भ्रष्टाचार का आरोप:जनपद सीईओ ने कहा सचिव को हटाएंगे, सरपंच पर जांच के बाद कार्रवाई

कोपरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रविवार को सरपंच-सचिव पर कार्रवाई के लिए हाईवे पर बैठे ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
रविवार को सरपंच-सचिव पर कार्रवाई के लिए हाईवे पर बैठे ग्रामीण।
  • सरपंच-सचिव को हटाने तीन घंटे हाईवे जाम किया

ग्राम कोपरा में सरपंच व सचिव पर भ्रष्टाचार का आराेप लगाकर कार्रवाई की मांग को लेकर ग्रामीणों ने रविवार को नेशनल हाईवे 130-सी पर सुबह 11 बजे चक्काजाम किया। जनपद सीईओ व तहसीलदार के लिखित आश्वासन के बाद दोपहर 2 बजे चक्काजाम खोला गया।

ग्राम पंचायत कोपरा में सरपंच-सचिव की कार्यप्रणाली व उनके द्वारा किए गए करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार की शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध ग्रामीणों ने रविवार को नेशनल हाईवे पर चक्काजाम किया। ग्रामीणों ने सरपंच व सचिव को हटाओ, गांव बचाओ के नारे लगाते हुए सभी वाहनों को लिखित आश्वासन मिलने तक रोककर रखा। वहीं कुछ एमरजेंसी को वाहनों को आने-जाने दिया गया। कृषि व ग्राम विकास समिति के अध्यक्ष भानुप्रताप साहू, उपसरपंच राजेश यादव, केंवरा साहू आदि ग्रामीणों ने बताया सरपंच-सचिव पर कार्रवाई के लिए शासन-प्रशासन को ज्ञापन दिए थे पर कार्रवाई नहीं हुई।

ग्रामीणों को मनाने में छूटे पसीने
तहसीलदार अनुपम टोप्पो, नायब तहसीलदार अंकुर रात्रे भी भीड़ को हटाने गांव के जनप्रतिनिधियों से बात की, लेकिन जनप्रतिनिधियों ने भी ठोस कार्रवाई के बाद ही भीड़ हटाने की बात कही। तहसीलदार व जनप्रतिनिधियों की बात लंबी चली, जिसमें तहसीलदार के पसीने छूट गए।

ये हैं प्रमुख शिकायतें
ग्रामीणों ने बताया रेत माफियाओं को बिना प्रशासन की अनुमति से सरपंच द्वारा अपनी ही मर्जी से स्वीकृत खसरा नंबर को छोड़कर अन्य खसरा नंबर में रेत उत्खनन की स्वीकृति दी गई। सरपंच द्वारा 14वें व 15वें वित्त की राशि को हड़पने की नीयत से अपने पति के बैंक खाते में पैसा हस्तांतरित किया गया। पिछले पंचवर्षीय में सरपंच द्वारा स्वच्छ भारत मिशन व मनरेगा के तहत ग्राम के अनेक हितग्राहियों का दोनों ही सूची में नाम दर्शाकर एक मद से शौचालय बनवाकर दूसरे मद की राशि 70 लाख रुपए गबन किया गया। इसके अलावा ग्राम के भंगा डबरी को 14वे वित्त की राशि से पटवा दिया गया। इसकी शिकायत पर तत्कालीन जिला सीईओ द्वारा जांच कर कार्रवाई के लिए एसडीएम राजिम को प्रस्तुत किया गया, लेकिन अब तक सरपंच पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। वहीं पंच व पंच पतियों के बैंक खाते में हजारों रुपए फर्जी तरीके से डाला गया।

ताला बंद कर काम कर रहे थे, पंचायत भवन सील
चक्काजाम समाप्त होते ही ग्रामीणों को पता चला कि रविवार को भी पंचायत सचिव उत्तम साहू पंचायत भवन में अंदर से ताला लगाकर कुछ काम कर रहे। इसके बाद ग्रामीण पंचायत भवन पहुंच ताला खुलवाकर सचिव को काम करने से मना किया और पांडुका पुलिस की उपस्थिति में पंचायत भवन को सील किया।

खबरें और भी हैं...