पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Kawardha
  • Such A Greed Of Land That A Fence Of Thorns Was Put In The Way To Stop The Last Journey, The Administration Interfered, Then After Twenty Four Hours The Body Of The Child Was Brought To The Crematorium

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शर्मनाक:जमीन का ऐसा लालच कि अंतिम यात्रा रोकने रास्ते में लगा दी कांटों की बाड़, प्रशासन ने दखल दिया तब चौबीस घंटे के बाद बच्ची का शव लाया गया श्मशान

नांदघाटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घर से श्मशान भूमि तक जाने हैं दो रास्ते, दोनों पर कब्जा करने वालों ने शवयात्रा को मार्ग देने से किया इनकार
  • दपरिजन उपतहसील व थाने गए, सरपंच व लोगों ने समझाया तब मंगलवार को अंतिम यात्रा के लिए दिया रास्ता

सिर्फ जमीन विवाद के मामले को लेकर एक बच्ची की मौत होने पर उसकी शवयात्रा निकालने के लिए परिजनों को 24 घंटे का इंतजार करना पड़ा। घर से श्मशान भूमि तक जाने के लिए रास्ते तो दो थे, लेकिन दोनों विवादित। दोनों रास्तों को दो व्यक्तियों ने अपनी जमीन बताकर शवयात्रा को मार्ग देने से इनकार कर दिया। उपतहसील नांदघाट के पास ग्राम खपरी में जमीन विवाद के चलते एक शव को श्मशानघाट तक ले जाने परिजनों को जगह नहीं दी गई। इस विवाद की वजह से करीब 24 घंटे तक शव घर पर ही रखा रहा। प्रशासनिक हस्तक्षेप के बाद आखिरकार वैकल्पिक रास्ता दिया गया और उसके बाद अंतिम संस्कार के लिए शव ले जाया गया। खपरी के प्रहलाद यादव की 13 वर्षीय बालिका छमेश्वरी यादव की बिलासपुर में इलाज के दौरान सोमवार को मौत हो गई। जब परिजन और ग्रामीण अंतिम संस्कार के लिए शव ले जाने लगे, तो पड़ोसी चंदू लाल वर्मा और बेदु राम मानिकपुरी ने उन्हें अपनी जमीन से जाने से रोक दिया। उनका कहना था कि यह जमीन उनकी है। इसलिए इधर से शव यात्रा नहीं ले जा सकते। समझाइश का दौर चलता रहा, लेकिन समझाने के बाद भी वे कुछ सुनने को तैयार नहीं हुए। इसके बाद परेशान परिजन उपतहसील नांदघाट और थाना गए। मामला बढ़ता देख पंचायत के मुखिया, सरपंच व अन्य लोग भी समझाने पहुंचे। इसके बाद मंगलवार को करीब तीन बजे शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया।

नल कनेक्शन के लिए पाइप लाइन इसी रास्ते से: देवजानी
मृतक बालिका की मां देवजानी यादव ने बताया कि पिछले कई वर्षों से वे पुराने रास्ते से आवागमन कर रहे थे और घर के नल कनेक्शन के लिए भी पाइप लाइन पुराने रास्ते से ही आई है। पड़ोसी चंदू वर्मा ने कब्जा कर उक्त रास्ते को बंद कर दिया है। तब से विवाद चल रहा है। दूसरे पड़ोसी बेदु मानिकपुरी ने भी सोमवार को बेटी के शव को अपने रास्ते से घर तक आने तो दिया, लेकिन जब शवयात्रा निकालने की बारी आई तो कांटा तार से रास्ते को रोक दिया।

घर के पुराने रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है: सरपंच
पीड़ित के घर से मुक्तिधाम जाने के लिए कोई रास्ता ही नहीं था। इसलिए रास्ते की समस्या को लेकर बेटी के शव को 24 घंटे तक घर में रखना पड़ा। प्रभारी तहसीलदार प्रफुल्ल रजक ने पटवारी को मौके निरीक्षण पर भेजा और सरपंच चमेली अर्जुन घृतलहरे के पहल के बाद वैकल्पिक रास्ता दिया गया। सरपंच चमेली घृतलहरे ने बताया कि पीड़ित और उनके पड़ोसी के बीच घर के पुराने रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है। मामला उपतहसील में है। नांदघाट उपतहसील के प्रभारी तहसीलदार प्रफुल्ल रजक ने बताया कि यह जमीन विवाद का मामला है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें