य का 90 फीसदी से अधिक रकबे में बोआई हो चुकी है। 

प्रति एकड़ 6 क्विं. उत्पादन, फसल नहीं होने पर नुकसान 
ग्राम खैरझिटी (पुराना) के किसान बिजेंद्र सिन्हा बताते हैं कि उन्होंने ढाई एकड़ रकबे में सोयाबीन बोआई की है। प्रति एकड़ लगभग 6 क्विंटल उत्पादन होता है। सोयाबीन का वर्तमान बाजार मूल्य 4 हजार रुपए प्रति क्विंटल है। अगर फसल नहीं हुआ तो नुकसान उठाना पड़ेगा।

सीधी बात 
मोरध्वज डड़सेना, उपसंचालक, कृषि विभाग

सवाल - किसानों को 9305 वैरायटी वाले सोयाबीन बीज बेचे गए हैं, अंकुर नहीं फूट रहे क्यों? 
- ऐसी शिकायतें मिल रही है। इस पर रायपुर के प्रयोगशाला में बीज के सैंपल जांच के लिए भेजे थे। जांच रिपोर्ट ओके आई है। 
सवाल - क्या वजह है कि बोआई करने के बाद पौधे नहीं आ रहे? 
- हां, इसकी जांच करवा रहे हैं। 
सवाल - बीज लेने वाले किसानों से पंजीयन शुल्क लिए हैं, बोआई फेल होने से उनके नुकसान का क्या होगा?  
- गुणवत्ता ठीक न होने की स्थिति में खरीदे गए बीज को वापस लेंगे। किसानों को उसका पैसा लौटाएंगे। जो किसान बोआई कर चुके हैं, अगर बीज खराब होने से फसल नहीं हुई तो मुआवजा देने का प्रावधान है ।सवाल - निगम प्रबंधन पर कार्रवाई होगी? 
- बीज निगम में प्रबंधक आरके उपाध्याय को सस्पेंड किया गया है। समय पर बीज की सप्लाई न करने और पिछले साल धान व सोयाबीन बीज के फेल होने के चलते उन पर कार्रवाई की गई है। हम इस पर नजर रखे हुए हैं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना