ठिठुरन बढ़ी:सर्दी के सितम का नया वैरिएंट; सात साल बाद जनवरी में सबसे ज्यादा 69.75 मिमी हुई बारिश

कवर्धा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कबीरधाम में 22 डिग्री पहुंचा दिन का पारा, जो औसत से 6 डिग्री कम, विजिबिलिटी सौ मीटर से भी कम

मौसम में आए बदलाव के चलते कबीरधाम जिले में बीते 5 दिन से बारिश का दौर चल रहा है। शुक्रवार को भी जिले के अधिकांश इलाकों में बारिश हुई। कवर्धा में दिनभर रुक- रुककर बारिश होती। पंडरिया में भी लगभग यही हालात रहे। चिल्फी में दोपहर के वक्त कोहरा छाया हुआ था। इसके चलते विजिबिलिटी (दृश्यता) 100 मीटर से कम रही। यहां भी दोपहर में तेज बारिश हुई।

बारिश के चलते दिन का पारा 22 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, जाे कि औसत से 6 डिग्री कम है। बीते साल 14 जनवरी को दिन का तापमान 28 डिग्री पर था। मौसम में आए इस बदलाव के बीच एक नया रिकॉर्ड भी कायम हुआ है। वो यह कि जिले में 7 साल बाद सर्दी के महीने में सबसे ज्यादा 69.75 मिमी औसत बारिश हुई है।

इससे पहले यह वर्ष 2014- 15 में (25 दिसंबर 2014 से 15 जनवरी 2015 के बीच) 62.12 मिमी औसत बारिश रिकॉर्ड की गई थी। मौसम का मिजाज अभी 1- 2 दिन ऐसे ही रहने की संभावना है। इधर मौसम में बदलाव का असर फसलों पर पड़ने लगा है। बारिश से फसल खराब हो रही है वहीं बदली छाए रहने के कारण फसल में कीट प्रकोप की शिकायत भी है।
पखवाड़ेभर पहले बिगड़ा मौसम, जो सुधरा नहीं
जिले में पखवाड़ेभर पहले मौसम बिगड़ा। चक्रवात के असर से 29 दिसंबर 2021 को तेज बारिश और ओलावृष्टि हुई। इस दिन पूरे छग में सबसे ज्यादा कवर्धा में 67 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई थी। 30 दिसंबर को भी जिले में बारिश हुई। 5 दिन से फिर बारिश व कोहरे के हालात हैं, जो सुधर नहीं रहा।

तापमान लगातार घटने से दिन में भी सता रही सर्दी
बारिश के कारण तापमान में गिरावट आई है, जिससे सर्दी का लेवल बढ़ गया है। शुक्रवार को दिन का तापमान 22 डिग्री सेल्सियस और रात का 14 डिग्री सेल्सियस पर रहा। तापमान में कमी के चलते दिन में भी लोग ठंड से ठिठुर रहे हैं। वनांचल क्षेत्र में लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं।

आगे क्या... 15 के बाद बढ़ सकता है अधिकतम तापमान

रायपुर के मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा बताते हैं कि 15 जनवरी के बाद अधिकतम तापमान में बढ़ोत्तरी की उम्मीद है। छग प्रदेश में बंगाल की खाड़ी से नमीयुक्त गरम हवाओं का आगमन निरंतर जारी है। साथ ही एक द्रोणिका दक्षिण अंदरूनी कर्नाटक से उत्तर अंदरूनी उडीसा तक आज भी स्थित है। इसके असर से 15 जनवरी को प्रदेश के एक- दो स्थानों पर हल्की वर्षा की संभावना है। प्रदेश में अधिकतम तापमानों में वृद्धि होने की संभावना बन रही है। उत्तर छग में उत्तर से ठंडी और शुष्क हवाओं के आगमन के कारण सुबह कोहरा छाने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक 15 जनवरी के बाद न्यूनतम तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो जाएगा।

मैदानी क्षेत्रों व वनांचल में पड़ रही कड़ाके की ठंड

पंडरिया| नगर सहित ब्लाक के ग्रामीण क्षेत्रों में शुक्रवार दोपहर से देर शाम तक तेज बारिश हुई। इससे फसलों और सेहत पर असर पड़ रहा है। मैदानी क्षेत्रों के साथ वनांचल में कड़ाके की ठंड बढ़ गई है। ठंड बढ़ने का प्रभाव सुबह लगने वाले स्कूलों पर भी दिखाई पड़ा। सुबह स्कूल जाने वाले छोटे स्कूली बच्चे परेशान हुए।

अधिकतर बच्चे स्कूल नहीं जा सके।इसी तरह सड़क व बाजार में भी पूरे दिन लोगों की आवाजाही कम रही। कार्यालयों में भी सन्नाटा पसरा रहा। लगातार मौसम खराब रहने व बारिश के कारण क्षेत्र के फसलों पर बुरा प्रभाव पड़ा है। क्षेत्र में लगे रबी फसल मसूर, सरसों, अरहर, तिवरा, चना को नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा टमाटर, गोभी, पालक, आलू, बैगन सहित अन्य सब्जियां भी खराब हो गए हैं।

इसके साथ ही अधिक उम्र वाले लोगों विशेषकर दमा, श्वांस व बाथ से पीड़ित लोगों की परेशानी बढ़ गई है। डॉ. शेखर वैष्णव ने बताया कि लगातार बारिश और बादल छाए रहने के कारण सर्दी -बुखार के मरीज बढ़े हैं।

खबरें और भी हैं...