पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आयुष्मान पंजीयन में जिला टॉप-3 में:12 लाख के बनने है कार्ड अभी तक 6 लाख लोगों का हो चुका पंजीयन, 30 सितंबर तक बनाए जाएंगे

महासमुंद20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महासमुंद। च्वाईस सेंटर में आयुष्मान कार्ड बनाते हुए हितग्राही। - Dainik Bhaskar
महासमुंद। च्वाईस सेंटर में आयुष्मान कार्ड बनाते हुए हितग्राही।

जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने की अंतिम डेड लाइन 30 सितंबर है। जबकि अभी तक मात्र 6 लाख लोगों का ही आयुष्मान कार्ड बना है। 6 लाख लोग अब भी पंजीयन से दूर है। जिले में करीब 12 लाख लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाया जाना है। प्रदेश में आयुष्मान कार्ड बनाने के में जिला तीसरे नंबर पर है, लेकिन अभी तक 49 प्रतिशत ही काम हो पाया है। 51 प्रतिशत काम 30 सितंबर तक पूरा करना है। जिले में लोगों को इलाज में आर्थिक दिक्कत न हो इसके लिए आयुष्मान कार्ड बनाया जा रहा है।

इस कार्ड के माध्यम से सामान्य को 50 हजार एवं बीपीएल परिवारों को 5 लाख रुपए तक इलाज की सुविधा मिलेगी। बता दें कि लोगों में कार्ड बनाने के लिए उत्साह नहीं दिख रहा है, इसलिए 6 लाख लोग कार्ड बनाने के लिए शेष है। च्वाइस सेंटरों में कार्ड बनाया जा रहा है। आयुष्मान कार्ड प्रभारी ओंकार धुरंधर ने बताया कि 12 लाख 61 हजार 272 का आयुष्मान कार्ड बनाने का लक्ष्य रखा गया है। अब तक 6 लाख 12 हजार 754 लोगों का पंजीयन हो गया है। 6 लाख 48 हजार 518 लोगों का पंजीयन अभी शेष है।

31 अगस्त तक नहीं हुआ पंजीयन तो बढ़ा समय
कोराेना की पहली और दूसरी लहर के बीच जिस तरह से लोगों को इलाज की सुविधा के लिए जद्दोजहर करनी पड़ी वैसी दोबारा नौबत न आए, इसके लिए राज्य और केंद्र सरकार की ओर से हितग्राहियों को आकर्षक पैकेज दी है। इसके तहत केद्र सरकार से बीपीएल परिवारों को 5 लाख रुपए तक सालाना मुफ्त इलाज की सुविधा दी है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिले में कुल 12 लाख 61 हजार 272 का आयुष्मान कार्ड बनाने का लक्ष्य रखा गया है। शासन ने पंजीयन के लिए पहले 31 अगस्त अंतिम तिथि रखी थी, लेकिन यहां शत प्रतिशत हितग्राहियों का पंजीयन नहीं हो सका।

खबरें और भी हैं...