पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूल में दो छात्रों को बिच्छू ने मारा डंक:एक की इलाज के दौरान हुई मौत, दूसरा सुरक्षित

नांदघाट6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अकोली के शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल भवन का ऐसा है हाल। - Dainik Bhaskar
अकोली के शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल भवन का ऐसा है हाल।
  • नवागढ़ ब्लॉक के ग्राम अकोली के शासकीय मिडिल स्कूल का मामला

नवागढ़ ब्लॉक के एक सरकारी मिडिल स्कूल में बिच्छू के डंक से एक छात्र की मौत हो गई। मामला नांदघाट से महज 4 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत अकोली के मिडिल स्कूल का है। छात्र शनिवार की सुबह पढ़ाई के लिए स्कूल पहुंचा था। इसी दौरान बिच्छू छात्र के कपड़े के भीतर घुस गया और उसने डंक मार दिया। बिच्छू को निकालने में मदद कर रहे दूसरे छात्र को भी बिच्छू ने डंक मारा।

तत्काल दोनों छात्रों को पहले सिमगा के सरकारी अस्पताल ले जाया गया। यहां मदद करने वाले छात्र की स्थिति तो सुधर गई, लेकिन जिसे बिच्छू ने पहले डंक मारा उस छात्र को वहां से रायपुर रेफर किया गया। अगले दिन रविवार को उसके मौत की सूचना सामने आई। जानकारी के अनुसार अकोली निवासी व अकोली के ही मिडिल स्कूल में कक्षा आठवीं के छात्र 14 वर्षीय तुलेश्वर निषाद पिता नोहर की बिच्छू के डंक के कारण मौत हो गई। वह शनिवार को सुबह स्कूल पहुंचा था। पढ़ाई के दौरान छात्र के कपड़े के भीतर बिच्छू घुस गया और उसने डंक मार दिया। वहीं बिच्छू को निकालने में मदद कर रहे एक अन्य छात्र झलक निषाद को भी बिच्छू ने डंक मार दिया। परिजन व शिक्षकों ने दोनों छात्रों को संजीवनी 108 की सहायता से सिमगा हॉस्पिटल पहुंचाया। जहां से तुलेश्वर की स्थिति को देखते हुए उसे मेकाहारा रेफर कर दिया। जहां इलाज के दौरान तुलेश्वर की मौत हो गई। वहीं दूसरा छात्र झलक अभी स्वस्थ है। छात्र तुलेश्वर का शव देर शाम तक अकोली नहीं पहुंच सका था। इस मामले में नवागढ़ बीएमओ डॉ. बोधेश्वर वर्मा ने बताया कि बिच्छू के काटने से मौत के केस बहुत कम होते हैं। लेकिन समय पर इलाज नहीं मिलने पर जान जा सकती है।

मिडिल स्कूल के हेड मास्टर एसपी
मिडिल स्कूल के हेड मास्टर एसपी साहू ने बताया कि शनिवार को सुबह आठवीं के छात्र तुलेश्वर और झलक को बिच्छू ने डंक मारा था। जिन्हें तुरंत हॉस्पिटल पहुंचाया गया। रविवार को तुलेश्वर की मौत की खबर मिली है। इधर, अकोली के ग्रामीण मंगल देशलहरे, अशोक निषाद, दुर्गेश निषाद, राजेन्द्र यादव ने बताया कि अकोली के मिडिल स्कूल की हालत खराब हो चुकी है। प्लास्टर उखड़ चुके हैं। छत का प्लास्टर बच्चों के ऊपर गिरता है। सरिया तक नजर आने लगा है। स्कूल में पानी टपकता है। ऐसे में छात्रों पर खतरा मंडराते रहता है। ग्रामीणों ने शासन से नए स्कूल भवन के निर्माण की मांग कई बार की है, लेकिन समस्या जस की तस है।

18 साल पुराने भवन में पढ़ाई
भवन 18 साल पुराना है। सरपंच तान्या प्रेम नवरंग ने बताया कि स्कूल के खस्ताहाल स्थिति को लेकर शिक्षा विभाग को कई बार पत्र लिखा गया, फिर भी इसे ठीक नहीं कराया गया है। बच्चों की सुरक्षा सर्वोपरि है। पंचायत फिर से शिक्षा विभाग को स्कूल भवन को ठीक करने पत्र लिखेगी।

खबरें और भी हैं...