पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बंद पर राजनीति:व्यापारी वर्ग दो फाड़, सरायपाली में लॉकडाउन के बीच कई दुकानें खुली

महासमुंद10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बंद का सभी व्यापारियों ने समर्थन नहीं किया,दूसरी तरफ लॉकाडउन होने और कोरोना से बाजारों में भीड़ कम रही, नपा अध्यक्ष बाेले- व्यापार खोलने का समय आ गया है

सरायपाली लॉकडाउन व्यापारियों के बीच वर्चस्व दिखाने के लिए राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है। इसी का नतीजा है कि व्यापारी वर्ग के दो फाड़ होने के कारण बुधवार से पांच दिन के लिए होने वाला सरायपाली लॉकडाउन असफल हो गया है। बंद का सभी व्यापारियों ने समर्थन नहीं किया। इसके कारण बंद असफल रहा। रोज की तरह सभी दुकानें अपने निर्धारित समय पर ही खुल गई थी। तीन दिन पहले जिन ऑटो पार्टस, होटल, किराना और इलेक्ट्रॉनिक्स व्यापारियों ने लॉकडाउन करने के लिए प्रशासन को ज्ञापन सौंपा था। वहीं दुकान खोले नजर आए। हालांकि कुछ व्यापारियों ने लॉकडाउन का समर्थन करते हुए अपनी दुकानें बंद रखी। दूसरी तरफ लॉकाडउन होने और नहीं होने के कश्मकमश के कारण बाजारों में भीड़ कम रही। सरायपाली में कुछ बड़े व्यापारियों ने लॉक डाउन किए जाने को लेकर प्रशासन को आवेदन दिया गया था जिसमें कहा गया था 16 से 20 सितंबर तक दुकानें बंद रखी जाएगी। वहीं सरायपाली के व्यापारियों ने इस बंद के आह्वान को पूरी तरह से नकार दिया और अपने प्रतिष्ठान खोलकर इसका जवाब दिया। शहर के 25% से अधिक दुकानें खुली रही।

कुछ लोगों की बात मानकर लॉकडाउन करना गलत: पटेल
सराईपाली नगर पालिका अध्यक्ष अमृतलाल पटेल ने बताया नगर के व्यवसायियों ने अपने प्रतिष्ठान खोलकर यह व्यक्त किया कि पिछले 5 महीनों के लॉकडाउन के कारण व्यापार बंद था जिस कारण व्यापारियों को बहुत नुकसान हुआ है। अब व्यापार खोलने का समय आया है। व्यापारी व्यापार के जरिए अपने उस नुकसान की भरपाई कर रहे हैं। वे दुकान खोलना चाहते हैं। ऐसे में कुछ लोगों की बात मानकर उनकी दुकान बंद कराना गलत है।

सरकार अनलॉक कर रही तो लॉकडाउन की जरूरत क्यों
नगर पालिका सभापति हरदीप सिंह रैना ने कहा कि व्यापारी शुरू से शासन के दिशा निर्देश का पालन करते आए हैं। जब शासन प्रशासन ने उन्हें बंद करने को कहा तो उन्होंने अपनी दुकानें बंद रखी। शासन के सभी निर्देशों का पालन किया। आज जब प्रशासन ने व्यापार करने की छूट दी है। मोदी सरकार अनलॉक 5 कर रही है। भूपेश सरकार ने लॉकडाउन करने से मना कर दिया है। इसके बावजूद दुकानदारों को व्यवसाय करने से मना करना उनके साथ अन्याय है।

तो इसलिए लॉकडाउन फेल
सभी व्यापारियों की रजामंदी नहीं ली गई। कुछ व्यापारि संगठन जैसे किराना, इलेक्ट्रिक, कपड़ा दुकान, ऑटो पार्ट्स, ऑटो डीलर्स, ,होटल संगठन ने लॉकडाउन करने का निर्णय लिया था। इन लोगों ने प्रशासन को लॉकडाउन करने की जानकारी भई दी थी। लेकिन जो लोग लॉकडाउन का समर्थन कर रहे हैं, उसमें लगभग सभी बड़े व्यापारी हैं। मामले में छोटे व्यापारियों से न ही चर्चा की गई और न ही उनकी रजामंदी जानी गई। इसके कारण छोटे व्यापारियों ने लॉकडाउन को पूरी तरह से नकार दिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें