भ्रष्टाचार / जिले में किसानों को लोन ही नहीं मिल रहा, पटवारी खुलेआम मांग रहे रिश्वत

X

  • सोशल मीडिया में वीडियो वायरल होते ही एसडीएम ने संबंधित पटवारी को किया सस्पेंड

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

कवर्धा. शासन द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। पशुपालन विभाग द्वारा तय लक्ष्य 100 से ज्यादा 128 फॉर्म भरकर बैंक को भेजा गया। लेकिन किसी भी पशुपालक किसान को लोन नहीं मिला। ऐसे स्थिति में केसीसी का लक्ष्य पूरा नहीं हो सका है। वहीं दूसरी ओर अलग नजारा देखने को मिल रहा है। जिले के पंडरिया ब्लॉक के पलानसरी में पटवारी पर रिश्वत मांगने के आरोप लगे हैं। किसान क्रेडिट कार्ड से लोन निकालने के लिए एक किसान ने पटवारी से फॉर्म सी मांगा तो पटवारी ने उससे 300 रुपए की रिश्वत मांग दी। किसान ने पटवारी से रुपए मांगने का कारण पूछा तो उन्होंने कह दिया कि यह लगता ही है। पटवारी ने झल्लाकर किसान के चेहरे पर फॉर्म सी फेंक दिया। इस मामले में पंडरिया एसडीएम प्रकाश टंडन ने पटवारी को सस्पेंड कर मामले की जांच शुरू कर दी है। 
मामला 25 जून का है। पलानसरी के किसान प्रवीण चंद्रवंशी अपने पर्ची में दर्ज नाम के मुताबिक ऑनलाइन दर्ज रिकॉर्ड को सुधरवाने कुंडा में पटवारी तिलकचंद कोशले, हल्का नंबर 46, रैतापारा के पास पहुंचे। उनके पिता के नाम के आगे पर्ची में कुमार शब्द था, उसे वह सुधरवाना चाहते थे। उन्हें केसीसी से लोन लेना था

पूरा वाक्या किसान की जुबानी...
मुझे केसीसी के जरिए लोन लेना था। इसके साथ ही बी-1 को सुधरवाना था। उसमें मेरे पिताजी के नाम में कुछ त्रुटि थी। यह पर्ची में अलग था और ऑनलाइन में अलग। इसे ठीक कराने मैं कुंडा गया था। बात 25 जून की सुबह 10.30 बजे की है। मेरे से पहले वहां 4-5 किसान बैठे थे, पटवारी उनसे भी रुपए मांग रहे थे। उनका बर्ताव देख मैंने उनका वीडियो बनाया। उन्होंने फॉर्म सी तो बना दिया, लेकिन इसे देने के लिए वह मुझसे 300 रुपए मांगने लगे। मैंने इनकार कर दिया। मैं 3 से 4 बार उन्हें फोन कर चुका था। उन्होंने ही मुझे अपने कुंडा स्थित ऑफिस में बुलाया था। पैसा मांगने पर मैंने मना किया तो झल्लाकर उन्होंने फॉर्म सी मेरे मुंह पर फेंक दिया। 

कलेक्टर से भी की गई शिकायत 
इस मामले की शिकायत किसान प्रवीण चंद्रवंशी ने कलेक्टर से 29 जून को की। उन्होंने आरोप लगाया कि पटवारी खुले आम रिश्वत मांगते हैं और रिश्वत नहीं देने पर काम नहीं किया जाता। पैसे नहीं देने पर काम नहीं करने की धमकी दी जाती है। 

जांच के बाद आगे कार्रवाई की जाएगी
"पटवारी तिलकचंद कोशले को शासकीय कार्यों में लापरवाही बरतने व सिविल सेवा का उल्लंघन करने पर सस्पेंड कर दिया गया है। मामले की जांच करेंगे, जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।"
-प्रकाश टंडन, एसडीएम, पंडरिया 
लक्ष्य से ज्यादा केसीसी आवेदन, लोन नहीं मिला 
शासन द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के संबंध में फरवरी में निर्देश जारी किया गया। तब 10 फरवरी को जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के बैठक में निर्देश दिए कि ऐसे किसान जिसका किसान क्रेडिट कार्ड अभी तक नहीं बन पाया है, उन सभी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड में शामिल करें। साथ ही जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक से संबंधित सहकारी समिति तथा समस्त बैंकर्स ग्राम एवं ग्राम पंचायत में शिविर लगाकर किसान क्रेडिट कार्ड बनाया जाए। इसे लेकर पशुपालन विभाग को 100, मत्स्यपालन विभाग को 10, उद्यानिकी विभाग को 40 का लक्ष्य मिला था। लेकिन स्थिति खराब रहीं। पशुपालन विभाग के उपसंचालक डॉ.एनपी मिश्रा ने बताया कि उनके विभाग द्वारा तय लक्ष्य 100 से ज्यादा 128 फॉर्म भरकर बैंक को भेजा गया। लेकिन किसी भी पशुपालक किसान को लोन नहीं मिला।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना