पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑनलाइन पद्यति से परीक्षा:पहले व दूसरे सेमेस्टर के छात्र घर बैठे देंगे परीक्षा

महासमुंद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पीजी कक्षाओं में अध्ययनरत 500 से अधिक नियमित छात्र-छात्राओं की चिंता विश्वविद्यालय ने दूर कर दी है। पहले व तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा विश्वविद्यालय ऑनलाइन पद्यति से लेगाी। बता दें कि परीक्षा को लेकर पीजी कक्षा के छात्र-छात्राएं परेशान थे, क्योंकि इनकी दो से तीन विषय की परीक्षा हो चुकी थी। कोरोना संक्रमण बढ़ने के करण परीक्षा पर रोक लग गई थी।

अब इन छात्र-छात्राओं को पिछले साल की तरह इस वर्ष भी घर बैठे परीक्षा देनी होगी। तीसरे सेमेस्टर की परीक्षाएं 24 व पहले सेमेस्टर की परीक्षाएं 29 मई से शुरू होगी। उन्हें प्रश्न-पत्र कॉलेज के वेबसाइट पर मिल जाएगा। प्रथम व तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा सफलतापूर्ण समाप्त होने के बाद शेष दूसरे, तीसरे सेमेस्टर व स्नातक व स्नातकोत्तर कक्षाओं की वार्षिक परीक्षा ली जाएगी। संभवतः ये सारी परीक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से 7 जून से प्रारंभ होगी। कन्या कर्मा महाविद्यायल के प्राचार्य रमेश देवांगन ने बताया कि पहले व तीसरे सेमेस्टर की परीक्षा इसी महीने से प्रारंभ होगी। बैठक में निर्णय लिया गया है। इसके बार स्नातक व स्नाकोत्तर के नियमित व प्राइवेट छात्र-छात्राओं की परीक्षा होगी। ये परीक्षा संभवतः जून में प्रारंभ होगी।

कई चूके, लेकिन 12 अप्रैल तक फार्म भरने की थी अंतिम तिथि
महाविद्यालय की परीक्षा में शामिल होने के लिए कई विद्यार्थी चूक गए हैं। 12 अप्रैल तक विलंभ शुल्क के साथ फार्म भरने की अंतिम तिथि थी, लेकिन राजधानी में 6 अप्रैल से लॉकडाउन हो गया था।

स्नातक व स्नाकोत्तर की वार्षिक परीक्षा होगी जून में
स्नातक व स्नातकोत्तर की परीक्षा के संबंध में विश्वविद्यालय के अधिकारी प्राचार्यों से चर्चा के बाद 7 जून से प्रारंभ करने का निर्णय लिया है। कोरोना संक्रमण की स्थिति में यदि सुधार नहीं आया तो घर बैठे छात्र-छात्राओं को परीक्षा देना होगा। कॉलेजों के वेबसाइट पर प्रश्न-पत्र भेज दिए जाएंगे।

पिछले साल की तरह इस साल भी परीक्षा घर से ही देना होगा। बता दें कि ऑनलाइन किए गए आवेदनों की स्क्रृूटनी शुरू हो गई है। जिन-जिन छात्र-छात्राओं ने परीक्षा फार्म ऑनलाइन भरा है उन्हें ही परीक्षा देने की अनुमति मिलेगी। जिन्होंने आवेदन नहीं किया वे विश्वविद्यालय के हैल्पलाइन नंबर व विश्वविद्यालय के लेडलाइन नंबर पर फोन लगाकर समस्या बता सकते हैं।

खबरें और भी हैं...