प्रदर्शन:रसोइया संघ ने दिया धरना, कहा- 12 सौ मिलते हैं, उसके लिए भी 6 माह से तरस रहे

केशकालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ स्कूल मध्याह्न भोजन रसोइया कल्याण संघ के बैनर तले रावणभाठा मैदान में सोमवार को रसोइया संघ ब्लॉक इकाई के सैकड़ों महिला और पुरुष सदस्यों ने धरना दिया। उन्होंने अपनी 5 सूत्री मांगें उठाई। साथ ही राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। इसके बाद धरना स्थल से राष्ट्रीय राजमार्ग होते हुए बीईओ कार्यालय तक विशाल रैली निकालकर बीईओ सीएल मंडावी और एसडीएम दीनदयाल मंडावी को ज्ञापन सौंपा।

स्कूल मध्याह्न भोजन रसोइया कल्याण संघ के प्रदेश सचिव मेघराज बघेल ने बताया कि वर्तमान में समस्त स्कूलों में कार्यरत मध्याह्न भोजन रसोइया कर्मियों को प्रतिमाह 1200 रुपए मानदेय मिलता है। लेकिन विगत 6 महीनों से यह मानदेय रसोइयों को नहीं मिल रहा है, जल्द से जल्द सभी रसोइयों को मानदेय मिलना चाहिए। हमारी दूसरी मांग है कि रसोइयों को मध्याह्न भोजन बनाने के लिए अभी भी चूल्हे में काम करना पड़ता है, इसके लिए गैस सिलेंडर की व्यवस्था की जाए।

रसोइयों को शासकीय चतुर्थ वर्ग और पूर्णकालिक का दर्जा दिया जाए। लंबे समय से हम धरना और ज्ञापन के माध्यम से अपनी मांगों की ओर शासन प्रशासन का ध्यानाकर्षण करवाने के प्रयास कर रहे हैं लेकिन सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। हम मांग करते हैं कि जल्द से जल्द हमारी सभी मांगों को गम्भीरतापूर्वक लेते हुए पूरा किया जाए अन्यथा आने वाले समय में हम उग्र आंदोलन करने पर बाध्य होंगे।

खबरें और भी हैं...