कोरोना का डर, पर किराना भी जरूरी:कवर्धा जिले में आज से 29 अप्रैल तक सब कुछ बंद; बाजारों में उमड़ी भीड, पिछले 7 दिनों में 2293 लोग हुए संक्रमित

कवर्धा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कवर्धा में लॉकडाउन से पहले लोगो की बाजारों में खूब भीड़ देखी गई। कैसे में कोरोना कैसे रुकेगा। - Dainik Bhaskar
कवर्धा में लॉकडाउन से पहले लोगो की बाजारों में खूब भीड़ देखी गई। कैसे में कोरोना कैसे रुकेगा।

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में 21 अप्रैल शाम 4 बजे से 29 अप्रैल सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन रहेगा। ऐसे में लॉकडाउन से पहले लोगों की भीड़ बाजार में उमड़ पड़ी। लोग लॉकडाउन से पहले अपनी तैयारी करने में जुटे रहे। शहर के मार्केट में पहले की तुलना में ज्यादा भीड़ देखी गई।

इन्हें मिलेगी छूट

दूध और न्यूज पेपर हॉकर को सुबह 6 से 8 बजे तक और शाम 5 से 6 बजे तक छूट दी गई है। दूध व्यवसाय के लिए कोई भी दुकान, पार्लर नहीं खोले जाएंगे। केवल दुकान पार्लर के सामने सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क संबंधी निर्देशों का पालन करते हुए, दूध बेचने की इजाजत होगी। पशु चारा के लिए सुबह 6 से 8 बजे तक और शाम 5 से 6:30 बजे तक दुकानें खोल सकेंगे। इस दौरान जिले की सभी सीमाएं सील रहेगी। हालांकि इस दौरान सभी अस्पताल, मेडिकल दुकानें, क्लिनिक और पशु अस्पताल निर्धारित समय पर खुलेंगे।

किराना और फुटकर दुकानें रहेगी बंद

जिले में लॉकडाउन के दौरान सभी प्रकार की मंडियां, थोक, फुटकर और किराना दुकानें बंद रहेगी। शर्त के साथ फल, सब्जी, अंडा और किराना (चावल, दाल, आटा, खाद्य तेल और नमक) को गली-मुहल्लो और कॉलोनियों में बेचा जा सकेगा। ठेले वालों को सुबह 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक सामान बेचने की इजाजत दी गई है। संबंधित क्षेत्र के सक्ष्म पदाधिकारी इसकी निगरानी करेंगे। निर्देशों के उल्लंघन पर ठेले को जब्त करने के साथ चालानी कार्रवाई की जाएगी।

लॉकडाउन से पहले बाजार में भीड़

कवर्धा शहर के प्रमुख बाजारों में लोगो की सामान खरीदने को लेकर भीड़ रही। इस तरह से लोग घरों से बाहर निकले जैसे कोरोना का संक्रमण ही खत्म हो गया हो। लेकिन यह लापरवाही भारी पड़ सकती है। जिले में पिछले 7 दिनों में ही 2293 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हुए हैं। संक्रमण की वजह से 11 लोगो की मौत भी हो गई है।

खबरें और भी हैं...