लापरवाही से हादसा:रिएक्टर चेंबर से झुलसे घायल मजदूर की इलाज के दौरान मौत

महासमुंद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अभी भी 3 मजदूरों का चला रहा इलाज

औद्योगिक क्षेत्र बिरकोनी स्थित फर्नेश ऑयल फैक्ट्री में हुए हादसे में घायल 4 मजदूर में से 1 मजदूर की इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं 3 मजदूर का इलाज राजधानी के निजी अस्पताल में चल रहा है। 2 की स्थिति खतरे से बाहर है वहीं एक की तबियत 2-3 दिन से बिगड़ गई है। वह फिर खतरे के दायरे में आ गया है। फैक्ट्री के संचालक के द्वारा मृतक के परिवार को 50हजार रुपए की आर्थिक सहायता राशि दी गई है।

इधर जांच के बात हेल्थ एंड सेफ्टी विभाग के अफसर ने कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। फिलहाल फैक्ट्री सील है। अफसरों का कहना है कि फैक्ट्री में हादसा अप्रशिक्षित ऑपरेटर के चलते हुए है। इन चारों मजदूर को रिएक्टर के अंदर गैस रिलिस हुए बिना ही खोलने के लिए भेजा गया था।

जैसे ही रिएक्टर को खोला अंदर की गर्म गैस बाहर निकली और मजदूर उससे झुलस गए। इस संबंध में औद्योगिक स्वास्थ्य व सुरक्षा बलौदाबाजार/महासमुंद के सहायक संचालक आशुतोष पाण्डेय का कहना है कि फर्नेश ऑयल फैक्ट्री श्रीधाम में हुए हादसे में घायल ग्राम जलालपुर थाना सिंधवालिया जिला गोपालगंज बिहार निवासी मुकेश राय की शुक्रवार देर रात मौत हो गई।

इसकी हालत में सुधार नहीं आ पा रहा था। इसके अलावा अन्य मजदूर हर किशोर राय, गुड्‌डू राय एवं शैलेष रॉय का इलाज जारी है। उन्होंने बताया कि हर किशोर राय की हालत भी गंभीर है। उन्होंने बताया कि हादसे के बाद कंपनी के संचालक अरविंद महाजन की भी तबियत खराब होने से अस्पताल में भर्ती हैं।

औद्योगिक स्वास्थ्य व सुरक्षा के सहायक संचालक ने बताया कि आर्थिक सहायता राशि के एवज में मुकेश रॉय के परिजन को 50हजार रुपए संचालक की ओर से दिया गया है। 15 दिन के भीतर संचालक से कर्मचारी क्षतिपूर्ति अधिनियम के तहत 9 लाख 45 हजार श्रम न्यायालय के खाते में जमा कराया जाएगा। इसके बाद उक्त राशि को मृतक के परिजनों को देंगे। इसके लिए प्रकरण तैयार हो गया और श्रम न्यायालय में दायर कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि इधर तीनों मजदूरों के इलाज का खर्चा भी प्रबंधन के द्वारा कराया जा रहा है।

अप्रशिक्षित ऑपरेटर से करा रहे थे काम
फैक्ट्री के संचालक अरविंद महाजन फैक्ट्री का संचालन अप्रशिक्षित ऑपरेटर से करा रहे थे। इसी का खामियाजा इन 4 मजदूरों को भुगतना पड़ा। विभाग के अफसर ने बताया कि संचालक ने कुशल मशीन ऑपरेटर रखने के बजाए अकुशल ऑपरेटर को रखा। निरीक्षण के दौरान पाया कि फैक्ट्री में जो मशीन लगी है वो पूरी तरह से ऑटोमैटिक व नई वर्जन की मशीन है। ऑपरेटर की गलती से हादसा हुआ है।

बिना गैस रिलिज हुए ही खुलवाया था चेंबर
निरीक्षण के दौरान पाया कि ऑपरेटर ने रिएक्टर चेंबर का ढक्कन बिना गैस रिलिज हुए ही मजदूरों से खुलवा दिया। इसकी वजह से रिएक्टर से जो गर्म गैस थी ढक्कन खुलते ही मजदूर झुलस गए। बताया जा रहा है कि चारों एक साथ रिएक्टर के चेंबर का ढक्कन खोलने गए थे। हादसे में गोपालगंज बिहार के मुकेश राय, हर किशोर राय, गुड्‌डू राय व शैलेष राय घायल हो गए थे, जिसका जिला अस्पताल में इलाज के बाद राजधानी के निजी अस्पताल में रेफर कर दिया था।

खबरें और भी हैं...