पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खरीदी का अंतिम दिन:4666 किसान धान बेचने नहीं पहुंचे उपार्जन केंद्र, महासमुंद में 14 अरब की हुई खरीदी

महासमुंद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • देर रात तक चलती रही प्रक्रिया इसके बावजूद बेचने के लिए बच गए किसान

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के अंतिम दिन पंजीकृत करीब तीन हजार 600 किसान धान ने धान नहीं बेच पाए। जिले में एक लाख 36 हजार 387 किसानों ने 14 अरब एक करोड़ 33 लाख 65 हजार का धान बेचा है। अब धान की खरीदी के लिए तारीख नहीं बढ़ेगी। इधर, अधिकारियों का कहना है कि जिलेभर में 3500 किसानों के लिए अंतिम दिन टोकन जारी किया गया था, लेकिन धान बेचने के लिए 3125 किसान ही आए थे। जिला खाद्य अधिकारी नितिश त्रिवेदी ने बताया कि जितने किसान धान बेचने के लिए उपार्जन केंद्र पहुंचे थे। उन सभी किसानों से धान देर रात तक खरीदी की गई है। शेष किसान धान बेचने के लिए केंद्र नहीं पहुंचे थे, इसलिए उनसें खरीदी नहीं हो पाई है। गौरतलब हो कि शुक्रवार को बारिश होने की वजह से अंतिम दिन धान बेचने में आपाधापी मच गई थी है। देर रात तक किसानों से धान की खरीदी की गई। जो किसान बेचने के लिए केंद्र नहीं पहुंचे थे, उनका धान नहीं लिया गया है। 29 जनवरी को धान बेचने के लिए 3500 किसानों ने टोकन लिया था। इन किसानों से एक लाख 76 हजार क्विंटल धान की खरीदी की जानी थी, लेकिन 3125 किसान से एक लाख 59 हजार 950 क्विंटल धान की खरीदी की गई। 16 हजार क्विंटल धान की खरीदी नहीं हो पाई। अब जो किसान धान बेचने उपार्जन केंद्र नहीं पहुंचे है, उन्हें सर्मथन मूल्य का लाभ मिलेगा। हालांकि पिछले साल की अपेक्षा इस बार 10 हजार किसानों ने अधिक पंजीयन कराया था। इसके चलते संभावित लक्ष्य तक खरीदी हुई है।

2020- 2021 में हुई खरीदी पर एक नजर

  • समर्थन मूल्य में धान बेचने एक लाख 40 हजार किसानों ने कराया पंजीयन
  • एक दिसंबर से समर्थन मूल्य पर शुरू हुई खरीदी
  • 29 जनवरी तक हुई खरीदी
  • एक लाख 36 हजार 387 किसानों ने बेचा धान
  • 138 समितियों के माध्यम से 75 लाख 89 क्विंटल की खरीदी
  • 20 लाख 91 हजार
  • क्विंटल धान का मिलर्स ने मिलिंग के लिए उठाया
  • उपार्जन केंद्राें से 8 लाख 98 हजार धान को भेजा
  • संग्रहण केंद्रों में 45 लाख 12 हजार क्विंटल धान 138 उपार्जन केंद्रों में

नहीं बढ़ेगी धान खरीदी की तारीख
धान खरीदी की अंतिम तिथि 31जनवरी तय की गई थी, लेकिन शनिवार-रविवार होने के कारण 29 जनवरी को प्रक्रिया पूरी कर ली गई। इधर, तिथि समाप्त होने के बाद भी वंचित किसानों को तारीख बढ़ने की उम्मीद है। अफसरों ने बताया कि मोहलत बढ़ाए जाने को लेकर अब तक राज्य शासन से कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। ऐसे में करीब 3600 वंचित किसानों की चिंता बढ़ गई है । बता दें कि पिछले सात एक लाख 30 हजार किसानों ने धान बेचने के लिए पंजीयन कराया था । जिसमें से 2 हजार ऐसे किसान थे, जिन्होंने धान नहीं बेचा था । शासन ने तिथि समाप्त होने के बाद पांच दिन बढ़ाया था, इसके बावजूद किसानों ने धान नहीं बेचा । इस साल भी इसी प्रकार की स्थिति देखने को मिल रही है । एक लाख 41 हजार 53 किसानों ने बेचने के लिए पंजीयन कराया है, लेकिन 4666 किसान धान नहीं बेचे हैं ।

परिवहन नहीं होने से खरीदी में हुई समस्या
प्रशासन द्वारा खरीदी की प्रक्रिया पूरी ताे कर ली गई है, लेकिन उन्हें सही समय में उठाव कराना आवश्यक है। उठाव नहीं होने से समस्या बढ़ जाएगी। वर्तमान में 22 से अधिक समितियां ऐसे है, जहां बफर लिमिट से अधिक धान उपार्जन केंद्र में रखा है। उठाव को लेकर खरीदी के 10 दिन बाद से समिति के लोग परेशान थे। उठाव को लेकर कई बार विपणन विभाग को पत्र भी लिखा गया था, लेकिन विभाग की लापरवाही के चलते उठाव में देरी की जा रही है। अभी भी उपार्जन केंद्र में 45लाख 12 हजार 754 क्विंटल धान रखा है। अंतिम दिन मिलर्स ने उपार्जन केंद्र से 20 हजार एवं संग्रहण केंद्र के लिए ट्रांसपोर्टरों ने 15 हजार क्विंटल धान का उठाव हुआ था ।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें