भ्रष्टाचार:रोजगार सहायक ने मृत व बाहरी लोगों के नाम मस्टर रोल में दर्ज कर निकाली रकम

महासमुंदएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजनांतर्गत कराए गये कार्यों में भारी भ्रष्टाचार करने एवं फर्जी मस्टररोल बनाकर शासकीय राशि का गबन करने के मामले में रोजगार सहायक की संलिप्तता सामने आई है। रोजगार सहायक मृत व्यक्तियों व अन्य प्रदेश काम में गए लोगों का नाम मस्टर रोल में दर्ज कर उसके नाम से शासकीय राशि का आहरण करना किया है। जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। पुलिस ने जांच के बाद सहायक आंतरिक लेखा परीक्षण एवं करारोपण अधिकारी की रिपोर्ट पर रोजगार सहायक के खिलाफ धारा 409, 420 के तहत अपराध दर्ज कर जांच में लिया है। मामला सरायपाली थाना क्षेत्र के ग्राम प्रेतनडीह का है। दरअसल जनपद पंचायत सरायपाली के सहायक आंतरिक लेखा परीक्षण एवं करारोपण अधिकारी रामलाल बाघ ने ग्राम प्रेतनडीह में मनरेगा के तहत हुए कार्यों व अन्य मामलों की शिकायत आवेदन पर जांच की। जांच में रोजगार सहायक द्वारा अनियमितता पाई गई। करारोपण अधिकारी ने मामले की जांच प्रतिवेदन सीईओ को सौंपी। सीईओ ने तुरंत रोजगार सहायक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए। इसके बाद करारोपण अधिकारी ने रोजगार सहायक के खिलाफ थाने में जांच प्रतिवेदन सौंपते हुए एफआईआर दर्ज कराई। 

जांच में ये बातें आईं सामने 
गांव के श्यामलाल एवं अन्य ग्रामीणों ने जनपद के सीईओ व थाना प्रभारी से शिकायत कर बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी कार्यों में फर्जी मस्टररोल नाम दर्ज किया गया है जांच में पता चला कि गांव कि धीरमती जिसकी मृत्यु  28 अक्टूबर 2016 को हो चुकी है, उसके नाम से तालाब गहरीकरण एवं पचरी निर्माण में 6 दिवस राशि 1032.00 शौचालय निर्माण 431 नग में 1 दिन राशि 172.0 रुपए एवं पनखत्ती तालाब गहरीकरण कार्य में 06 दिन राशि 1044.00 रुपए का फर्जी हाजरी भरा जाना पाया गया है। एक साल से बाहर शिव कुमार पिता कुंजल के नाम से फर्जी मस्टररोल भरकर राशि निकाली गई। 

खबरें और भी हैं...