पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

रोजगार:कबीरधाम में समूह की महिलाएं बना रहीं गोबर के दीये, इससे जगमग होगी िदवाली

कवर्धाएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दशहरा के बाद होगा लांच-न्यूनतम दो से 10 रुपए में मिलेंगे दीये, अब तक 5 हजार से अधिक बनाए जा चुके, इसके पहले होली पर्व के लिए हर्बल गुलाल बना चुकी हैं महिलाएं

जिला प्रशासन द्वारा महिलाओं को रोजगार से जोड़ने व उन्हें आर्थिक फायदा देने के लिए गोबर के दीये का निर्माण किया जा रहा है। यह काम जिला पंचायत द्वारा 5 महिला स्वसहायता समूह के माध्यम से किया जा रहा है। दीपावली 12 नवंबर से शुरू हो रही है। इसे लेकर तैयारी शुरू हो गई है। जिला पंचायत से बीते एक वर्ष से त्योहारी सीजन में महिलाओं को आर्थिक लाभ पहुंचाने विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इसी साल होली के समय में हर्बल गुलाल, रक्षाबंधन में राखी समेत कोदो-कुटकी भी समूहों के माध्यम से लांच किया। इसी तर्ज पर आने वाले दीपावली में गोबर के दीये का निर्माण किया जा रहा है और इसी गोबर के दीये से घर रोशन होगा। इस कार्य की जिम्मेदारी सभी ब्लॉक के एक-एक समूहों को दी गई है। अब तक 5 हजार से अधिक गाेबर के दीये बनाए जा चुके हैं। इसे दशहरा के एक-दो दिन बाद लांच किया जाएगा। कवर्धा ब्लॉक से धन लक्ष्मी व संगम स्व-सहायता समूह, पंडरिया ब्लॉक से मां दुर्गा व मां स्व-सहायता समूह, सहसपुर लोहार ब्लॉक से जय मां शक्ति स्व-सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं इन दीयों को आकार दे रहीं हैं। भास्कर न्यूज | कवर्धा जिला प्रशासन द्वारा महिलाओं को रोजगार से जोड़ने व उन्हें आर्थिक फायदा देने के लिए गोबर के दीये का निर्माण किया जा रहा है। यह काम जिला पंचायत द्वारा 5 महिला स्वसहायता समूह के माध्यम से किया जा रहा है। दीपावली 12 नवंबर से शुरू हो रही है। इसे लेकर तैयारी शुरू हो गई है। जिला पंचायत से बीते एक वर्ष से त्योहारी सीजन में महिलाओं को आर्थिक लाभ पहुंचाने विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इसी साल होली के समय में हर्बल गुलाल, रक्षाबंधन में राखी समेत कोदो-कुटकी भी समूहों के माध्यम से लांच किया। इसी तर्ज पर आने वाले दीपावली में गोबर के दीये का निर्माण किया जा रहा है और इसी गोबर के दीये से घर रोशन होगा। इस कार्य की जिम्मेदारी सभी ब्लॉक के एक-एक समूहों को दी गई है। अब तक 5 हजार से अधिक गाेबर के दीये बनाए जा चुके हैं। इसे दशहरा के एक-दो दिन बाद लांच किया जाएगा। कवर्धा ब्लॉक से धन लक्ष्मी व संगम स्व-सहायता समूह, पंडरिया ब्लॉक से मां दुर्गा व मां स्व-सहायता समूह, सहसपुर लोहार ब्लॉक से जय मां शक्ति स्व-सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं इन दीयों को आकार दे रहीं हैं।

100 से अधिक परिवारों को मिलेगा इससे रोजगार
एक ओर जहां गोधन न्याय योजना के तहत गोबर से वर्मी कम्पोस्ट बना कर खेत की उर्वरा क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी। उसी के साथ अब राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत स्वसहायता समूह की महिलाएं भी गोबर से दीये बना रहीं है। इस कार्य में सीधे तौर पर 100 से अधिक परिवार को रोजगार मिलेगा। प्रत्येक समूह में करीब 15 से 20 सदस्य हैं व कुल समूह की संख्या 5 है। गोबर के प्रति नग दीये का रेट न्यूनतम दो से 10 रुपए तक होगा।

प्रतिदिन 1000 दीये बनाने का लक्ष्य तय किया गया
प्रति महिला प्रतिदिन 100 दीये बनाने का लक्ष्य रखा है। इस प्रकार यदि 10 महिलाएं भी एक साथ दीये बनाएं तो प्रतिदिन 1000 दीयों को अपने हाथों से आकर दे पाएंगी। सुबह सभी महिलाएं अपने घर के दैनिक कार्यों को पूरा कर अपने मोहल्ले में एकत्रित हो जाती हैं। वहां वे दीये बनाने का कार्य करती हैं। सबसे पहले वे गोबर और अच्छी मिट्टी का मिश्रण तैयार करती हैं, जिसके उपरांत वे हाथों से या चाक की मदद से दीयों को आकार देती हैं।

सभी समूह को 50 हजार रु. तक लाभ होगा- सीईओ
जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के ने बताया कि समूह की महिलाएं वर्तमान में दीये बनाने में लगी हुई है। दीये की डिमांड अच्छी रहीं तो एक समूह हो करीब 50 हजार रुपए तक का लाभ हो सकता है। दीये को दूसरे शहर में बेचने के लिए मार्केटिंग की भी तैयारी है। इससे इन महिलाओं को और भी फायदा होगा। बीते राखी व होली के दौरान भी एक से दो लाख रुपए तक फायदा हुआ था। लॉकडाउन व कोरोनाकाल के बीच इन परिवार को फायदा हो रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें