पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बड़ी लापरवाही:कोविड केयर सेंटर में इलाज के अभाव में मरीज की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

अंबागढ़ चौकी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 96 घंटे से कोविड केयर सेंटर में नहीं पहुंचा कोई डाॅक्टर, कर्मचारी भी झांकने तक नहीं आया
  • अव्यवस्था उजागर: सेंटर में भर्ती मरीजों ने सुनाया दुखड़ा, कहा- हमें छुट्टी दिलाओ

कोविड केयर सेंटर में इलाज के अभाव में बुधवार की रात खोर्राटोला निवासी 60 वर्षीय शुकलाल खरे की मौत हो गई है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि अंबागढ़ चौकी के कोविड केयर सेंटर में बीमारों का इलाज नहीं किया जा रहा है बल्कि गरीब वर्ग के असहाय मरीजों को जान से मारा जा रहा है।

इलाज के नाम पर यहां केवल भर्ती किए जाने के बाद दवाई दे दी जाती है उसके बाद यहां मरीज की पूछपरख तो दूर उसे जरूरत की दवाइयां एवं चिकित्सीय सुविधाएं नहीं दी जातीं है जिससे मरीज इलाज के अभाव में दम तोड़ देता है। स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन की लापरवाही से नाराज मृतक के परिजनों ने शुकलाल की मौत के लिए बीएमओ व बीपीएम को जिम्मेदार ठहराते हुए इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। ग्राम खोर्राटोला निवासी नोवेन्द्र व जितेन्द्र खरे ने बताया कि बुधवार की दोपहर उनके पिता शुकलाल खरे को पीठ सीने एवं रीढ की हड्डी में दर्द हुई तो उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। यहां उनका एंटीजन टेस्ट किया और उनकी रिपोर्ट पाॅजिटिव आई।

उसके बाद ड्यूटी में मौजूद चिकित्सा स्टाफ व बीएमओ डॉ. आरआर धुुवे ने बताया कि उन्हें श्वास लेने में तकलीफ आ रही है। इनको इलाज के लिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया, लेकिन मरीज को डोंगरगांव पहुंचने से पहले ही बीच रास्ते से वापस चौकी लाकर नगर के वार्ड 1 मेरेंगाव में स्थित कोविड केयर सेंटर में रखा गया। मृतक के पुत्र ने बताया कि उसके पिता की स्थिति गंभीर थी इसलिए उसे राजनांदगांव रेफर किया गया। लेकिन उन्हें बीच रास्ते से वापस क्यों लौटाया और अंबागढ़ चौकी के कोविड केयर सेंटर में जहां किसी तरह की कोई आॅक्सीजन बेड या अन्य चिकित्सीय सुविधा नहीं है वहां भर्ती कर दिया। जहां पर इलाज के अभाव में उसके पिता की मौत हो गई है।

सेंटर में 4 दिनों से नहीं पहुंचा कोई डाॅक्टर
शनिवार से पुनः शुरू हुए कोविड केयर सेंटर को लेकर गंभीर शिकायत है। यहां पर भर्ती किए गए मरीजों की मानें तो यहां खाने के नाम पर मोटा चावल, सब्जी का कोई ठिकाना नहीं है। रोटियां भी कच्ची व अधपकी मिलती है। यहां पर शनिवार से भर्ती किए गए मरीजों ने बताया कि उनकी शिकायत खाने व नाश्ते से कहीं अधिक यहां भर्ती किए गए मरीजों का हालचाल लेने डाॅक्टर तो दूर स्वास्थ्य विभाग का कोई कर्मचारी भी नहीं आता। पिछले 96 घंटे से कोई डाॅक्टर यहां पहुंचा नहीं है। सिर्फ दो टाइम खाना देते हैं।

मरीजों ने कहा-कोविड केयर सेंटर में काेई सुविधा नहीं
ब्लाॅक मुख्यालय के कोविड केयर सेंटर में 55 मरीज भर्ती हैं। बुधवार की रात नगर के वार्ड एक मेरेगांव में स्थित कोविड केयर सेंटर में भर्ती किए गए मरीजों से लोहे के गेट से बाहर बात की गई तो कहा कि हमें छुटटी दिला दीजिए। हमें अपने-अपने घर जाना है। यहां पर मरीजों का किसी तरह का कोई इलाज नहीं किया जा रहा है और न ही कोई देखरेख किया जा रहा है। यहां पर इलाज के लिए लाया गया है और जब इलाज ही नहीं हो रहा है। किसी तरह की स्वास्थ्य व चिकित्सीय सुविधा मिल नहीं रही है तो फिर यहां रहने का कोई आवश्यकता है। यहां पर कोविड केयर सेंटर के नाम से लोगों के जान से खिलावाड़ किया जा रहा है। हम अपने घर में ही रहकर जी या मर लेंगे। हमे यहां से मुक्ति दिलाइए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें