नए सत्र से शुरू होगा मेडिकल कॉलेज:जीएनएम भवन में क्लास व हॉस्टल, एएनएम भवन और लाइवलीहुड कॉलेज में खाेले जाएंगे डिपार्टमेंट

महासमुंद9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्लासरूम, हॉस्टल और विभागों के लिए भवन तलाशे गए

नए सत्र से महासमुंद का मेडिकल कॉलेज शुरू कर लिया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू कर ली गई है। मेडिकल कॉलेज शुरू होने से पहले ही कॉलेज भवन, हॉस्टल, डिपार्टमेंट शुरू करने संबंधी तैयारियां की जा रही है। इन्हें मेडिकल कॉलेज के मानकों के अनुरूप डेवलप किया जा रहा है। यही नहीं इंस्ट्रूमेंट्स खरीदी के साथ ही भवनों की रंगाई-पुताई सहित अन्य संसाधन जुटाने का काम शुरू कर लिया गया है। नए सत्र से मेडिकल कॉलेज महासमुंद में पढ़ाई शुरू करने को लेकर तैयारियां अभी से चालू है। वर्तमान में मेडिकल कॉलेज के लिए भवन तैयार नहीं है, लेकिन इसके स्थान पर वैकल्पिक व्यवस्था पूरी कर ली गई है। कॉलेज में बच्चों की पढ़ाई के लिए जीएनएम नर्सिंग सेंटर और एएनएम ट्रेनिंग परिसर के साथ लाइवलीहुड कॉलेज परिसर को चिह्नांकित किया गया है। क्लास रूम और डिपार्टमेंट को विभिन्न संसाधनों से लैस करने के लिए 12.8 करोड़ की लागत से विभिन्न सामाग्रियां खरीदी जाएगी। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया शुरू कर ली गई है।

जीएनएम बिल्डिंग
जीएनएम बिल्डिंग में मेडिकल कॉलेज के फ़र्स्ट ईयर की कक्षाएं संचालित होगी। बताया जा रहा है कि यहां क्लासरूम के साथ एचओडी केबिन, लाइब्रेरी और डीन ऑफिस होगा।

हॉस्टल
जीएनएम बिल्डिंग के पीछे हॉस्टल भवन है। भवन 128 बेड का है। मेडिकल कॉलेज के लिए 100 सीट की स्वीकृति मिलने का अंदाजा है। इस हिसाब से यह कैंपस हॉस्टल के काम आएगा।

एएनएम बिल्डिंग
एएनएम ट्रेनिंग बिल्डिंग को मेडिकल कॉलेज के अलग-अलग डिपार्टमेंट के रूप में डेवलप किया जाएगा। इसके अलावा बरोंडाबाजार में स्थित लाइवलीहुड कॉलेज में शेष डिपार्टमेंट शुरू करने की तैयारी है।

हॉस्पिटल परिसर
हॉस्पिटल परिसर को भी मेडिकल कॉलेज के अनुरूप डेवलप करने की तैयारी है। यहां नए इमरजेंसी वार्ड, सर्जिकल वार्ड, 2 नए ऑपरेशन थिएटर, सहित बैड की क्षमता बढ़ाने का काम किया जाएगा।​​​​​

तीनों नए मेडिकल कॉलेज में सबसे आगे हम
मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ पीके निगम ने बताया कि प्रदेश में खुलने वाले तीन नए मेडिकल कॉलेज में सबसे आगे महासमुंद है। महासमुंद कॉलेज के लिए 90 एकड़ की जमीन हमें मिल चुकी है। इसका नामांतरण भी पूरा हो चुका है। भवन निर्माण के लिए बजट में 100 करोड़ रुपए की स्वीकृति मिलने के साथ ही 12.8 करोड़ की लागत से इंस्ट्रूमेंट खरीदी की प्रक्रिया भी जारी है। कॉलेज संचालन के लिए भवनाें को उसके अनुरूप तैयार किया जा रहा है। इस तरह से महासमुंद मेडिकल कॉलेज का काम कांकेर और कोरबा से काफी आगे चल रहा है।

खबरें और भी हैं...