पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन का असर:दो सालों से रुका शहर; स्वीमिंग पूल, इंडोर स्टेडियम, एनएच अधूरे पड़े

महासमुंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण शहर में विकास कार्यों की रफ्तार दो साल से धीमी हो गई है। लॉकडाउन की वजह से निर्माण कार्यों के काम अब तक शेष हैं। कुछ प्रोजेक्ट के तो महज 10 प्रतिशत काम ही बचे हैं। लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के कारण शहर के विकास की रफ्तार धीमी हुई है। इसके चलते एनएच में पुलिया निर्माण, स्वीमिंग पुल, इंडोर स्टेडियम, पाइपलाइन, चौपाटी सहित अन्य विकास कार्य अटके पड़े है।

इन निर्माण कार्यों की समायावधि भी समाप्त हो गई है। निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए ठेकेदारों ने सरकार से अतिरिक्त समय लिया है, ताकि काम पूरा हो जाए, लेकिन इस साल भी लॉकडाउन लग गया। इधर, कोरोना की वजह से लॉकडाउन की अवधि बढ़ती जा रही है। इसके कारण निर्माण कार्य पर भी ब्रेक लग गया है। शहर के भीतर इन दिनों जितने भी विकास कार्य हो रहे हैं वे दो से तीन साल पुराने हैं। और इसके पूरे होने में अभी और इंतजार करना होगा। इस साल भी शहर के जनता को बजट का इंतजार था, लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के कारण बजट पेश नहीं हो पाया। संक्रमण कम होने के बाद बजट पेश कर किया जाएगा।

ताजा स्थिति
वन विभाग के खेल परिसर में छग गृह निर्माण मंडल की ओर से स्वीमिंग पूल का निर्माण कराया जा रहा है। इजीनियर का कहना है कि लॉकडाउन के कारण काम प्रभावित हो गया है। केवल 10 प्रतिशत काम ही शेष रह गया है। फिनिशिंग का काम चल रहा था, लेकिन लॉकडाउन के कारण काम बंद हो गया। टाइल्स लगाने का चल रहा है। लॉकडाउन खुलने के बाद एक महीने में काम पूरा हो जाएगा।

ताजा स्थिति- शहर के बीच से गुजरे एनएच-353 का चौड़ीकरण तो कर दिया गया है, लेकिन खरोरा पुल का निर्माण अभी बाकी है। वहीं सड़क किनारे पेवर ब्लॉक का भी काम शेष रह गया है। खरोरा पुल के निर्माण में हो रही देरी के कारण आवागमन में परेशानी हो रही है, वहीं डिवाइडर पर लगा ट्यूबलर लाइट भी नहीं जल पा रहा है। एनएच के इंजीनियर एके द्धिवेदी ने बताया कि लॉकडाउन के कारण काम प्रभावित हो गया है।

ताजा स्थिति- राष्ट्रीय राजमार्ग-353 बागबाहरा मार्ग पर में संजय कानन के पास इंडोर स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। निर्माण लगभग पूरा हो गया है। केवल फिनिशिंग का काम शेष रह गया है। राशि के अभाव में काम पूरा नहीं हो पाया है। शासन से राशि मिलते ही काम पूरा कराया जाएगा। नपाध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर ने कहा कि शासन से राशि मांगी गई है, लेकिन नहीं आया है। वर्तमान में करोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन है।

खबरें और भी हैं...