पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दुर्ग यूनिवर्सिटी:30 जून तक जारी किए जाएंगे सभी सेमेस्टर परीक्षा के नतीजे

कवर्धाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑनलाइन सेमेस्टर परीक्षा के बाद अब तक 25 प्रतिशत परिणाम जारी हुए, वार्षिक परीक्षा के लिए करना होगा इंतजार

कोरोनाकाल के बीच में विद्यार्थियों के लिए राहत की खबर है क्योंकि दुर्ग के हेमचंद विवि द्वारा सेमेस्टर परीक्षा परिणाम जारी करने की शुरुआत की जा चुकी है। कोरोना को देखते हुए इस वर्ष सेमेस्टर परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी। हेमचंद विवि के अधीन जिले के सभी सरकारी कॉलेज आते हैं।

वर्तमान में 25 प्रतिशत परीक्षा परिणाम जारी हो गए है। इसी माह जून के अंतिम हफ्ते तक सभी सेमेस्टर परीक्षा के परिणाम जारी होने की संभावना है। विवि स्तर पर तैयारी की जा रही है। सेमेस्टर परीक्षा इस वर्ष जनवरी-फरवरी के मध्य आयोजित की गई। दूसरी ओर वार्षिक परीक्षा भी पूरा हो गई है। ये परीक्षा इस वर्ष घर बैठे आयोजित की गई थी। 12 जून तक परीक्षा केन्द्र में विद्यार्थियों ने उत्तरपुस्तिका लिखने के बाद जमा कराया था। इसके बाद विवि की ओर उत्तरपुस्तिका भेजी जा चुकी है। जल्द ही विवि स्तर पर मूल्यांकन का कार्य शुरू होगा। बताया जा रहा है कि जुलाई माह के अंतिम हफ्ते से वार्षिक परीक्षा परिणाम जारी होने शुरू हो जाएंगे।

घर बैठे हुई परीक्षा, परिणाम भी 90 प्रतिशत के पार
सेमेस्टर परीक्षा परिणाम भी 90 प्रतिशत से अधिक जा रहा। क्योंकि इस वर्ष कोरोना को देखते हुए ऑफलाइन परीक्षा नहीं हुई थी। इस कारण परिणाम बेहतर हुआ है। बीते बुधवार तक तक कुल 60 में से 15 सेमेस्टर परीक्षाओं के नतीजे घोषित किए जा चुके हैं। अब तक घोषित परीक्षा परिणामों में एमएससी कंप्यूटर विज्ञान प्रथम सेमेस्टर, एमए मनोविज्ञान तृतीय सेमेस्टर, एमए गृह विज्ञान प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर, एमएससी गृह विज्ञान प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर का परिणाम सौ फीसद रहा। इसी प्रकार एलएलबी पंचम सेमेस्टर का परिणाम 97 फीसद, एमएसडब्ल्यू प्रथम सेमेस्टर का परिणाम 97 फीसद एवं एमएसडब्ल्यू तृतीय सेमेस्टर का परिणाम 94 फीसद रहा। वहीं पीजी डिप्लोमा इन योगा एजुकेशन में 85 फीसद विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए। एमलिब प्रथम सेमेस्टर में सौ फीसद परीक्षा परिणाम रहा।

इस साल विवि स्तर पर उत्तरपुस्तिका की जांच
बीते साल कोरोना को देखते हुए विवि ने संबंधित परीक्षा केन्द्र में ही उत्तरपुस्तिका की जांच कराई थी। लेकिन मूल्यांकन के दौरान कई केंद्रों में मूल्यांकनकर्ता की कमी होने के कारण दिक्कत हुई। इस कारण कई परीक्षा परिणाम देरी से जारी किए गए। इस वर्ष विवि की वार्षिक परीक्षाओं के नियमित एवं स्वाध्यायी विद्यार्थियों की उत्तरपुस्तिकाएं विभिन्न महाविद्यालय में संकलित होकर विवि में प्राप्त हो रही है। उत्तरपुस्तिकाओं को मूल्यांकनकर्ता प्राध्यापकों के पास भेजने की प्रक्रिया जारी है।

खबरें और भी हैं...