लापरवाही / खरीदी के तीन महीने बाद भी उठाव नहीं खुले में पड़ा है पौने 3 लाख क्विंटल धान

X

  • डीएमओ ने कहा- सप्ताहभर में उठाने का लक्ष्य है, उठाव में आई है तेजी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

महासमुंद. धान खरीदी के तीन माह बाद भी जिले में शत-प्रतिशत धान का उठाव नहीं हो पाया है। अभी भी जिले के विभिन्न केन्द्रों में करीब पौने तीन लाख क्विंटल धान का उठाव बाकी है। केंद्रों में धान खुले में पड़ा है। इधर, समितियों को जीरो शार्टेज की चिंता सताने लगी है, क्योंकि इस बार पिछले वर्ष से अधिक शार्टेज आने की संभावना है। उठाव कब पूरा होगा यह भी पता नहीं है। इस संबंध में जिला विपणन अधिकारी संतोष पाठक का कहना है कि जिले में संग्रहण केन्द्रों के साथ खरीदी केन्द्रों से भी उठाव शुरू हो गया है। 
मिलर्स तेजी से धान का उठाव कर रहे हैं। आगामी सप्ताहभर के अंदर जिले में शत-प्रतिशत धान का उठाव कर लिया जाएगा। पहले की अपेक्षा अभी उठाव में तेजी आई है। जानकारी के मुताबिक जिले के 127 धान खरीदी केन्द्रों में से मात्र 36 खरीदी केन्द्रों में ही शत-प्रतिशत उठाव हो पाया है, शेष खरीदी केंद्रों में धान उठाव के लिए शेष है। विपणन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में कुल 2 लाख 85 हजार क्विंटल धान उठाव के लिए शेष है। विपणन विभाग का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से धान का उठाव प्रभावित हुआ था। 
पिथौरा व सरायपाली में 4 फीसदी उठाव बाकी 
जिले के महासमुंद और बागबाहरा ब्लॉक को छोड़ शेष तीनों ब्लॉक में धान उठाव के लिए शेष है। आंकड़ों के मुताबिक महासमुंद और बागबाहरा में ही 99 फीसदी उठाव हो गया है। पिथौरा में 96, बसना में 90 और सरायपाली में 96 इस तरह से जिले में कुल 96 फीसदी धान का उठाव हुआ है और 4 फीसदी धान उठाव के लिए शेष है। जानकारी के अनुसार जिले में परिवहन के लिए 173004 लाख क्विंटल मोटा और 110857 क्विंटल सरना और करीब 538 क्विंटल अन्य धान शेष है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना