पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना इफेक्ट:4 हजार किलो गेंदा फूल रोज रायपुर जाते थे, अब 700 किलो ही जा रहे

खरोरा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खरोरा. मोहरेंगा के फूल व्यवसायी कमलेश वर्मा ने इस बार एक माह में 250 किलो गेंदा फूल ही रायपुर में बेचे जबकि हर बार एक माह में 850 किलो के करीब बेचते थे।
  • खरोरा के व्यवसायी गेंदा फूल 30 रुपए किलो तक बेचते हैं जो रायपुर में 80 रुपए किलो हो जाता है
  • कोरोना काल में चंदा कम मिलने से खर्चों में की कटौती जिसका असर फूल व्यवसायों पर भी

(श्याम अग्रवाल) त्योहारों में सबसे अधिक चलने वाले फूलों के व्यापार पर भी कोरोनाकाल में ग्रहण लगता नजर आ रहा है। शनिवार से मां दुर्गा विराज गई हैं और फूल व्यवसायी निराश हैं। खरोरा के ग्रामीण इलाकों में फूलों के व्यापारी बहुतायत में हैं, जिनके फूल छत्तीसगढ़ से बाहर जाकर बिकते हैं।
कोरोना संक्रमण के कारण इस बार कारोबारियों के फूलों की बिक्री नहीं हो पा रही है।

गणेश पक्ष से लेकर दिवाली तक यानी कुल दो माह 4 हजार किलो गेंदा फूल प्रतिदिन रायपुर सप्लाई होता है लेकिन अभी 7 से 8 सौ किलो ही प्रतिदिन सप्लाई हो रहा है। खरोरा क्षेत्र के व्यापारी 25 से 30 रुपए किलो की दर से गेंदा फूल रायपुर सप्लाई करते हैं जबकि यही फूल रायपुर जाकर 80 रुपए हो जाता है। रायपुर से ये फूल राजिम और आरंग तक जाते हैं।

चंदा न मिलने से समितियों ने खर्चों में कटौती की

सबसे अधिक फूलों की बिक्री नवरात्रि पर्व और गणेशोत्सव पर ही होती है, लेकिन कोरोना के कारण दुर्गा बैठाने के लिए पंडालों के लिए शासन की ओर से जो गाइडलाइन जारी की गई है, जिसमें इस बार समितियों को डर बना हुआ है।

जहां खरोरा नगर में ही हर साल 12 जगह दुर्गा स्थापित होती थीं वहीं इस साल सिर्फ 6 जगह ही स्थापित होंगी। कोरोना काल के कारण समितियों को नहीं मिल रहा चंदा भी बड़ा कारण है कि समितियों ने सीमित राशि के कारण खर्चों में कटौती कर दी है जिससे फूलों का व्यापार इस बार मंदा है।

20 हजार के नुकसान की भरपाई के लिए 2 एकड़ खेत बेचेंगे खिलावन

कनकी बंगला के फूल व्यवसायी खिलावन यादव ने बताया कि हर साल गणेश पक्ष से लेकर दीपावली तक उनके करीब 1000 किलो गेंदे के फूल हर महीने रायपुर, आरंग व राजिम में बिक जाते थे लेकिन इस वर्ष कोरोना के कारण सिर्फ 150 किलो की बिक्री गणेश चतुर्थी पर हुई जबकि 250 किलो का ऑर्डर नवरात्रि के लिए मिला है।

उन्होंने बताया कि गेंदे की फसल 25 एकड़ में लगाते थे गेंदे लेकिन इस बार सिर्फ 5 एकड़ में ही लगाई है। बीज, खाद, मजदूरी, पानी का खर्चा मिलाकर 70,000 रुपए खर्च हुए वहीं ऑर्डर न मिलने के कारण हर महीने 20 हजार रुपए का नुकसान हो रहा है। उन्होंने बताया कि भरपाई के लिए जल्द ही 2 एकड़ खेत बेचेंगे।

फूल देने वाली जमीन को रेगहा पर देने की तैयारी

यही हाल बाकी फूल विक्रेताओं का भी है। फरहदा के फूल विक्रेता नीरज साहू ने बताया कि वे हर साल इन महीनों में 700 किलो गेंदे का फूल रायपुर में बेचते थे लेकिन इस बार सिर्फ 150 किलो ही बेच पाए हैं। उन्होंने बताया वो लगभग 20 से 30 रुपए किलो में फूल बेचते हैं वहीं रायपुर के व्यापारी उस फूल को 80 रुपये किलो बेचते हैं।

उनका कहना है इस बार के नुकसान से उबरने के लिए 2-3 साल लग जाएंगे। वहीं मोहरेंगा के कमलेश वर्मा ने बताया कि वे हर मरीने करीब 850 किलो फूल बेचते थे लेकिन इस बार 250 किलो ही बेच सके हैं। अब वे इस व्यापार को बंद कर देंगे व जमीन को किसी को रेगहा पर दे देंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें