दीपावली पर्व में अपराध का ऐसा रहा हाल:कवर्धा व पंडरिया थाने में बलवा दर्ज, जुए के 103 प्रकरण में 1.63 लाख रुपए जब्त

कवर्धाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दीप पर्व के बाद शहर के बाजार व चौक सूने रहे, जवान तैनात रहे। - Dainik Bhaskar
दीप पर्व के बाद शहर के बाजार व चौक सूने रहे, जवान तैनात रहे।
  • पटाखे फोड़ने पर दो पक्षों में हुआ विवाद, लाठियां चलीं

जिले में दीपावली पर्व के दौरान अपराध संबंधित मामले बढ़े है। तीन से लेकर 6 नवंबर तक जिले के विभिन्न थानों में आपस में मारपीट, पुरानी रंजिश, पटाखा फोड़ने समेत छोटे-छोटे विवाद थाने तक जा पहुंचा। ऐसे कुल 31 मामले हैं, जिनमें एफआईआर दर्ज की गई है। दो मामले ऐसे है, जिसमें लाठी-डंडे तक चले हैं। इस मामले में पुलिस ने बलवा के तहत मामला दर्ज किया है। दोनों मामले पंडरिया व कोतवाली थाना के है। इसके अलावा पूरे त्योहार के दौरान जुए के 103 प्रकरण सामने आए हैं। इनमें 439 आरोपी से 1 लाख 63 हजार 515 रुपए जब्त की गई।

बलवा का पहला मामला कोतवाली थाना कवर्धा का है। थाने से मिली जानकारी अनुसार ग्राम खैरबनाकला निवासी ईश्वर साहू ने एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने अपने आवेदन में बताया कि शुक्रवार शाम करीब 7 बजे अपने घर के बाहर बैठे थे। इसी दौरान कुछ बच्चे पटाखा फोड़ रहे थे। ईश्वर ने पटाखा फोड़ने से मना किया। तब गांव के ही नारायण साहू, चरण साहू, करण साहू, सोहन साहू, दिनेश साहू, तीजराम साहू, विष्णु यादव ने मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान बीच-बचाव करने ईश्वर की पत्नी अहिल्या बाई सामने आई। लेकिन नैन बाई, सावित्री बाई, मनिता बाई ने भी मारपीट शुरू कर दी। पीड़ित ईश्वर के आवेदन पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 147, 148, 294, 323, 506(बी) के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

पुरानी रंजिश को लेकर गाली गलौज कर रहे थे
इधर पंडरिया में भी दो पक्ष के बीच पटाखा फोड़ने के विवाद में लाठी चली है। पुलिस ने दोनों पक्ष के आवेदन पर बलवा समेत अन्य धारा लगाई है। यह मामला पंडरिया थाना क्षेत्र के ग्राम भरेवापारा में गुरुवार 4 नवंबर रात 8.30 बजे की है। पहले पक्ष की ओर से महेश चंद्राकर ने एफआईआर दर्ज कराई है। बताया गया कि वे घर में थे, तभी उनके घर के पास राकेश चन्द्राकर, भरत चन्द्राकर, राम चन्द्राकर, लक्ष्मण चन्द्राकर, अर्जुन चन्द्राकर, शोभा चन्द्राकर, तिलक चन्द्राकर, ओमप्रकाश चन्द्राकर द्वारा पुरानी रंजिश को लेकर गाली गलौज कर रहे थे। विवाद आगे बढ़ा तो सभी लोगों ने महेश चंद्राकर व उनके परिजन के ऊपर लाठी-डंडे से मारपीट शुरू कर दी। महेश चंद्राकर के आवेदन पर पुलिस ने राकेश चन्द्राकर, भरत चन्द्राकर, राम चन्द्राकर समेत अन्य के खिलाफ धारा 147, 148, 149,294, 323, 452, 506 के तहत मामला दर्ज किया है।

दूसरे पक्ष का दावा-पटाखा फोड़ने पर हुआ था विवाद
दूसरे पक्ष अर्जुन चंद्राकर के आवेदन पर पंडरिया पुलिस ने त्रिवेणी चंद्राकर, सुखमति चंद्राकर, प्रमीला चंद्राकर, गायत्री चंद्राकर, ज्योति चंद्राकर, सूरज चंद्राकर, दिनेश चंद्राकर, महेश चंद्राकर, संतोष चंद्राकर के खिलाफ धारा 147, 148, 149, 294, 323, 506 में मामला दर्ज किया है। दूसरे पक्ष का दावा है कि महेश चन्द्राकर ने पटाखा फोड़े जाने को लेकर विवाद शुरू किया व गाली गलौज शुरू कर दी। महेश के परिवार के लोगों ने लाठी-डंडे से हमला किया।

राहत: पांच ऐसे थाने जहां मारपीट के एक भी मामले दर्ज नहीं
त्योहार में अक्सर छोटे-छोटे विवाद होते रहते है। ये विवाद कई बार बढ़ जाते हैं। इस त्योहारी सीजन में जिले में 5 ऐसे थाने हंै जहां एक से लेकर 6 नवंबर के बीच एक भी मारपीट के मामले सामने नहीं है। इसमें चिल्फी, पांडातराई, तरेगांव जंगल, झलमला, सिंघनपुरी शामिल है। खास बात यह है कि तरेगांव जंगल, झलमला, सिंघनपुरी थाना में तो मारपीट के साथ-साथ एक भी सार्वजनिक जुआ एक्ट के मामले नहीं आए है। ये सभी थाना नक्सल प्रभावित में आते हैं।

त्योहारी सीजन में जुए को छोड़ अन्य अपराध

  • कोतवाली थाना कवर्धा - 7 मामले सामने आए। इनमें एक मामला बलवा व एक छेड़खानी के हैं।
  • कुकदूर थाना - दो मामले सामने आए।
  • पंडरिया थाना - 7 मामले, इनमें से दो मामले बलवा के हैं।
  • पिपरिया थाना - कुल 12 मामले सामने आए है। इन मामले में मारपीट, पुरानी रंजिश, पटाखा फोड़ने समेत अन्य कारण है।
  • भोरमदेव थाना - दो मामले सामने आए है।
  • जंगल रेंगाखार थाना - 1 मामला
  • सहसपुर लोहारा थाना - दो मामले सामने आए हैं, इसमें एक मामला छेड़खानी का है।
खबरें और भी हैं...